Ultimate Success Tips in Hindi: Develop Your Creativity

 

“रचनात्मक लोग, सामान्य लोगों की तुलना में ज्यादा अपरिष्कृत होने के साथ-साथ अधिक सुसंस्कृत, उनसे अधिक विध्वंसक, कहीं अधिक मजीठ, और कहीं ज्यादा संतुलित होते हैं।”
– फ्रैंक बैरन

 

Ultimate Tips for Creative Success in Hindi
Successful बनना चाहते हैं तो रचनात्मकता विकसित करे

How to develop Creativity रचनात्मकता कैसे विकसित करें : –

Creativity यानि रचनात्मकता मानवीय व्यक्तित्व का ही एक विशिष्ट गुण है, जो सभी मनुष्यों में देखने को नहीं मिलता है। इसका तात्पर्य यह नहीं है कि उनमे रचनात्मकता का पूर्णतया अभाव होता है, बल्कि यह उनमे एक बीज के रूप में अवस्थित होती है। जबकि रचनात्मक लोगों में यह विकसित होकर उनके कार्यों में मुखर होकर झलकती है।

अंतर सिर्फ इतना है कि उन्होंने कुछ पाने के लिये, अपने इस विशिष्ट गुण को लम्बे समय तक विकसित किया, उसे अपने जीवन में उतारा। प्रत्येक व्यक्ति रचनात्मकता को अपने व्यक्तित्व का एक घटक बनाकर इससे इच्छित लाभ उठा सकता है।

वैसे तो Creativity पर कई लेख व पुस्तकें उपलब्ध होंगी, पर हमें आशा है कि नीचे दिये जा रहे कुछ तथ्य, जो कुछ लोगों के जीवन के अनुभव से प्राप्त हैं, रचनात्मकता को विकसित करने की दिशा में विशेष सहायक होंगे –

1. Curiosity towards Life & World जीवन व संसार के प्रति जिज्ञासु बनिये : –

जिज्ञासा प्रकृति द्वारा मनुष्य को उपहारस्वरूप प्रदान किया गया जन्मजात सद्गुण है, जो हर बच्चे में नैसर्गिक रूप से उपस्थित होता है। इसी के आधार पर वह संसार की हर छोटी-बड़ी चीज़ को अपने-अपने तरीके से समझते हुए बड़े होते हैं, लेकिन एक समय के बाद उनकी यह प्रवृत्ति धीरे-धीरे दम तोड़ने लगती है। महान वैज्ञानिक आइंस्टीन के शब्दों में कहें, तो हमारी यह गलत और निष्प्रयोज्य शिक्षा प्रणाली ही इसे नष्ट करने के लिये उत्तरदायी है।

जो व्यक्ति को एक ही क्षेत्र तक सीमित कर देती है और असीम संभावनाओं के कितने ही क्षितिज अनछुए ही रह जाते हैं। आप चाहे सांसारिक क्षेत्र में हों या आध्यात्मिक क्षेत्र में, यदि आप रचनात्मक रूप से कोई विशिष्ट कार्य करना चाहते हैं, तो अपने जीवन और अपने आस-पास की दुनिया पर एक गहन दृष्टि रखिये। रचनात्मकता का यह अनोखा गुण सच्ची जिज्ञासा का उत्पाद है।

अपने बुद्धि-विवेक को विस्तार दीजिये और इस दुनिया को इसके यथार्थ स्वरुप में देखिये। उस विचार को जो मौलिक और उर्वर है, जो आपकी कल्पना की, आपके मस्तिष्क की उपज है, उसे उसके क्षेत्र की अंतिम सीमा तक ले जाइये, उसमे डूब जाइये।

आपकी चिंतनशक्ति उससे सम्बंधित समस्त रहस्यों को धीरे-धीरे एक-एक करके उजागर कर देगी और जब यह स्पष्ट और दृढ हो जाय, तो फिर इसे यथार्थ रूप देने में जुट जाइये, क्योंकि आपकी रचनात्मकता की अभिव्यक्ति का स्थान यह संसार और यह जीवन ही है।

2. Enhance Area of Sensibility अपनी संवेदनशीलता का क्षेत्र विस्तृत कीजिये : –

संवेदनशीलता (Sensibility) मनुष्य के चरित्र का एक अनोखा गुण है। यदि सीमा में रहे, तो मनुष्य की छिपी हुई प्रतिभा और सद्गुणों को उजागर करने में समर्थ है और यदि सीमा से बाहर चला जाय, तो समस्याएँ पैदा होते देर नहीं लगती। संवेदनशीलता भी व्यक्ति के अंदर की Creativity को develop करने में सक्षम है, पर तब जब यह आपमें कर्तव्य के प्रति बोध की भावना को जाग्रत कर सके।

जैसे कुछ वर्ष पहले गुजरात के एक किसान ने किसानों की हल से खेत जोतने में आने वाली समस्याओं को देखकर बहुत ही कम कीमत में एक उपयोगी मशीन बनाकर तैयार कर दी, जो ट्रेक्टर का अच्छा विकल्प थी। ऐसे ही एक अन्य व्यक्ति ने मिटटी का प्रशीतक बनाकर सस्ते रेफ्रीजरेटर का विकल्प तैयार कर दिया था।

महात्मा गाँधी को अन्याय का प्रतिरोध करने का एक सशक्त मार्ग अहिंसा के रचनात्मक विचार के रूप में मिला, सर्वस्व त्याग की प्रेरणा अपने चम्पारण प्रवास के दौरान मिली। जब उन्होंने वहाँ की स्त्रियों को अपना जीवन सिर्फ एक साडी में व्यतीत करते देखा। रेडक्रॉस के संस्थापक जीन हेनरी डूनांट को इसकी स्थापना की प्रेरणा तब मिली, जब उन्होंने सोल्फेरिनो के भीषण युद्ध में मरने वाले और घायल हुए हजारों लोगों को देखा।

और ऐसे पीड़ितों की सेवा-सुश्रुषा के लिये एक विशेष संगठन की स्थापना करने के एक रचनात्मक विचार ने उनके संपूर्ण जीवन की दिशा परिवर्तित कर दी। न जाने कितने संगठनों की स्थापना इस संवेदनशीलता के कारण संभव हुई, जिसने उनके संस्थापकों की रचनात्मकता को विकसित करने में, उसे व्यक्त करने में अहम् भूमिका निभाई।

संवेदनशीलता कोरी भावुकता का नाम नहीं है, बल्कि इसमें उत्तरदायित्व का एक भाव समाया है। इसे अपने और अपने प्रियजनों तक ही सीमित मत रखिये, बल्कि दूसरों के जीवन तक विस्तार दीजिये। विन्सेंट वों गौघ की यह उक्ति क्या इसी ओर सन्देश देती प्रतीत नहीं होती –

“हमें नहीं भूलना चाहिये कि छोटे-छोटे भाव ही हमारे जीवन के महान नायक हैं और हम इसे बिना जाने ही उनका पालन करते हैं।”

3. Develop Risk Taking Ability खतरा उठाने की क्षमता पैदा कीजिये : –

Creative लोगों की एक खास खूबी यह होती है कि वे खतरा उठाने से कभी नहीं डरते। आप भी अपने भीतर इस क्षमता को पैदा कीजिये। परिणाम की कोई चिंता किये बिना, दूसरों की राय की परवाह किये बिना आपको अपने विचार को क्रियान्वित करने में पूर्ण मनोयोग से जुट पड़ना है। आप स्वयं को किसी समय सीमा में नहीं बाँध सकते हैं। नाकामयाबी के डर से आपको निश्चित ही पार पाना होगा।

यदि परिणाम की चिंता रही, तो असफलता का भय आपको कभी भी आपकी इच्छित वस्तु हासिल नहीं होने देगा। प्रत्येक स्थिति में आपको अपनी ज्ञात सामर्थ्य की सीमा के क्षेत्र से बाहर निकलना ही होगा। विद्युत् बल्ब का आविष्कार करते समय, एडिसन करीब 2500 Experiments में fail हो गये थे और इस काम में उन्हें सफल होने में लगभग दस साल लग गये थे।

रात-दिन का अथक परिश्रम और उनका कितना ही पैसा इस प्रयोग में खर्च हो गया था। कोई सामान्य जीवट वाला और तत्काल परिणाम चाहने वाला कोई व्यक्ति होता, तो कब का इसे बोझ समझकर छोड़ चुका होता। पर यह एडिसन थे, जिन्हें चुनौतीपूर्ण कार्यों को ही करने में आनंद आता था, जिनमे जोखिम लेने की प्रवृत्ति स्वाभाविक रूप से थी।

अपने बचपन में ही उन्होंने रेल के डिब्बे में प्रयोग करने का खतरा उठाया और जब उसमे आग लगने के कारण उनका रेल में प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया गया, तो उन्होंने घर को ही अपनी प्रयोगशाला बना डाला था। लेकिन किसी भी दशा में कार्य रोकना स्वीकार नहीं किया। उनकी यही विशेषता उनकी रचनात्मक क्षमता को निरंतर विस्तार देती चली गयी।

और फिर उनके लिये प्रकृति के वह ज्ञात-अज्ञात क्षेत्र खुल गये, जहाँ वह अपनी रचनात्मकता का सार्थक उपयोग कर सकते थे। लियो बुस्काग्लिया की यह प्रसिद्द उक्ति शायद रचनात्मक लोगों के इस गुण पर बिल्कुल सही बैठती है।

“खतरा अवश्य उठाया जाना चाहिये। क्योंकि जीवन में सबसे बड़ा खतरा कोई खतरा न उठाने में है। खतरे में हम अपनी सीमाओं से बहुत आगे बढ़ जाते हैं।”

4. Have Firm Enthusiasm for Transforming Thoughts into Reality अपने विचारों को मूर्त रूप देने के लिये प्रचंड उत्साह रखिये : –

रचनात्मकता विकसित करने के लिये सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक है – जीवट, अप्रतिम उत्साह। परिणाम की कोई चिंता किये बिना, अपने सार्थक विचार को संभव करने में जुट जाना। परन्तु वह विचार कोई कल्पनामात्र नहीं होता, वह आपके अनुभव और ज्ञान का सार होता है, जिसे केवल आपने ही अनुभव किया होता है। महान वैज्ञानिक और आविष्कारक थॉमस एल्वा एडिसन को इस शताब्दी के सबसे बड़े Creative लोगों में से एक माना जा सकता है।

क्योंकि उन्होंने अपने जिस विचार को फलोत्पादक समझा, उसे क्रियान्वित करने में पूरी सामर्थ्य लगा दी, किसी भी परिणाम की चिंता किये बिना। फिर चाहे वह बाद में कितना ही गलत क्यों न सिद्ध हुआ हो, उसे पूरा करने में कितना ही परिश्रम, धन और समय क्यों न व्यर्थ हुआ हो और यह उसी उत्साह के कारण है कि किसी एक व्यक्ति द्वारा हासिल किये गये सर्वाधिक पेटेंट इन्ही के नाम दर्ज हैं।

अकेले संयुक्त राज्य अमेरिका में ही इनके नाम पर लगभग 1093 पेटेंट दर्ज हैं, इसके अतिरिक्त अनेकों यूरोपीय देशों में भी एडिसन के नाम कई पेटेंट हैं। आज जहाँ किसी वैज्ञानिक की पूरी जिंदगी केवल एक अदद Patent हासिल करने में गुजर जाती है, और न जाने कितनों को असफल ही रह जाना पड़ता है, वहाँ उनकी यह उपलब्धि असाधारण है।

हेनरी मटीस्से ने रचनात्मक प्रतिभा को कुछ इन शब्दों में बयाँ किया है –

“Creative people are curious, flexible, persistent, and independent with a tremendous spirit of adventure and a love of play.”

“रचनात्मक लोग जोखिम लेने की अदभुत जीवट और खेलने के शौक़ीन होने के साथ-साथ, जिज्ञासु, नम्र, डटे रहने वाले और भी आत्मनिर्भर होते हैं।”

यदि इस कथन को गहराई से समझा जाय, तो कहा जा सकता है, विचारों की नवीनता और उत्साह ही रचनात्मक लोगों का प्राण है। रचनात्मकता में ज्ञान इतना महत्वपूर्ण नहीं जितना कि आपका परिश्रम, आपकी जीवट व जिज्ञासा। इसलिये यदि आप रचनात्मक होना चाहते हैं, तो आपमें अपनी जिज्ञासा को संतुष्ट करने लायक भरपूर उत्साह होना चाहिये।

लम्बे समय तक कड़ी मेहनत करने लायक धीरज रखिये, संवेदनशील बनिये और जोखिम उठाइये, तभी आपकी Creativity आपके लिये कोई असाधारण परिणाम प्रस्तुत कर सकेगी।

“रचनात्मकता का एक अनिवार्य पहलू असफल होने से नहीं डरना है।”
– एडविन एच. लैंड

 

Comments: आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि जीवनसूत्र को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। एक उज्जवल भविष्य और सुखमय जीवन की शुभकामनाओं के साथ!