Incredible Health Benefits of Basil in Hindi

 

तुलसी एक रामबाण औषधि के नाम से प्रसिद्ध है। ऐसी कोई बीमारी नहीं है जिसमे यह लाभ न देती हो, क्योंकि यह एंटीबैक्टीरियल, एंटीवायरल और एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरी है। बुढापा थामने से लेकर, सूजन घटाने तक और दिल, जिगर, दिमाग समेत लगभग हर अंग को स्वस्थ और सबल बनाने हेतु एक तुलसी ही काफी है। हिंदुओं के धार्मिक जीवन के एक अभिन्न अंग के रूप में शामिल रही पवित्र तुलसी कैंसर जैसे महारोग में भी लाभ देती है और वातावरण को शुद्ध करती है।

Incredible Health Benefits of Basil in Hindi
तुलसी सर्व रोग औषधि है

अगर लोगों से स्वास्थ्य के लिये सबसे आवश्यक किसी एक वनस्पति का चुनाव करने को कहें तो सबके जेहन में शायद तुलसी का ही नाम उभरेगा जो “सब रोगों की एक दवा” के उपनाम से मशहूर है और तुलसी को यह दर्जा लोगों ने वैसे ही नहीं प्रदान कर दिया है, बल्कि इसके अद्भुत औषधीय गुणों की संख्या इतनी अधिक है कि यह हर रोग के उपचार में कुछ न कुछ लाभ अवश्य पहुँचाती है हमारे महान पूर्वजों और पूज्य ऋषियों को तुलसी के दिव्य गुणों के बारे में प्राचीन काल से ही पूर्ण ज्ञान था

शायद यही कारण था कि हर हिंदू के घर में एक तुलसीदल का होना अनिवार्य था इसके लाभों के प्रति लोग उदासीन न हो जाँय इसीलिये इसके नियमित पूजन की भी व्यवस्था भी उन्होंने की थी तुलसी के विषय में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह पौधा आसानी से हर जगह उगाया जा सकता है और इसे अधिक देख-रेख की आवश्यकता भी नहीं पड़ती है हमारा तो यह मानना है कि स्वस्थ और खुशहाल जीवन जीने के इच्छुक हर स्त्री-पुरुष को अपने घर में एक तुलसी का पौधा अवश्य ही रोपना चाहिये

यदि घर के भीतर स्थान न हो तो एक गमले में या घर के बाहर मिटटी में भी इसे आसानी से लगाया जा सकता है शारीरिक स्वास्थ्य के लिये तुलसी जितनी महत्वपूर्ण है उससे कहीं ज्यादा महत्व इसका धार्मिक और आध्यात्मिक क्षेत्र में है किसी अन्य दिन समय मिलने पर हम आपको तुलसी के उन अद्भुत आध्यात्मिक लाभों के बारे में बतायेंगे जिन पर कोई भी व्यक्ति आसानी से विश्वास नहीं करेगा आज तो हम तुलसी के सिर्फ उन गुणों के बारे में चर्चा करेंगे जो स्वास्थ्य के लिये बहुत ही लाभदायक हैं

तुलसी पाँच प्रकार की होती है – श्यामा या काली तुलसी, रामा तुलसी, वन तुलसी, तुलसी के इन पौधों का यह नाम उनकी पत्तियों के रंग के आधार पर पड़ा है जैसे श्यामा तुलसी के पत्तों का वर्ण हल्के काले रंग की आभा लिये होता है जबकी हरी तुलसी की पत्तियाँ हरे रंग की होती हैं वैसे तो यह पाँचों तुलसी गुणकारी होती हैं लेकिन अपने औषधीय गुणों के कारण श्यामा तुलसी सबसे अधिक महत्वपूर्ण मानी जाती है आइये अब जानते हैं तुलसी के अविश्वसनीय लाभों के बारे में –

इस बारे में तो शायद किसी भी व्यक्ति को संदेह नहीं होगा कि तुलसी खाँसी-जुकाम की सर्वश्रेष्ठ प्राकृतिक और घरेलू औषधि है तुलसी के पत्तों की चाय बनाकर पीने से या सुबह-शाम 10-15 पत्ते खाने से 3-4 दिन में ही मौसमी नजले-खाँसी से छुटकारा मिल जाता है

तुलसी सामान्य ज्वर की प्रभावशाली औषधि है इसके Antipyretic गुणों के कारण यह ज्वर की तीव्रता को कम करती है और तापमान बढ़ने पर होने वाली बेचैनी से भी छुटकारा दिलाती है

तुलसी में सूजन को कम करने का गुण (Anti-inflammatory Property) होता है यह शरीर के किसी भी अंग में आयी हुई शोथ में लाभ पहुँचाती है

तुलसी में Powerful Antioxidants होते हैं जो Free Radicals से होने वाली क्षति से बचाते हैं और कोशिकाओं और DNA की संरचना को सुरक्षित रखते हैं

तुलसी में कैंसर से लड़ने वाले तत्व होते हैं

तुलसी ह्रदय रोगों में भी लाभ पहुँचाती है और यह डायबिटीज के रोगियों के लिये भी बहुत फायदेमंद है

तुलसी एक Immunity-booster, Natural Medicine है

तुलसी तनाव को कम करती है

तुलसी यकृत की संरक्षक है

Spread Your Love