What is Creativity and Innovation in Hindi

 

“न्यूटन के संकेत समझने से पहले भी सेब अनेकों के सिर पर गिरा था। फ्रेंकलिन के संकेत समझने से पहले भी बिजली अनेकों बार चमकी थी। कुदरत हमें बार-बार इशारा करती रहती है। यह हमें बार-बार इशारा करती है और एकाएक हम उसका इशारा समझ जाते हैं।”
– रॉबर्ट फ्रॉस्ट

 

Creativity and Innovation in Hindi
रचनात्मकता ही कामयाबी की चाबी है

Creativity is Part of Life of Great People महान लोगों के जीवन का अनिवार्य अंग है रचनात्मकता : –

जरा कुछ समय के लिये इन महान लोगों पर ध्यान केन्द्रित कीजिये और सोचिये इनमे अन्य लोगों की अपेक्षा क्या विशेषता अधिक थी जो ये आज भी हमारी यादों में जीवित हैं और लाखों-करोड़ों लोगों के प्रेरणा स्रोत हैं –

1. स्वामी विवेकानंद, महात्मा गाँधी, मदन मोहन मालवीय, अरविन्द घोष, जॉर्ज वाशिंगटन, लेनिन और विनोबा भावे जैसे समाज सुधारक और राष्ट्र निर्माता।

2. पिकासो, मोजार्ट, माइकल एंजेलो, रविंद्रनाथ टैगोर और जगदीश चन्द्र बोस जैसे कलाकार और अन्वेषक।

3. हेनरी फोर्ड, एंड्रू कार्नेगी, थॉमस एडीसन, जमशेत जी टाटा, सुजुकी और घनश्यामदास बिडला जैसे धनकुबेर।

ये सभी लोग अन्य व्यक्तियों की ही तरह शिक्षित, बुद्धिमान और परिश्रमी थे। समय और संसाधन भी इनके पास उतने ही थे जितने दूसरे किसी अन्य को मिल सकते थे। फिर भी ये इतिहास में अपना विशिष्ट स्थान रखते हैं। अपने चुने गये क्षेत्र में इन्होने जो कार्य किये हैं, श्रेष्ठता के जो मापदंड स्थापित किये हैं, उन्हें मील का पत्थर कहा जा सकता है।

इन व्यक्तियों ने अपनी मौलिक विशेषताओं के बल पर लीक से हटकर काम किया। जिसके कारण न केवल वे अपने लक्ष्य को पाने में सफल रहे, बल्कि उनके इन प्रयासों की संपूर्ण विश्व ने सराहना भी की। वे आगे बढे, एक जहाज की तरह अनेकों लोगों को साथ लेकर चले, और एक प्रकाश-स्तम्भ की तरह आज भी न जाने कितनों को राह दिखा रहे हैं।

वे ऐसा कर पाये, क्योंकि इन लोगों ने ढर्रे की जिंदगी जीना कभी स्वीकार नहीं किया। अपने समवयस्क दूसरे शिक्षितों और बुद्धिमान व्यक्तियों की भेडचाल का अनुसरण करने के बजाय उन्होंने एक स्वतंत्र, चुनौतीपूर्ण और खतरों से भरे अनिश्चित मार्ग पर चलना ज्यादा श्रेयस्कर समझा, क्योंकि उनका उद्देश्य व्यक्तिगत उत्थान की अपेक्षा सामाजिक परिवर्तन अधिक था।

इनमे प्रचंड इच्छाशक्ति की उर्जा थी, ध्येय के प्रति अटूट निष्ठा और समर्पण की भावना थी, और इसके साथ-साथ थी उनमे प्रगाढ़ आत्मीयता और अदभुत रचनात्मकता। जीवन में आगे बढ़ने के लिये, एक संतोषप्रद सफलता पाने के लिये कई गुणों की आवश्यकता होती है।

लेकिन यदि कोई विशिष्ट कार्य करना हो और अपने क्षेत्र में शिखर तक पहुंचना हो, तो एक गुण की जरुरत दूसरों की तुलना में कुछ ज्यादा ही पड़ती है और वह गुण है रचनात्मकता (Creativity), आज हम इसकी ही चर्चा करेंगे –

What is Creativity रचनात्मकता क्या है : –

रचनात्मकता व्यक्ति को स्वतंत्र चिंतन कर सकने में समर्थ बनाने वाली और उसे किसी नई और उपयोगी वस्तु को खोजने में सक्षम बनाने वाली प्रक्रिया है। दूसरे शब्दों में कहें तो Creativity नये और कल्पनाशील विचारों (युक्तियों) को वास्तविकता में बदलने का प्रक्रम है। निर्मित वस्तु या तो अमूर्त हो सकती है, जैसे कोई विचार, वैज्ञानिक सिद्धांत आदि या फिर यह एक मौलिक भौतिक वस्तु हो सकती है, जैसे – कोई आविष्कार या फिर कला का कोई कार्य।

रचनात्मकता संसार को नये तरीकों से अनुभव कर सकने की क्षमता से आंकी जाती है। उस सामर्थ्य से पहचानी जाती है जो प्रकृति में छुपे रहस्यों को खोज सकने में समर्थ है। Creativity बिल्कुल अलग दिखने वाली घटनाओं में सम्बन्ध बनाने और समाधान उत्पन्न करने की दक्षता है। केवल सोचना या करना ही रचनात्मकता की पहचान नहीं है।

यह व्यक्ति की बौद्धिक क्षमता का एक विशिष्ट स्वरुप है। सामान्य बुद्धि केवल कुछ सुनिश्चित नियमों के दायरे में रहकर ही विचार प्रक्रिया में संलग्न होती है। साधारण लोगों का चिंतन, निर्णय प्रक्रिया, विचारशैली, सब कुछ व्यक्तिगत जानकारी और अनुभव के सीमित क्षेत्र में ही होता है जो किसी भी प्रकार की मौलिकता से रहित और दूसरों के अनुभव और विचारों की छाप लिये होते है।

इसके उलट रचनात्मक बुद्धि किसी भी कार्य को करने का नया रास्ता खोजती है, उसमे तय और ज्ञात प्रक्रिया से हटकर चलने का साहस होता है। किसी परिस्थिति को नई दृष्टि से देखने का और उससे कुछ अलग परिणाम पैदा करने का कौशल होता है।

Be Creative, Surpass Others रचनात्मक बनिये, दूसरों से आगे निकलिये : –

रचनात्मकता में दो प्रक्रियाएँ शामिल हैं – पहला एक विशिष्ट ढंग से सोचना और फिर उस विचार को सत्य के अधिकाधिक समीप ले जाने में पूरे उत्साह के साथ जुट पड़ना। यदि आपके पास विचार हैं, पर आप उन विचारों पर कार्य नहीं करते, तो आप कल्पनाशील तो हो सकते हैं, लेकिन रचनात्मक नहीं। वास्तव में रचनात्मकता विचारशैली का ही एक असाधारण स्वरुप है।

यह प्रतिभाशाली लोगों का एक अत्यावश्यक सदगुण है। नार्मन पोधोरेत्ज़ के शब्दों में Creativity कुछ इस तरह है –

“Creativity represents a miraculous coming together of the uninhibited energy of the child with its apparent opposite and enemy, the sense of order imposed on the disciplined adult intelligence.”

“रचनात्मकता बच्चे की स्वतंत्र उर्जा और इसके बिल्कुल विपरीत और शत्रु, अनुशासित व्यस्क बुद्धिमत्ता पर थोपी गयी समझदारी के आश्चर्यजनक रूप से साथ-साथ होने को प्रदर्शित करती है।”

ध्यान रखिये, रचनात्मकता सफलता की चाबी है और बच्चों में रचनात्मकता की एक चिंगारी पैदा करना शिक्षा के मूलभूत उद्देश्यों में से एक है। यह न केवल उन्हें सामान्य लोगों की भीड़ से अलग करती है, बल्कि उन्हें उनके क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ बनने में सक्षम बनाती है। एक शोध के अनुसार हम नैसर्गिक रूप से रचनात्मक होते हैं, लेकिन जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते हैं अपनी इस क्षमता को खो देते हैं।

लेकिन Creativity ऐसी quality है जिसे विकसित किया जा सकता है और वह प्रक्रिया है जिसका प्रबंध किया जा सकता है। एक Creative Approach की जिंदगी में कितनी अहमियत है, शायद इसे देखते हुए ही महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने कहा है “दिवास्वप्न का उपहार मेरे लिये सकारात्मक ज्ञान को आत्मसात करने की प्रतिभा की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण रहा है।”

आगे पढिये कैसे निखारें अपने अन्दर की Creativity : Success Tips in Hindi: अपने अंदर की Creativity को निखारिये

“एक महान विचार के लिये स्वास्थ्यकर तीव्र अभिलाषा, जीवन का सौंदर्य और परम आनंद है।”
– जीन इन्गेलो

 

Comments: आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि जीवनसूत्र को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। एक उज्जवल भविष्य और सुखमय जीवन की शुभकामनाओं के साथ!