Vivekananda’s Happy Life Secrets in Hindi

 

“मानव-देह ही सर्वश्रेष्ठ देह है, एवं मनुष्य ही सर्वोच्च प्राणी है। क्योंकि इस मानव-देह तथा इस जन्म में ही हम इस सापेक्षिक जगत से पूरी तरह बाहर हो सकते हैं। निश्चय ही मुक्ति की अवस्था प्राप्त कर सकते हैं, और यह मुक्ति ही हमारा चरम लक्ष्य है।”
– स्वामी विवेकानंद

 

Secrets of Happy Life in Hindi by Swami Vivekananda
और कुछ नहीं सिर्फ स्वर्ग ही इससे ज्यादा खूबसूरत हो सकता है

एक उपहार के रूप में जीवन सभी प्राणियों को मिला है, पर मनुष्यों के लिये यह विशेष है। ईश्वर के पास शायद ही इससे बढ़कर कोई दूसरा अमूल्य उपहार होगा, जो उन्होंने हमें मनुष्य जीवन के रूप में दिया है। जिसके मूल में है, अत्यंत विकसित बुद्धि और दिव्य प्रेम से भरा भावनाशील ह्रदय। जीवन क्या है?, कैसे इसे जिया जाय?, क्या हमारे जीवन का उद्देश्य है? आदि बातों पर समय-समय पर अनेकों महापुरुषों ने अपनी प्रखर वाणी के जरिये प्रकाश डाला है।

इन महापुरुषों में स्वामी विवेकानंद का स्थान बहुत ऊँचा है। इसी श्रंखला में युगद्रष्टा, महान देशभक्त और भारतीय संस्कृति का सन्देश विश्व भर में फैलाने वाले, अतुल्य स्वामी विवेकानंद के समय-समय पर दिये गए ओजस्वी भाषणों में से, चुनकर लिये गए 20 महत्वपूर्ण सन्देश प्रस्तुत हैं, जो जीवन की दिव्यता को और भी अधिक स्पष्ट करते हैं।

1. Love is The Law of Life प्यार ही जीवन का नियम है : –

संपूर्ण प्रेम ही विस्तार है, और संपूर्ण स्वार्थ ही संकुचन है। इसीलिए प्रेम ही जीवन का एकमात्र नियम है। वह जो प्रेम करता है, जीवित रहता है और वह जो स्वार्थी है, मरने वाला है। प्रेम हमेशा पारस्परिक और परावर्तनीय होता है। हम प्रेम, शील और पवित्रता में जितने ज्यादा बढ़ते है, उतने ही प्रेम, शील और पवित्रता को हम बाहर भी देखते हैं।

इसलिए प्रेम के लिए ही प्रेम कीजिये, क्योंकि यही जीवन का नियम है। ठीक उसी तरह से जैसे आप जिन्दा रहने के लिए सांस लेते हैं। इस संसार को ऐसे लोगों की प्रतीक्षा है, जिनका जीवन ही ज्वलंत–निःस्वार्थ प्रेम का प्रतीक हो। ऐसे व्यक्ति का प्यार उसके द्वारा बोले गये हर शब्द को बिजली बना देगा और कोई भी इंसान उसका प्रतिकार नहीं कर पायेगा।

2. You have The Power आपके पास शक्ति है : –

पवित्रता की शक्ति एक अमोघ शक्ति है। संपूर्ण शक्ति आपके भीतर समायी हुई है। आप कुछ भी और जो चाहे वह सब कर सकते हैं। इस बात में विश्वास कीजिये। इस पर बिलकुल विश्वास मत कीजिये कि आप कमज़ोर हैं; बिलकुल भी विश्वास मत कीजिये कि आप आधे पागल या झक्की हैं, जैसा कि आजकल हममे से ज्यादातर लोग करते हैं। पवित्रता, धैर्य और द्रढ़ता, ये सफलता के तीन अत्यावश्यक अंग हैं, और इन सबसे ऊपर है प्यार! खड़े हो जाइये और अपने भीतर भरी हुई दिव्यता को व्यक्त कीजिये।

3. The World is Beautiful संसार सुन्दर है : –

सबसे पहले इस दुनिया में यह विश्वास कीजिये कि यहाँ हर चीज़ के पीछे कोई न कोई अर्थ अवश्य है। इस दुनिया में हर चीज़ अच्छी है, पवित्र है और सुन्दर है। यदि आप कुछ गलत देखते हैं, तो यह सोचिये कि आप इसे सही तरह से समझ नहीं पा रहे हैं। हमें अपना दिल इतना बड़ा बनाना चाहिए जितना कि सागर, ताकि हम संसार की समस्त क्षुद्रताओं से परे जा सकें और इसे एक चित्र के रूप में ही देखें। तभी हम इस संसार का वास्तविक आनंद ले सकेंगे, इससे किसी भी प्रकार से प्रभावित हुए बिना।

4. Believe in Yourself स्वयं में विश्वास कीजिये : –

आप जो कुछ भी सोचते हैं, वैसे ही आप बन जायेंगे। अगर आप खुद को कमज़ोर समझते हैं, तो आप कमज़ोर ही बनेंगे; अगर आप खुद को ताकतवर समझते हैं, तो निश्चय ही आप शक्तिशाली होंगे। यदि आप खुद को ऋषि समझेंगे, तो आप कल ऋषि ही बनेंगे। कोई भी चीज़ आपको ऐसा बनने से नहीं रोक सकती है।

खुद के प्रति सच्चा होना ही सबसे बड़ा धर्म है। अपने आप में विश्वास कीजिये क्योंकि आत्मविश्वास ही सच्चा मित्र है। जब तक आप खुद में विश्वास नहीं करते हैं, तब तक आप भगवान् में भी विश्वास नहीं कर सकते हैं।

5. Character is the True Wealth चरित्र ही वास्तविक धन है : –

इस दुनिया को जिस चीज़ की सबसे ज्यादा जरुरत है – वह है चरित्र। न तो धन से कुछ हो सकता है, न ही यश कुछ दे सकता है, न ही नाम और न ही विद्वत्ता की कोई जरुरत है, बल्कि यह तो चरित्र है, जो भेदों की वज्रमयी दीवारों को चीर डालता है। किसी भी मनुष्य का मूल्यांकन उनकी बुराइयों से नहीं करना चाहिए। किसी व्यक्ति के भीतर जो अच्छाइयां होती हैं, वे विशेषतया उनकी ही होती हैं।

लेकिन उनकी गलतियाँ मानवता की सामान्य कमियाँ होती हैं, और इसीलिए किसी व्यक्ति का चरित्र निर्धारित करने में उन्हें कभी शामिल नहीं करना चाहिए। यह तो केवल चरित्र की सुद्रढ़ इमारत और सत्य का साक्षात्कार करने का अदम्य संघर्ष है, जो मानवता के भविष्य को वास्तव में उज्जवल बनायेगा।

6. Firm Idea is The Way to Success दृढ विचार ही सफलता का रास्ता है : –

एक विचार पर स्थिर रहिये। उस विचार को अपना जीवन बना लीजिये। इसके बारे में सोचिये। इसके बारे में सपने संजोइए। इस विचार में इस तरह जियें कि मस्तिष्क, मांसपेशियां, नसें, और आपके जिस्म का हर हिस्सा, उस विचार से भर जाए और दूसरे प्रत्येक विचार को छोड़ दें। यही सफलता का एकमात्र रास्ता है और यही वह रास्ता है, जिस पर चलकर महान आध्यात्मिक महापुरुषों का निर्माण होता है, दूसरे तो केवल बातूनी मशीने हैं।

7. The Devil is The Compromise समझौता ही शैतान है : –

समझौतों से सबसे ज्यादा सावधान रहिये। मेरा तात्पर्य यह नहीं है कि आप किसी के भी विरोध में उतर जाइये, लेकिन आपको अपने सिद्धांतों पर सुख या दुःख, हर हाल में डटे रहना है और दूसरे किसी के लिए भी उन्हें बदलना नहीं है। खुद का समर्थन करने के लालच में भी नहीं। क्योंकि तभी आप उस परम सत्य की झलक पा सकेंगे जो सर्वत्र क्रियाशील होता हुआ भी अद्रश्य और अज्ञेय है। याद रखिये, आपका आत्मा ब्रह्माण्ड का आश्रय है।

8. Be Truthful सत्यवादी बनिए : –

जो सत्य है, उसे साहसपूर्वक निर्भीक होकर लोगों से कहिये – उससे किसी को कष्ट होता है या नहीं, इस ओर ध्यान मत दीजिये। दुर्बलता को कभी प्रश्रय मत दो। सत्य की ज्योति ‘बुद्धिमान’ मनुष्यों के लिए यदि अत्यधिक मात्रा में प्रखर प्रतीत होती है, और उन्हें बहा ले जाती है, तो ले जाने दो – वे जितना शीघ्र बह जाएँ उतना अच्छा ही है।

याद रखिये – सत्य के लिए सब कुछ छोड़ा जा सकता है, लेकिन सच को किसी भी चीज़ के लिए नहीं छोड़ा जा सकता। सत्य पवित्रता और परमार्थ – ये जहाँ कहीं भी उपस्थित होंगें, सूरज से ऊपर हो या नीचे, ऐसी कोई ताकत नहीं है, जो उस व्यक्ति को हिला सके। इनसे युक्त होने पर, तो व्यक्ति संपूर्ण ब्रह्माण्ड के विरोध का सामना करने में सक्षम हो जाता है।

9. Nothing is Impossible कुछ भी असंभव नहीं है : –

मै पूरी तरह इस बात में यकीन करता हूँ कि इस ब्रह्माण्ड की कोई भी शक्ति, किसी भी व्यक्ति को उस चीज़ को हासिल करने से नहीं रोक सकती है, जिसका वह वास्तव में हकदार है। यदि मन अपनी पूर्ण क्षमता में जाग्रत है, तो हर चीज़ पायी जा सकती है – पहाड़ों को भी ख़ाक में मिलाया जा सकता है।

हमारी इच्छाशक्ति, दूसरी किसी भी चीज़ से ज्यादा शक्तिशाली है। प्रबल इच्छाशक्ति के सामने हर चीज़ को सिर झुकाना पड़ेगा, क्योंकि यह भगवान् से आती है। एक शुद्ध और शक्तिशाली संकल्प सर्वशक्तिमान है।

10. Ultimate Freedom is Your Aim पूर्ण स्वतंत्रता ही आपका उद्देश्य है : –

यदि आप सोचते हैं कि आप बंधन में पड़े हैं, तो आप बंधन में ही रहेंगें; आप अपना बंधन खुद ही बनाते हैं। अगर आप जानते हैं कि आप मुक्त हैं, तो आप इसी क्षण मुक्त हैं। हम हमेशा मुक्त ही रहेंगे, यदि हम केवल इसका विश्वास कर सकें, केवल पर्याप्त विश्वास हो। याद रखिये – आप आत्मा हैं, मुक्त और शाश्वत, सदामुक्त, सदाआनंदित।

यह ज्ञान है – मुक्ति का, स्वतंत्रता का ज्ञान। हमें खुद को स्वतंत्र करने के लिए जानने की जरूरत है। यह हमारा जीवन है: स्वतंत्रता के लिए हमारी विश्वव्यापक छटपटाहट। स्वतंत्रता संपूर्ण प्रकृति का उद्देश्य है

11. Be A Hero एक वीर नायक बनिए : –

मुश्किल चुनौतियों का सामना कीजिये। यह संपूर्ण जीवन के लिए एक सबक है – खतरे का सामना कीजिये, साहस से सामना करिए। बंदरों की तरह, जीवन की मुश्किलें भी पीछे लौट पड़ेंगी, जब हम उनके सामने भागना बंद कर देंगे। यह एक अमिट सत्य है कि यह धरती वीर पुरुषों द्वारा ही भोगी जाती है। इसलिए एक वीर और सच्चे विजेता बनिये। हमेशा कहिये, “मुझे किसी चीज़ का डर नहीं है” और हर किसी को यह बता दीजिये – किसी से भी मत डरिये।

12. Uphold Your Ideals अपने आदर्शों पर कायम रहिये : –

क्या पहाड़ जैसी चुनौतियों का सामना करने लायक इच्छाशक्ति आपने हासिल कर ली है? यदि समस्त संसार आपके विरुद्ध हाथ में तलवार लेकर खड़ा हो जाये, तो क्या आप तब भी उस कार्य को करने का माद्दा रखते है, जिसे आप सही समझते हैं? अपने मस्तिष्क को उच्च विचारों, उच्च आदर्शों से भर लीजिये, रात-दिन उन्हें अपनी आँखों के सामने रखिये, और उन्ही के जरिये महान कार्य पूरे होंगे।

हमारा कर्तव्य है कि हम प्रत्येक व्यक्ति को उसके संघर्ष में प्रोत्साहित करें। जिससे वह स्वयं के उच्चतम आदर्शों के लिए जी सकें, और साथ-साथ इस बात के लिए भी प्रयास करें कि अपने आदर्शों को सत्य के ज्यादा से ज्यादा समीप ले जा सकें।

13. Serve the Mankind मानवता की सेवा :

अगर आप मदद कर सकते हैं, तो कीजिये; यदि आप नहीं कर सकते हैं, तो अपने हाथ जोड़ लीजिये और खड़े रहकर चीज़ों को होता हुआ देखिये। अगर आप किसी की मदद नहीं कर सकते, तो कम से कम चोट तो मत पहुंचाइए। इस संसार में हमेशा देने वाले की हैसियत रखिये। सब कुछ दीजिये और बदले में कुछ भी पाने की आशा मत रखिये।

प्यार दीजिये, मदद करिए, आप दे सकते हैं, तो एक छोटी तुच्छ चीज़ भले ही दीजिये, लेकिन सौदेबाजी को दूर ही रखिये। कोई शर्त मत लगाइए और फिर आप पर भी कुछ नहीं थोपा जायेगा। हमें उसी तरह से अपने खुले हाथों से देना चाहिए, जैसे भगवान् ने हमें दिया है। केवल वे ही जिन्दा हैं, जो दूसरों के लिए जीते हैं, बाकी तो जीवित रहने की अपेक्षा मुर्दे ज्यादा हैं।

14. Do Not Play The Blame Game आलोचना का खेल मत खेलिए : –

किसी की भी निंदा मत करिये। दूसरों की निंदा या आलोचना, वास्तव में अपनी ही निंदा है। अपने सीमित दायरे (जो आपके अपने हाथ में है) को व्यवस्थित कीजिये और फिर सारा संसार इसे आपके लिए व्यवस्थित कर देगा। सीखने के लिए यह पहला सबक है: बाहर की किसी भी चीज़ की आलोचना न करने का संकल्प लीजिये, किसी पर भी इल्जाम मत लगाइए, बल्कि खड़े होकर खुद पर ही इल्जाम लगाइए। आप पाएंगे कि यही शाश्वत सत्य है। स्वयं पर नियंत्रण रखिये।

15. Realize Yourself स्वयं को जानिये : –

खुद को जानिये। अपने आप को जानिये, जो कि आप वास्तव में हैं – शाश्वत आत्मा। यही वास्तविक धर्म है। दूसरी हर चीज़ झूठी है, क्योंकि बाकी सभी चीज़े एक दिन गायब हो जाएँगी। स्वयं को दूसरे शरीरों के भीतर महसूस करना सीखिए, यह जानिए कि हम सभी एक ही हैं। जितना ही हम भगवान् के समीप होंगे, रोने या चिल्लाने के उतने ही कम अवसर हमारे जीवन में आयेंगे।

लेकिन, जितने हम ईश्वर से दूर होंगे, उतने ही उतरे हुए चेहरे हमें दिखाई देंगे। जितना अधिक हम ईश्वर को जानेंगे, उतना दुःख हमारे जीवन से दूर होता चला जायेगा। दूसरी सभी बकवास बातों को भूल जाइये। याद रखिये, सुख या आनन्द के लिए हमें इस संसार पर निर्भर नहीं रहना है।

16. You are the Creator Of Your Destiny अपने भाग्य के निर्माता आप स्वयं हैं : –

खड़े हो जाइये, साहसी बनिए, शक्तिशाली बनिए। जिम्मेदारी का सारा बोझ अपने खुद के कन्धों पर उठाइए, और इस बात को जानिये कि अपनी किस्मत को बनाने वाले आप खुद ही हैं। जो कुछ भी शक्ति और सहायता आप चाहते हैं, वो आपके खुद के भीतर ही है। इसीलिए, अपना नसीब खुद बनाइये। हम जो कुछ भी बोते हैं, वही काटते हैं।

अपने भाग्य के निर्माता हम स्वयं हैं। इसका दोष किसी और को देने की जरुरत नहीं है, इसके लिए किसी देवता की प्रशंसा करने की जरुरत नहीं है। जो लोग पूरे दिल और आत्मा की समस्त शक्तियों से काम करते हैं, वे न केवल उसमे सफलता ही हासिल करते हैं, बल्कि उसमे डूबकर, वे छुपे हुए परम सत्य को भी जान लेते हैं।

17. Learn Everyday प्रतिदिन सीखिए : –

मनुष्यजाति का उद्देश्य ज्ञान की प्राप्ति है। यह ज्ञान सभी मनुष्यों के स्वयं के भीतर छुपा पड़ा है। कोई ज्ञान बाहर से नहीं प्रकट होता, यह तो पूर्णरूप से हमारे अपने ही अंदर है। मानवीय प्रकृति की गहन समझ सर्वोच्च ज्ञान है, और केवल इसे जानकार ही हम भगवान् को जान सकते हैं। आदमी जो कुछ भी सीखता है, वास्तव में वह है, जो वह अपने स्वयं के आत्मा के ऊपर पड़े पर्दों को उघाड़कर जान पाता है, जो कि शाश्वत ज्ञान की खान है। याद रखिये, सुखमय जीवन का रहस्य सांसारिक भोग नहीं है, बल्कि अनुभव के द्वारा ज्ञान की प्राप्ति है।

18. Strength is Life शक्ति ही जीवन है : –

अपनी खुद की ताकत में ही जियें और मरें। शक्ति ही जीवन है, कमजोरी ही मौत है। शक्ति सुखदायक है, अविनाशी है और शाश्वत जीवन है। दुर्बलता निरंतर तनाव और दुःख है; दुर्बलता ही मृत्यु है। शक्ति का सर्वोच्च प्रतीक है – खुद को विनम्र रखना और अपने पांवों को जमीन पर टिकाये रखना। जो कुछ भी अच्छे या बुरे काम आपने किये हो उनको पूरी तरह त्याग दे।

उन्हें बिलकुल भूल जाएँ और फिर कभी उनके बारे में मत सोचें। जो कुछ हो चुका है, अब उसे किसी तरह नहीं लौटाया जा सकता। अगर मृत्यु सामने खड़ी हो, तो भी आपमे कोई कमजोरी प्रकट नहीं होनी चाहिये। अपने आप को कमज़ोर समझना सबसे बड़ा पाप है, क्योंकि यह आपकी असीम शक्ति का सबसे बड़ा दुश्मन है।

19. It is Your Outlook That Matters आपका द्रष्टिकोण ही वास्तविक चीज़ है : –

यह हमारा खुद का मानसिक द्रष्टिकोण है, जो संसार को वैसा ही बनाता है जैसा कि यह हमारे लिए है। हमारा द्रष्टिकोण ही चीज़ों को सुन्दर बनाता है और द्रष्टिकोण ही चीज़ों को बदसूरत बनाता है। सारा संसार हमारे मन में समाया हुआ है। चीज़ों को सही रौशनी में देखने का प्रयास कीजिये। हमेशा पहले एक सेवक बनना सीखिए, और उसके बाद आप एक योग्य स्वामी बन सकेंगें। ईर्ष्या को खुद से दूर कीजिये, और तब आप वे महान कार्य कर पायेंगे, जो अभी किये जाने बाकी हैं।

20. Do Not Look Back पीछे मुड़कर मत देखिये : –

पीछे मत देखिये। केवल आगे की ओर देखिये। असीमित उर्जा, असीमित उत्साह, असीमित साहस और असीमित धैर्य – केवल इनके जरिये ही महान कार्य पूर्ण हो सकते हैं। जो किया जा चुका है, उसे पीछे पलटकर मत देखिये। आगे बढिए! जब आप किसी कार्य को करने का संकल्प कर लें, तो किसी भी चीज़ को अपने रास्ते की अड़चन मत बनने दीजिये। अपने निश्चल ह्रदय की सुनिए, दूसरों की नहीं, और तब यह जो निर्णय दे, उस पर बेहिचक आगे बढ़ चलिए।

“सच्ची सफलता का, सच्चे सुख का महान रहस्य है – जो पुरुष या स्त्री बदले में कुछ नहीं चाहते हैं और जो पूर्णतया निःस्वार्थ मनुष्य हैं, वही इस संसार में सबसे अधिक सफल हैं।”
– स्वामी विवेकानंद

 

Comments: आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि जीवनसूत्र को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। एक उज्जवल भविष्य और सुखमय जीवन की शुभकामनाओं के साथ!