Astrology: Personality of Cancer Zodiac Sign in Hindi

 

“रुकावटें और पीड़ाएँ जीवन में आवश्यक हैं। क्योंकि वे हमें धैर्य, प्रेम, कौशल और संघर्ष की महत्ता सिखाती हैं।”
– अरविन्द सिंह

 

Cancer Zodiac Sign in Hindi
संवेदनशील, भावुक और शांत स्वभाव वाले होते हैं कर्क राशि के जातक

Nature of Cancer Zodiac कर्क राशि का स्वभाव : –

जब जन्म कुंडली में चन्द्रमा कर्क राशि में हो, तो उस व्यक्ति की जन्मराशि कर्क होती है। कर्क राशि राशिचक्र की चौथी राशि है। इस राशि का विस्तार भचक्र के 90° से 120° तक है। इस राशि का स्वामी गृह चंद्रमा है, जो मनुष्य के मन का भी प्रतिनिधि है। यह ब्राहाण जाति की, स्त्री लिंग वाली, जल तत्व प्रधान राशि है। यह पश्चिम दिशा की स्वामिनी और सौम्य प्रकृति की, बहु संतति वाली राशि है।

इसका प्रतीक चिंह एक स्थिर व शांत केकड़ा है। इस राशि के जातक भी इस जीव की तरह सामान्यतः शांत स्वभाव वाले, भावुक और संवेदनशील होते हैं। ये मस्तिष्क से कम और ह्रदय से अधिक निर्णय लेते हैं। कर्क राशि के जातकों को गोचर के फलादेश इसी राशि के आधार पर देखने चाहियें। यदि व्यक्ति के जन्म के समय लग्न कर्क राशि का हो, तब भी यह जातकों पर अपना प्रभाव डालती है।

यह राशि व्यक्ति के शरीर में उसकी छाती/स्तन व फेफड़ों का प्रतिनिधित्व करती है। ग्रहों की अनुकूलता के अनुसार सूर्य, मंगल और बृहस्पति कर्क राशि में शुभ फल प्रदान करते हैं। बुध, शुक्र और शनि के लिये यह शत्रु राशि होने के कारण ये गृह प्रायः इसमें अशुभ फल देते हैं। कर्क राशि पर सूर्य 31 दिन 22 घडी और 35 पल रहते हैं। कर्क राशि के अंतर्गत पुष्य और आश्लेषा नक्षत्र के चारों चरण और पुनर्वसु नक्षत्र का अंतिम चरण आता है।

Personality of Cancer Person कर्क राशि के जातक का व्यक्तित्व –

कर्क राशि जल तत्व प्रधान है और जल शीतलता, निर्मलता व सौम्यता का स्रोत है; यही गुण कर्क राशि के जातकों में भी मिलते हैं। यह लोग भी शांत और संकोची प्रवृत्ति के, निर्मल और भावनाशील ह्रदय वाले होते हैं, दूसरों की पीड़ा को देखकर जल्दी ही द्रवित हो जाते हैं। चूँकि यह लगन से परिश्रम करते हुए, धैर्यपूर्वक अपने कार्य में जुटे रहते हैं, इसलिये जीवन में सफलता की सीढियाँ चढते चले जाते हैं।

यह जातक शांत मस्तिष्क से कार्य करते हैं। यदि चंद्रमा कमजोर न हो, तो इनका मनोबल भी बहुत उच्च होता हैं, अपनी इच्छाशक्ति के बल पर यह बड़े से बड़े कार्य कर सकते हैं। कर्क राशि के जातक नैसर्गिक रूप से बुद्धिमान, विवेकशील, विनम्र और लज्जालु होते हैं, पर साथ ही रसिकमिजाज, मूडी और अस्थिर स्वभाव वाले भी होते हैं।

यह लोग शांतिप्रिय, उदार और परोपकारी होते हैं, किसी भी जीव को कष्ट देना इनके स्वभाव में शामिल नही होता। सामर्थ्य होने पर यह प्रत्येक दुखी जीव की मदद करने का प्रयास करते हैं। यह प्रायः शांत ही रहते है और अनावश्यक बोलना पसंद नहीं करते। चूँकि ये धैर्यवान होते हैं और सहनशीलता भी इनमे अधिक होती है, इसलिये इन्हें जल्दी से क्रोध नहीं आता।

न ही यह किसी व्यक्ति की गलती को दिल में बसाकर रखते हैं, अपने कोमल स्वभाव के कारण यह जल्दी ही दूसरों को क्षमा कर देते हैं। कर्क राशि के जातक संवेदनशील होने के साथ-साथ अत्यंत कल्पनाशील भी होते हैं। इसलिये ये छोटी-छोटी बातों पर भी काफी विचार करते हैं, इनसे संबंध जोड़ते समय यह तथ्य अवश्य ध्यान में रखना चाहिये।

इनकी स्मरणशक्ति बहुत अच्छी होती है, इसी वजह से यह बहुत पुरानी घटनाओं या तथ्यों को आसानी से याद रख पाते हैं। ये शीघ्र ही उत्तेजित और जल्दी ही शांत भी हो जाते हैं, इस कारण से इनमे व्यवहारकुशलता का कुछ अभाव पाया जाता है। यह जातक आदर्शवादी सोच के होते हैं, पर ये विचारों से कम और भावनाओं से अधिक प्रेरित होते हैं।

जिस तरह चंद्रमा घटता-बढ़ता रहता है, उसी तरह इनकी मनोवृत्तियाँ भी तेजी से बदलती रहती हैं। यह सरल स्वभाव के और कार्यकुशल तो होते हैं, लेकिन अधिक भावुक होने के कारण, दूसरे लोग कभी-कभी इनसे अनुचित लाभ भी उठा लेते हैं।

Physique and Nature of Cancer Person कर्कराशि के जातक का शरीर और स्वभाव : –

कर्क राशि के जातकों का स्वास्थ्य आम तौर पर अच्छा ही रहता है, पर यदि ग्रह स्थिति प्रतिकूल हो, तो इन्हें उदर, फेफड़ों और ह्रदय से संबंधित रोगों के होने की सम्भावना रहती है। अधिक भावुकता व संवेदनशीलता के कारण यदि इनका मानसिक संतुलन बिगड़ जाय, तो इन्हें डिप्रेशन और दूसरे मनोरोगों के होने की भी प्रबल सम्भावना रहती है।

कर्क राशि के जातक जिस क्षेत्र में भी होते हैं, वहीँ अपनी उन्नति के लिये प्रयासरत रहते हैं। इनमे प्रबल जिज्ञासा, बुद्धिमत्ता, धैर्य, अध्यवसाय जैसे गुण होते हैं, जिनके बल पर यह उच्च पद, प्रतिष्ठा, यश, मान-बड़ाई प्राप्त करते देखे जाते हैं। यह लोग सोच-विचारकर ही कोई निर्णय लेते हैं और फिर उस पर पूर्ण मनोयोग से कार्य आरम्भ कर देते हैं।

आजीविका के रूप में यह जातक चंद्रमा से संबंधित क्षेत्रों का चयन करते हैं, जिनमे चिकित्सा, अध्यापन-लेखन, संगीत और कला के दूसरे क्षेत्र शामिल हैं।  इसके अतिरिक्त ये जातक दुग्ध, रत्न व श्रृंगार के व्यवसाय में भी सफल हो सकते है। कर्क राशि के जातकों को प्रकृति, कला, सौंदर्य और श्रृंगार से विशेष प्रेम होता हैं।

इनके मन में विपरीत लिंगियों के प्रति विशेष आकर्षण रहता है, परन्तु संकोची होने के कारण यह पहल नहीं कर पाते। प्रेम संबंधों में प्रायः असफल ही रहते हैं।  इन्हें शीतल प्रकृति के स्थान व ऐसी वस्तुओं का सेवन करना स्वाभाविक रूप से प्रिय होता है, जैसे – नदियाँ, झरने, वन, पर्वत और समुद्र। इन्हें ऐसा एकांत भी काफी प्रिय होता है, जहाँ ये घंटों अपनी कल्पनाओं में खोये रह सकें।

यह चंचल और घूमने-फिरने के शौक़ीन होते हैं, सजने-संवरने और नाच-गाने में भी इनकी काफी रूचि रहती है। यह जातक अपने परिवार और जीवनसाथी के प्रति बहुत समर्पित होते हैं और उनका विशेष ध्यान रखते हैं। दूसरे अर्थों में कहें तो इन्हें अपने प्रियजनों से बहुत मोह रहता है।

“कोई भी मूर्ख जान सकता है। असली बात समझना है।”
– अल्बर्ट आइंस्टीन

 

Comments: आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि जीवनसूत्र को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। एक उज्जवल भविष्य और सुखमय जीवन की शुभकामनाओं के साथ!