Positive Attitude is The Key to Success in Hindi

 

“कामयाबी के लिये, नजरिया उतना ही जरूरी है जितनी कि योग्यता।”
– वाल्टर स्कॉट

 

How to Build Positive Attitude in Hindi
लोग आपके शब्द नहीं, आपका नजरिया महसूस करते हैं

Success Depends on Positive Attitude कामयाबी और आपका नजरिया : –

कामयाबी और नाकामयाबी का नजरिये से बड़ा सम्बन्ध है। यूँ तो कई बार कड़ी मेहनत करने पर प्रतिभाशाली लोग भी असफल होते देखे जाते हैं, लेकिन वास्तव में एक बार में ही इच्छित परिणाम न मिलना असफलता नहीं है, बल्कि अपनी क्षमताओं पर संदेह करके प्रयास छोड़ बैठना ही यथार्थ में विफलता है। दृढ निश्चय करने वाले आशावादी लोग जब अगले कुछ ही प्रयासों में सफल हो जाते हैं, तो इसमें दो बातें काम कर रही होती हैं।

पहला वह – जिसे हम परिश्रम कहते हैं। उनका पिछला परिश्रम बेकार नहीं गया, बल्कि वह विरासत में मिली हुई पूँजी की तरह काम आया, जिससे उन्हें वैसी मेहनत न करनी पड़ी, जैसी किसी नौसिखिये को करनी पड़ती। दूसरा एक सकारात्मक द्रष्टिकोण – जिसने उन्हें इस बात के लिए आशान्वित बनाये रखा कि आगे प्रयास जारी रखने पर वे निश्चित रूप से सफल होंगे।

शायद इसीलिए इंग्लैंड के महान राजनीतिज्ञ विंस्टन चर्चिल कहते हैं – “नजरिया एक छोटी चीज है जो बड़ा अंतर पैदा कर देती है।” Attitude एक ऐसी चीज है जिसे हम जन्म से अपने साथ लेकर आते हैं और जिसे हम आगे चलकर भी विकसित कर सकते हैं। हालाँकि इसे विकसित करना थोडा Painstaking (कष्टसाध्य) अवश्य है।

क्योकि हमारे चित्त में सोये पड़े संस्कार और बहुत लम्बे समय से चली आ रही आदतें तुरंत नहीं बदली जा सकती है। लम्बे समय तक अच्छी आदतों का अभ्यास करके ही अपना द्रष्टिकोण बदला जा सकता है। सामान्यतः द्रष्टिकोण हमारे बिना जाने ही हमारे जीवन की ज्यादातर घटनाओं को अपने अनुसार नियंत्रित करता चला जाता है।

Positive Attitude Governs Happy Life सुखी जीवन के लिये चाहिये अच्छा नजरिया : –

सकारात्मक नजरिये वाले लोग, जहाँ कहीं भी जाते हैं, वहीँ हमेशा एक खुशनुमा माहौल तैयार कर देते हैं। लोग उनकी संगति पसंद करते हैं। वे न केवल खुद विनम्र, धैर्यवान और आत्म-विश्वासी होते हैं, बल्कि दूसरों को भी वैसा बनने को प्रेरित करते रहते हैं। एक बेहतर नजरिया विकसित किये बिना, जिंदगी में कोई भी अच्छी चीज हासिल कर पाना असंभव है।

एक Positive Attitude develop करने के लिए आपको अपने विचारों और क्रियाओं पर लगातार नज़र रखनी पड़ेगी और वह भी एक लम्बे समय तक। आप आज ही इस बात का संकल्प कर लीजिये कि आप हमेशा अच्छा ही सोचेंगे और बुरे विचारों को खुद से दूर रखेंगे। हो सकता है कि आरम्भ में आपके सामने कई मुश्किलें पेश आयें और आप उनसे विचलित हो जाँय, लेकिन हतोत्साहित न होकर आगे ही बढ़ते रहिये।

क्योंकि सुख और दुःख मन की अवस्था के ही नाम हैं। आज जो चीज़ें आपको परेशान कर रही हैं, कल वही आपके आत्मबल के सामने हार मानकर एक नये व सुखद स्वरुप में प्रकट होंगी और तब आप जो कामयाबी हासिल करेंगे, वह आपको एक असीम संतोष प्रदान करेंगी। नीचे दी जा रही कुछ बातें निश्चित ही हमारे नजरिये को सकारात्मक बनाने में सहायक होंगी।

How to Change Your Attitude आप अपना नजरिया कैसे बदल सकते हैं : –

1. हमेशा सही बातों को सोचने पर ध्यान दीजिये।

2. नकारात्मक लोगों या शिकायती लोगों से बचकर रहिये।

3. जीवन में समत्व लाने का अभ्यास कीजिये। दूसरों की निंदा-प्रशंसा का प्रभाव खुद पर न पड़ने दें।

4. अच्छी पुस्तकें पढ़िए, घटिया बातों को देखने-सुनने से परहेज़ रखिये।

5. आशावादी बनिये और कृतज्ञता की भावना उपजाइये।

6 . प्रकृति के अधिक से अधिक समीप रहने का प्रयास कीजिये।

7. भविष्य की चिंताओं से अपनी कमर मत तोडिये; वर्तमान में जीयें।

8. एक आध्यात्मिक जीवनशैली को अपने जीवन में उतारिये।

9. ज्ञान प्राप्ति के लिए निरंतर प्रयास कीजिये; सीखने की प्रक्रिया मंद मत पड़ने दीजिये।

10. अपने अहं को विस्तार दीजिये। अपनी योग्यता का लाभ दूसरों को भी लेने दीजिये।

चाहे हमारे पास सुख-सुविधा के कितने ही साधन क्यों न हों, लेकिन अगर हमारा attitude गलत है, तो जिंदगी एक नखलिस्तान जैसी हो जाती हैं, जहाँ सुख और सफलता सिर्फ दिवा-स्वप्न हैं। हम चाहे किसी भी field में काम करते हों; चाहे जीवन की कोई भी अवस्था हो, याद रखिये, सुख, संतोष और कामयाबी की बुनियाद सिर्फ आपका द्रष्टिकोण ही है।

“मुश्किलों को हमारा देखने का तरीका ही असली समस्या है।”
– स्टीफेन कोवे

 

Comments: आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि जीवनसूत्र को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। एक उज्जवल भविष्य और सुखमय जीवन की शुभकामनाओं के साथ!