Green Tea Benefits in Hindi हरी चाय के फायदे

 

“Green Tea एक प्रकार की चाय है जो कैमेलिया साइनेन्सिस नामक पौधे की पत्तियों से तैयार की जाती है। अपने स्वास्थ्य प्रदायक गुणों की वजह से ही आजकल इसका प्रयोग काफी ज्यादा होने लगा है। आमतौर पर जापान में लोग खाने के दौरान भी ग्रीन टी का सेवन करते हैं, जो खाना पचाने में तो मदद करती ही है, साथ ही हृदय रोगों में भी सहायक सिद्ध होती है।”

 

Green Tea Benefits in Hindi
ग्रीन टी, काली चाय की तुलना में स्वास्थ्य के लिये कहीं ज्यादा फायदेमंद है

Green Tea Benefits in Hindi: ग्रीन टी, जैसा कि इसके नाम से ही स्पष्ट है, गहरे हरे रंग की होती है। क्योंकि काली चाय (Black Tea) की तरह न तो इसे सुखाया जाता है और न ही इसका ऑक्सीकरण होता है। ग्रीन टी मूल रूप से चीन में पैदा हुई है, लेकिन आज सारी दुनिया में इसे एक स्वास्थ्यवर्धक पेय के रूप में पिया जाता है। दक्षिण-पूर्वी एशिया का तो यह एक प्रमुख पेय ही है।

आज ग्रीन टी की कई वैरायटी मौजूद हैं, जो अपने अलग-अलग स्वाद के कारण पहचानी जाती हैं। हालाँकि इनमे अधिक अंतर नहीं होता और कोई विशेषज्ञ (Tea Tester) ही इस अंतर को पहचान सकता है। ग्रीन टी का इतिहास चीन से गहराई से जुडा हुआ है, विशेषकर सम्राट शेंनोंग का शासनकाल।

सन 600-900 में लू यु दवारा लिखी गयी एक पुस्तक, ‘टी क्लासिक’ हरी चाय के इतिहास में काफी महत्वपूर्ण मानी जाती है। सन 1191 में जेन पादरी एइसाई द्वारा लिखी गयी पुस्तक, ‘किस्सा योजोको’ यह बताती है कि किस तरह Green Tea पीने से शरीर के पाँच महत्वपूर्ण अंगों का स्वास्थ्य सुधरता है।

Green Tea History in Hindi हरी चाय का इतिहास

एक स्वास्थ्यवर्धक पेय और कुछ बीमारियों के उपचार में, Green Tea के सत्व का उपयोग, चीनी और भारतीय आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में शताब्दियों से होता आया है। जिसे आज आधुनिक चिकित्सा पद्धति ने भी वैज्ञानिक शोधों के आधार पर पूर्ण रूप से स्वीकार कर लिया है। चीन के हुनान प्रान्त में पैदा होने वाली ग्रीन टी, चीन की सर्वोत्तम दस चायों में से एक है।

यह श्वेत चाय की एक किस्म है और इसे सिल्वर नीडल टी के नाम से भी पुकारा जाता है। हरी चाय ओवन में सुखायी जाती है और श्वेत चाय, फास्ट-ड्राई तथा ऊलोंग चाय, ध्यानपूर्वक नियंत्रित फर्मेन्टेशन द्वारा ऑक्सीकृत की जातीं हैं।

सन 2017 में पूरे विश्व में लगभग 23 लाख टन Green Tea का उत्पादन हुआ था, जिसमें 80 प्रतिशत योगदान अकेले चीन का था। चीन द्वारा उत्पादित चाय की अधिकांश खपत चीन में ही हो जाती है। केन्या Green Tea का सबसे बड़ा निर्यातक देश है और संयुक्त राज्य अमेरिका इसका सबसे बडा आयातक देश।

Nutritional Facts about Green Tea in Hindi

कई महत्वपूर्ण पोषक तत्वों से भरपूर है हरी चाय

ग्रीन टी में कई जैव क्रियाशील यौगिक (Bioactive Compounds) होते हैं और यही इसके अद्भुत लाभों का सबसे बड़ा कारण हैं। पर ग्रीन टी का सबसे बड़ा फायदा क्या है? कई प्रख्यात न्यूट्रिशनिस्ट के अनुसार ग्रीन टी के लाभ का सबसे बड़ा कारण है, इसमें उपस्थित कैट्चिन तत्व। कैट्चिन एक प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट्स हैं, जो कोशिकाओं को डैमेज होने से रोकते हैं।

चूँकि आपके कप में गिरने से पहले ग्रीन टी ज्यादा प्रोसेस नहीं होती है, इसीलिये इसमें कैट्चिन प्रचुर मात्रा में उपस्थित होता है। 100 ग्राम Green Tea में 1 कैलोरी उर्जा होती है और इसमें कोई विशेष पोषक तत्व नहीं होता है। इसमें उपस्थित विटामिनों और मिनरल्स की मात्रा नगण्य ही है। ग्रीन टी में फायटोकेमिकल्स (Phytochemicals) उपस्थित होते हैं।

जिनमे सबसे प्रमुख तत्व हैं पोलीफिनोल्स (Polyphenols) और कैफीन (Caffeine)। Green Tea में कैफीन होती है, लेकिन कैफीन के अन्य स्रोतों की तुलना में, इसमें कैफीन की मात्रा बहुत कम होती है। ग्रीन टी में पाये जाने वाले पोलीफिनोल्स इस प्रकार हैं –

यह हैं ग्रीन टी में उपस्थित पोषक तत्व

EGCG या एपिगॉलॉटेचिन गैलेट (Epigallocatechin Gallate), एपिक्टेचिन गैलेट (Epicatechin Gallate), एपिकैटेचिन (Epicatechins) और फ्लेवनोल (Flavanols)। एपिगॉलॉटेचिन, हरी चाय का सबसे महत्वपूर्ण सक्रिय घटक है और कई बार इसे विटामिन C या विटामिन E की तुलना में अधिक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट समझा जाता है।

इन चारों एंटीऑक्सीडेंट्स में, कैंसररोधी (Anticarcinogen), सूजन कम करने वाले (Anti-inflammatory) और विकिरणरोधी (Anti-radiation) जैव रासायनिक (Biochemical Effects) गुण होते हैं। Green Tea में तीन प्रकार के फ्लेवोनोइड्स (Flavonoids) भी पाये जाते हैं, जिन्हें कैम्प्फेरोल (Kaempferol), क्वेरसेटिन (Quercetin) और मिरसेटिन (Myricetin) कहते हैं।

प्रायः लोग ग्रीन टी के बारे में जानते हैं, लेकिन इसकी उचित मात्रा नहीं लेने की वजह से, उन्हें इसका पूरा लाभ नहीं मिल पाता है। आज हम आपको Green Tea के ऐसे ही कुछ महत्वपूर्ण लाभों के विषय में यहाँ बतायेंगे, जो आपको स्वस्थ रहने में मदद कर सकते हैं। 100 ग्राम Green Tea में उपस्थित पोषक तत्व इस प्रकार हैं –

Amazing Health Benefits of Green Tea in Hindi

1. मस्तिष्क के लिये फायदेमंद है ग्रीन-टी

Green Tea is Beneficial for Brain in Hindi: आपके मस्तिष्क को बेहतर ढंग से काम करने के लिये स्वस्थ रक्त वाहिनियों की आवश्यकता होती है। स्विट्जरलैंड में हुई एक स्टडी में MRI से पता चला है कि जो लोग हरी चाय पीते हैं, उनके Brain के वर्किंग-मेमोरी क्षेत्र में ज्यादा एक्टिविटी होती है। ग्रीन टी में उपस्थित कैफीन एक नर्व एक्साइटर है।

यह नाड़ियों को उत्तेजित करता है और एडोनोसिन (Adenosine) नामक न्यूरोट्रांसमीटर को रोकता है। Green Tea में मौजूद एल-थेनीन मस्तिष्क में रक्त संचार तेज करता है जिससे आपकी सजगता बढती है और आलस्य तथा नींद दूर हो जाते हैं।

मेमोरी पर भी ग्रीन टी का सकारात्मक प्रभाव देखा गया है। अल्झाइमर सोसाइटी और साइकोफार्माकोलॉजी पत्रिका में प्रकाशित एक लेख के अनुसार, ग्रीन टी उन प्लेक्स को बनने से रोकने में मदद करती है, जो अल्झाइमर रोग का खतरा पैदा कर सकते हैं। ध्यान दीजिये, अल्झाइमर रोग में दिन-प्रतिदिन व्यक्ति की याददाश्त और निर्णय लेने की क्षमता कमज़ोर होने लगती है।

2. मोटापे को नियंत्रित करती है ग्रीन टी

Green Tea Regulates Obesity in Hindi: कुछ एक्सपर्ट के अनुसार, Green Tea मोटापे या शरीर के वजन को भी नियंत्रित करने में सहायक सिद्ध होती है, हालाँकि अभी तक किसी भी शोध में यह तथ्य प्रमाणित नहीं हुआ है। ग्रीन टी के नियमित सेवन से न सिर्फ वजन नियंत्रित होता है, बल्कि उनमें कई तरह की बीमारियों के होने की संभावना भी कम हो जाती है। ग्रीन टी मेटाबोलिज्म की दर को बढाकर बढ़ी हुई फैट को जलाती है।

इसमें उपस्थित कैफीन और कैटचिंस फ्लैवोनॉयड, कैलोरी बर्निंग एजेंट के रूप में काम करते हुए, शरीर को चुस्त-दुरुस्त रखने में मदद करते हैं। अगर आप भी अपने पेट और कमर पर बढती चर्बी से परेशान हैं, तो वर्कआउट करने से पहले या फिर रात को सोने से 1 घंटे पहले एक कप ग्रीन टी पी लें। कुछ समय बाद आपका शरीर सही शेप में आ जायेगा।

3. दिल के रोगों का खतरा कम करती है ग्रीन टी

Green Tea Lowers The Risk of Heart Diseases in Hindi: एक Research के अनुसार, जो लोग Green Tea का निमित सेवन करते हैं, उनमे दिल के रोग (Cardiovascular Disease) से मृत्यु होने का खतरा 5 प्रतिशत तक कम हो जाता है। अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन के अनुसार, हरी चाय में उपस्थित कैटेचिन, रक्त वाहिकाओं में खून के थक्के जमने से रोकते है। सन 2010 से 2018 तक की कई स्टडीज का रिव्यु करने के पश्चात पता चला है कि ग्रीन टी, दिल से सम्बंधित कई समस्याओं, जिनमे Congestive Heart Failure भी शामिल है, के खतरे को कम कर सकती है।

रोजाना कम से कम आठ कप ग्रीन टी पीने से, हार्ट अटैक और एथेरोस्केलोरोसिस जैसे हृदय रोग होने की संभावना तो कम होती ही है, साथ ही कोलेस्ट्राल भी कम होता है। हालाँकि ऐसा करने से पहले अपने चिकित्सक की सलाह अवश्य लें, क्योंकि ज्यादा हरी चाय नुकसान देती है।

4. रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाती है ग्रीन टी

Green Tea Improves Immunity in Hindi: Green Tea में उपस्थित कैटचिंस, शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) बढाकर, इसे कई प्रकार के जीवाणुओं और विषाणुओं से बचा सकता है। यह लीवर कोशिकाओं की सुरक्षा करती है। इसमें मौजूद एपिगॉलॉटेचिन गैलेट, प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System) की महत्वपूर्ण घटक T-सेल्स की वृद्धि में सहायक है। ग्रीन टी, Autoimmune Disease के खतरे को कम करती है, साथ ही यह प्रत्यारोपण के बाद, अंगों को फेल होने से बचा सकती है।

5. वर्कआउट करने वाले लोगों के लिए फायदेमंद है ग्रीन टी

Green Tea is Helpful during Workout in Hindi: जो लोग ज्यादा व्यस्त रहने के कारण रोजाना व्यायाम नहीं कर पाते हैं, उनके लिए नियमित रूप से ग्रीन टी का सेवन करना काफी लाभदायक सिद्ध हो सकता है। ऐसे लोगों को रोजाना दो बार हरी चाय पीनी चाहिये। इससे न सिर्फ शरीर हमेशा एक्टिव रहेगा, बल्कि थकान और कमजोरी की शिकायत भी दूर हो जायेगी। स्टेमिना बढ़ाने के लिए, एक्सरसाइज करने से आधा घंटा पहले, एक कप ग्रीन टी पियें, इससे आपकी परफॉरमेंसका स्तर सुधरेगा।

6. पाचन संस्थान को स्वस्थ रखती है ग्रीन टी

Green Tea Keeps Digestive System Healthy in Hindi: ग्रीन टी में उपस्थित एंटीऑक्सीडेंट्स पाचन क्रिया को सुधारते हैं। इसमें मौजूद कैटचिंस, पाचक अम्लों की तीव्रता को कम करके, भोजन पचने की रफ़्तार को धीमा कर देता है, जिससे आप एक ही बार में सारी उर्जा ग्रहण नहीं करते हैं। ग्रीन टी का यह गुण Weight Management में विशेष रूप से लाभकारी है। इसमें उपस्थित EGCG, कोलाइटिस की सूजन को कम कर सकता है।

Wonderful Benefits of The Green Tea in Hindi

7. कोलेस्ट्रोल और रक्तचाप को नियंत्रित करती है ग्रीन टी

Green Tea Regulates Blood Pressure and Cholestrol in Hindi: हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में हुई एक स्टडी के अनुसार, Green Tea कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में सहायक है। यह हानिकारक, कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (LDL) कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करती है और उच्च घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (HDL) कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढाती है। इसका प्रयोग शरीर में उपापचय दर या वसा के ऑक्सीकरण को बढ़ावा देता है।

ग्रीन टी के नियमित सेवन से उच्च रक्तचाप के खतरे को कम किया जा सकता है, क्योंकि यह एक प्राकृतिक एंजियोटेंसिन-कनवर्टिंग एंजाइम या ACE (Angiotensin-Converting Enzyme) है। ध्यान दीजिये, ब्लडप्रेशर को कम करने के लिए बाजार में जो दवाइयाँ मिलती हैं, वह ACE अवरोधक के रूप में काम करते हुए ही ब्लडप्रेशर को नियन्त्रण में रखती है।

एक स्टडी के अनुसार, लगातार 6 मास तक ग्रीन टी का सेवन करने से, हाई ब्लड प्रेशर का खतरा, चाय नहीं पीने की तुलना में 46% कम होता है। ग्रीन टी मस्तिष्क के उतकों को मृत होने से रोकती है। अधिक लाभ के लिये ग्रीन टी को भाप पर बनाना चाहिये।

 

8. कैंसर जैसे रोग की रोकथाम करती है ग्रीन टी

Green Tea Reduces Cancer Risk in Hindi: ऐसा माना जाता है कि Green Tea कैंसर की रोकथाम करने में मदद करती है। हालाँकि इस सम्बन्ध में अभी पर्याप्त साक्ष्य उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन अमेरिका के राष्ट्रीय कैंसर संस्थान के अनुसार, ग्रीन टी में उपस्थित पॉलीफेनोल्स कैंसर ट्यूमर को बढ़ने और फैलने से रोकते हैं।

जानवरों पर हुई एक स्टडी से पता चला है कि हरी चाय में उपस्थित एपिगॉलॉटेचिन-3 गैलेट, विटामिन C से 100 गुना और विटामिन E से 24 गुणा ज्यादा शक्तिशाली होता है। यह फ्री रेडिकल्स से लड़कर कोशिकाओं के DNA को डैमेज होने से बचाता है।

ग्रीन टी में उपस्थित फायटोकेमिकल्स पराबैंगनी किरणों (Ultraviolet Rays) से होने वाले नुकसान से बचाते हैं। Green Tea, मुख्य रूप से पेट के कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, फेफड़ों के कैंसर, ब्लैडर कैंसर, पैंक्रियास के कैंसर, कोलन कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर, और गले के कैंसर से बचाने में कारगर सिद्ध हो सकती है।

9. डायबिटीज के रोगियों के लिये फायदेमंद है ग्रीन टी

Green Tea is Helpful for Diabetics in Hindi: Green Tea, पैंक्रियास की कोशिकाओं पर प्रभाव डालकर, इंसुलिन के स्राव को बढ़ाने में मदद करती है तथा बढ़ी हुई रक्त शर्करा (Fasting Blood Sugar) को कम करती है। इसमें उपस्थित पॉलीफेनोल्स ग्लूकोज के स्तर को ठीक करते हैं। टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित रोगियों को कुछ दिन तक इसका सेवन करना चाहिये।

एक स्टडी के अनुसार, प्रतिदिन 6 कप हरी चाय पीने से, टाइप 2 डायबिटीज का खतरा कुछ हद तक कम हो जाता है। हालाँकि इतनी अधिक मात्रा में ग्रीन टी पीना स्वास्थ्य की दृष्टि से सही नहीं है। लेकिन अगर लम्बे समय तक कम मात्रा में भी हरी चाय का सेवन किया जाय, तो इससे शुगर होने की सम्भावना कम हो जाती है, क्योंकि Green Tea में एंटी-डायबेटिक गुण होते हैं।

10. शरीर में आई सूजन को कम करती है ग्रीन टी

Green Tea Reduces Inflammation in Hindi: Green Tea सूजन को कम करने में मदद करती है। इसमें उपस्थित ईजीसीजी एंटी-ऑक्सीडेंट्स, ऑर्थराइटिस और रूमेटेड आर्थइराइटिस के खतरे को कम कर देता हैं। एंटी इंफ्लेमेटरी होने के कारण इसमें दर्द को कम करने की क्षमता होती है। आर्थराइटिस फाउंडेशन के अनुसार, हरी चाय में एंटी-ऑक्सीडेंट्स का स्तर ज्यादा होने की वजह से यह उतकों के क्षरण को रोकती है जिससे गठिया और सूजन में आराम मिलता है।

11. वृद्धावस्था को रोकने में कारगर है ग्रीन टी

Green Tea Keeps Old Age at Bay in Hindi: ग्रीन टी में एंटी-एजिंग गुणों के साथ-साथ, एंटी-ऑक्सीडेंट गुण भी उपस्थित होते हैं। यह एंटीऑक्सीडेंटस, मुक्त कणों से कोशिकाओं की सुरक्षा करते हैं, जिससे बढती उम्र का असर जल्दी से शरीर पर नहीं पड़ने पाता। शायद यही कारण है कि आज कई सौंदर्य उत्पादों में ग्रीन टी के सत्व को मिलाया जाता है। पर ध्यान रखें ग्रीन टी में दूध मिलाकर न पियें, अन्यथा ऐसा करने से इसके एंटी-आक्सीडेंट तत्व समाप्त हो जाते हैं।

12. त्वचा रोगों की रोकथाम में लाभकारी है ग्रीन टी

Green Tea Lowers The Risk of Skin Disease in Hindi: जानवरों पर हुई एक स्टडी के अनुसार, ग्रीन टी स्किन डिजीज की रोकथाम में भी मददगार है। जब कभी त्वचा की कोशिकाओं का निर्माण बहुत ज्यादा तेज गति से होने लगता है, तो त्वचा पर से लाल रंग के छोटे शलक जो परतों के रूप में रहते हैं, उतरने लगते हैं। चूँकि ग्रीन टी में उपस्थित तत्व, कोशिकाओं के जीवन चक्र को नियंत्रित करने वाले जींस को प्रभावित करते हैं, इसीलिये हरी चाय इस समस्या को दूर करने में फायदेमंद सिद्ध हो सकती है।

20 Surprising Benefits of The Green Tea in Hindi

13. बालों को लम्बा और स्वस्थ बनाती है ग्रीन टी

Green Tea Makes Your Hair Healthy in Hindi: बदलती लाइफस्टाइल के कारण आजकल बालों की समस्या बहुत आम हो गयी है। अगर आप इन परेशानियों का एक सरल, मगर असरदार घरेलू उपचार चाहते हैं, तो ग्रीन टी एक शानदार विकल्प है। इसमें उपस्थित एंटीऑक्सीडेंटस और विटामिन्स न सिर्फ बालों को मुलायम और मजबूत बनाते हैं, बल्कि यह दोमुंहे बालों को कम भी करते है।

हरी चाय का सबसे महत्वपूर्ण घटक, एपिगालोकेटचिन गैलेट, बालों की वृद्धि करने और इन्हें झड़ने से रोकने में मदद करता है। ग्रीन टी एक नेचुरल एजेंट होने के कारण, बालों को कुदरती ढंग से बढ़ने में मदद करती है। इतना ही नहीं, यह सिर की रूसी और संक्रमण को भी दूर करती है। इसकी एक सरल विधि इस प्रकार है –

सबसे पहले अपने बालों को अच्छी तरह से धो लें, ताकि उनकी धूल-गन्दगी दूर हो सके। फिर ग्रीन टी के तीन पाउच आधा लीटर पानी में डुबोकर रख दें। 15 मिनट बाद उन पाउच को निकालकर, ग्रीन टी के रस से बालों की 10 मिनट तक मालिश करें। इसके पश्चात उन्हें फिर से धो लें। ऐसा सप्ताह में कम से कम दो बार करें।

ऐसा करने से रूसी ख़त्म हो जाती है और बाल भी मजबूत बनते हैं। ग्रीन टी को शहद के साथ मिलाकर पीने से भी बालों का झड़ना बंद होता है। लेकिन अगर आप इतनी ज्यादा मेहनत नहीं करना चाहते हैं, तो ग्रीन टी एक्सट्रेक्ट युक्त शैम्पू, कैप्सूल और कंडीशनर भी बाजार में उपलब्ध है, जिनका इस्तेमाल कर आप अपने बालों को झड़ने से बचा सकते हैं।

14. कई तरह के संक्रमण की रोकथाम करती है ग्रीन टी

Green Tea Checks Infections in Hindi: एंटीऑक्सिडेंटस का उच्च स्तर होने के कारण Green Tea, कई प्रकार के इन्फेक्शन पैदा करने वाले बैक्टीरिया को ख़त्म कर डालती है। अगर प्रतिदिन दो कप हरी चाय पी जाय, तो मूत्र मार्ग के संक्रमण (Urinary Tract Infection) की तीव्रता को कम करने में मदद मिलती है। एक हालिया स्टडी के अनुसार, जो लोग अक्सर ग्रीन टी का सेवन करते है, उन्हें अन्य लोगों की तुलना में UTI होने की सम्भावना 40% तक कम होती है।

सिर्फ इतना ही नहीं, हरी चाय पीने वाली स्त्रियों के ह्यूमन पेपिलोमा वायरस (एचपीवी) से लड़ने की क्षमता बढ़ जाती है। Green Tea में मौजूद कैटचिंस Food Poisoning पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मार डालता है। यहाँ तक कि अगर आप अपने कान को साफ़ करने के लिये एक एंटीसेप्टिक लिक्विड का विकल्प चाहते हैं, तो हरी चाय को इस्तेमाल कर सकते हैं।

जीवनसूत्र को अपना प्यार बाँटें
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •