Meaning and Facts about The Human Heart in Hindi

 

“हर रोज आपका दिल इतनी उर्जा पैदा करता है कि उससे एक ट्रक को 32 किमी की दूरी तक खींचा जा सकता है। अगर सम्पूर्ण जीवन की उर्जा को ध्यान में रखा जाय, तो यह इतनी ज्यादा होगी कि इससे चाँद तक जाकर वापिस लौटा जा सकता है।”

 

Heart Meaning in Hindi
शरीर की सबसे शक्तिशाली माँसपेशी है इंसानी दिल

Heart Meaning in Hindi हार्ट का अर्थ

Heart का अर्थ (Meaning) है – दिल या ह्रदय। आप जानते ही होंगे कि हर रोज सुनायी देने वाली, अपने दिल की थड-थड के बिना आप कतई जिन्दा नहीं रह सकते। ऐसा इसलिये, क्योंकि मानव ह्रदय, शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग (Heart is Most Important Organ of Human Body) है। जिसके धड़कने का अर्थ है – गतिशील जीवन, एक सजीव प्राणी। जैसे शरीर के अन्य अंग, सम्पूर्ण देह को क्रियाशील, स्वस्थ और बलिष्ठ बनाये रखने के लिये रात-दिन कार्य करते हैं, वैसे ही ह्रदय भी शरीर के हर छोटे-बड़े अंग के लिये आवश्यक भोजन का प्रबंध करता है, जो लहू के रूप में हर रक्त वाहिनी में बहता है।

शायद दिल ही शरीर का वह एकमात्र अंग है जिसके ऊपर पाठय-पुस्तकों से इतर, अन्य रचनाएँ भी लिखी गयी हैं, जो इसके भावनाओं से निकट संबंध को दर्शाती हैं। हालाँकि चिकित्सा जगत में इसे अच्छी तरह प्रमाणित किया जाना अभी बाकी है। न जाने कितने लेखकों ने, दिल को अपनी प्रेम-कहानियों और उपन्यासों में एक विशिष्ट स्थान प्रदान किया है।

विशेषकर कवियों की कविता और शायरों की शायरी का तो यह प्राण ही है। दिल की संरचना और इसके महत्वपूर्ण कार्यों के बारे में हमने Human Heart in Hindi में विस्तार से वर्णन किया है। लेकिन Heart Meaning in Hindi में हमने दिल से जुड़े उन शानदार और अमेजिंग फैक्ट्स का वर्णन किया है, जिन्हें आपने हिंदी में अभी तक कहीं नहीं पढ़ा होगा और जिन्हें जानकर आप दंग रह जायेंगे।

Heart in Hindi दिल ही है मानव शरीर की जान

1. आपका दिल न सिर्फ आपकी सबसे महत्वपूर्ण मांसपेशी है, बल्कि यही वह अंग भी है जो आपको जिन्दा रखे हुए है। यह शरीर का सबसे परिश्रमी अंग (Heart is Most Laborious Organ in Body) है, क्योंकि यह चौबीसों घंटे अपने भारी काम में लगा रहता है और एक पल के लिये भी फुर्सत से नहीं बैठता।

2. दिल का औसत पॉवर आउटपुट 1 से 5 वाट होता है। हालाँकि यह कुछ मिनटों के लिये 100 वाट तक की शक्ति पैदा कर सकता है। अगर हम Heart की इस शक्ति की गणना, 80 वर्ष की अवधि के लिये करें, तो यह लगभग 2.5 गीगाजूल होगी।

3. चूँकि दिल की अपनी विद्युत् तरंगे (Electrical Impulses) होती है, इसीलिये अगर Heart को शरीर से अलग भी कर दिया जाय, तब भी यह धडकता ही रहेगा। बशर्ते इसे आक्सीजन की निर्बाध आपूर्ति होती रहे।

4. एक व्यस्क और स्वस्थ मनुष्य के शरीर में 5 से 6 लीटर रक्त होता है। लेकिन एक नवजात शिशु के शरीर में सिर्फ एक कप (300 ग्राम) रक्त होता है।

5. एक विद्युत् तंत्र (Electrical System) आपके दिल की ताल (Rhythm) को नियंत्रित करता है, इसे ह्रदय संचालन तंत्र (Cardiac Conduction System) कहते हैं।

Heart in Hindi बेहद शक्तिशाली है इंसानी दिल

6. जब शरीर आराम कर रहा होता है, उस समय खून को दिल से फेफडों तक जाने और वापिस आने में सिर्फ 6 सेकेण्ड लगते हैं। 8 सेकेण्ड में यह दिमाग में जाकर वापिस आ जाता है और सिर्फ 16 सेकेण्ड में पैरों के तलवों तक घूमकर फिर से वापिस दिल में आ जाता है।

7. मानव ह्रदय (Human Heart), एओर्टा (शरीर की सबसे बड़ी धमनी) के माध्यम से, शरीर को 1.6 किमी/घंटे की दर से, आक्सीकृत रक्त की आपूर्ति करता है। लेकिन जब खून केशिकाओं तक पहुँचता है, तब इसकी रफ्तार घटकर सिर्फ 109 सेमी/घंटा ही रह जाती है।

8. भले ही आप यकीन करें या न करें, लेकिन आपका दिल बहुत तेज रफ्तार से काम करता है। क्योंकि दिल की माँसपेशियों (Muscles of Heart) के फैलने और सिकुड़ने में सिर्फ 0.8 सेकेण्ड लगते हैं।

9. बायें अलिंद में भी उतना ही रक्त भरा रहता है जितना कि दायें अलिंद में, लेकिन इसकी दीवारें तीन गुणा ज्यादा मोटी होती हैं।

10. टेनिस की एक गेंद को लीजिये और इसे पूरा जोर लगाकर दाबिये और तब आप समझ जायेंगे कि आखिरकार दिल को खून को पम्प करने के लिये कितनी शक्ति लगानी पड़ती है।

Historical Facts about The Heart in Hindi

11. एक समय था जब चिकित्सकों को रोगियों के दिल की आवाज (Sound of Heart) सुनने के लिये अपने कान सीधे उनकी छाती पर रखने पड़ते थे। लेकिन सन 1816 में एक फ्रेंच चिकित्सक रेने लेनेक ने कागज़ की एक मोटी शीट को मोड़कर पहला व्यवहारिक स्टेथेस्कोप बनाया, जिसका एक सिरा चिकित्सक के कान में और दूसरा सिरा रोगी के सीने पर रहता था। इस आविष्कार की खोज भी बड़े दिलचस्प तरीके से हुई थी। एक बार बड़े स्तनों वाली एक औरत डा. रेने के पास आयी और रेने को उसके दिल की धड़कन (Heartbeat) सुनने के लिये अपने कानों को उसकी छाती पर लगाना बड़ा विचित्र लगा। इसका समाधान करने का जो उपाय उन्होंने खोजा, वही आज हम स्टेथेस्कोप के रूप में देखते हैं। दोनों कानों से सुनने वाला जो स्टेथेस्कोप आज प्रचलित हैं, इसे सन 1851 में बनाया गया था।

12. सन 1929 में जर्मन सर्जन वेर्नर फोर्समण ने अपने दिल की अंदरूनी संरचना की जाँच अपनी भुजा की नस में एक कैथेटर डालकर की थी। उन्होंने इसे शरीर के अन्दर 20 इंच और अपने दिल में प्रविष्ट कराकर कार्डियक कैथेटर की प्रक्रिया (Cardiac Catheterization) का आविष्कार किया, जिसे आज दिल की सर्जरी (Heart Sugery) में दुनिया भर में इस्तेमाल किया जाता है।

13. यूनानी चिकित्सक गैलेन मानता था कि दिल लगातार रक्त पैदा करता रहता है। हालाँकि विलियम हार्वें के रक्त परिसंचरण तंत्र की खोज ने ही, सन 1616 में इस सत्य को पहली बार प्रकट किया था कि शरीर में रक्त की एक निश्चित मात्रा है और यह एक निश्चित दिशा में प्रवाहित होता है।

Heart in Hindi दिल से जुड़े ऐतिहासिक तथ्य

14. यूनानी दार्शनिक अरस्तू का मानना था कि दिल शरीर की ऊष्मा का स्रोत है: एक प्रकार का लैंप जो यकृत से निकले खून से भरा रहता था और जो फेफडों से निकलने वाली हवा से दैवीय अग्नि प्रज्वलित करता था जबकि मस्तिष्क का काम था बस खून को ठंडा रखना।

15. यूनानी चिकित्सक, एरासिसट्रेट्स ऑफ कियोस (Erasistratus of Chios) जो ईसा से 275 वर्ष पूर्व हुआ था, वह पहला व्यक्ति था, जिसने इस चीज का पता लगाया था कि दिल वास्तव में एक प्राकृतिक पम्प (Heart is a Natural Pump) है।

16. प्राचीन मिस्री लोगों का यह विश्वास था कि Heart और शरीर के दूसरे बड़े अंगो की अपनी खुद की इच्छाएँ होती है और वह शरीर के अन्दर चल-फिर सकते हैं।

17. आधुनिक शरीर विज्ञान के जन्मदाता, एंड्रियास वेसालिउस यह मानते थे कि एक निलय से निकलने वाला खून, दूसरे निलय में रहस्यमयी छिद्रों से होकर जाता है।

18. प्लेटों ने ही सबसे पहले यह अवधारणा प्रस्तुत की थी कि तर्क का विकास मस्तिष्क में होता है, लेकिन भावनाएँ दिल में ही पैदा होती हैं।

19. दिल के रोग (Heart Disease) के सबसे पुराने मामले की पहचान, 3500 साल पुरानी, मिस्र की एक ममी के अवशेष के रूप में हुई थी।

Heart in Hindi ह्रदय विज्ञान के क्षेत्र में नये आविष्कार

20. सबसे कम आयु का ऐसा इन्सान, जिसके दिल को सर्जरी की आवश्यकता पड़ी थी, सिर्फ एक मिनट पहले जन्मा शिशु था और यह एक बच्ची थी। उसे Heart की वह बीमारी थी जिसमे ज्यादातर बच्चे जिन्दा नहीं रहते। उसकी सर्जरी सफल रही, लेकिन ऐसा करने के लिये उसके दिल का प्रत्यारोपण (Heart Transplant) करना पड़ा था।

21. विश्व में सबसे पहला पेसमेकर सन 1958 में अर्ने लार्सन को लगाया गया था जो इसे लगाने के कई वर्ष बाद तक सामान्य जीवन जीती रहीं। सन 1986 में जब उनकी मृत्यु हुई थी, तब वह जिस बीमारी से मरी थी उसका Heart से कोई सम्बन्ध नहीं था।

22. पहला सफल मानव ह्रदय प्रत्यारोपण (Transplant of Human Heart), दक्षिण अफ्रीका के हृदयरोग चिकित्सक (Cardiologist) डाo क्रिस्चियन बर्नार्ड (1922-2001) ने सन 1967 में लुइस वशान्सकी के शरीर में किया था, हालाँकि वह सिर्फ 18 दिन ही जी पाया था।

23. प्रथम ओपन हार्ट सर्जरी (Open-heart Surgery) सन 1893 में संयुक्त राज्य अमेरिका में हुई थी, जिसे प्रसिद्ध कार्डियोलोजिस्ट ‘डेनियल हेल विलियम्स’ ने संपन्न किया था।

24. ह्रदय की धड़कन (Heartbeat) को जाँचने के लिये प्रयुक्त होने वाले स्टेथेस्कोप का आविष्कार, फ्रेंच चिकित्सा विज्ञानी रेने लेंनेक (1781-1826) ने 19वीं शताब्दी में किया था।

25. सन 1903 में चिकित्सक विल्लेम एन्थोवेन ने, इलेक्ट्रोकार्डियोग्राफ का आविष्कार किया था, जो दिल में प्रवाहित होने वाली विद्युत् धारा को मापता था।

Facts about The Disease of Heart in Hindi

26. अक्सर आपने लोगों को कहते सुना होगा कि अमुक व्यक्ति का दिल बहुत बड़ा है। हालाँकि यह एक मुहावरा ही है, पर वास्तविक दुनिया में ऐसे भी लोग होते हैं जिनके Heart बड़े होते हैं। लेकिन आपको बता दें कि बड़ा दिल होने का मतलब यह नहीं है कि इसकी पम्प करने की सामर्थ्य भी बढ़ी-चढ़ी होगी। वास्तव में यह दिल के रोग का एक लक्षण है और इसे हाइपरट्रोफिक कार्डियोमायोपैथी (Hypertrophic Cardiomyopathy) कहते हैं तथा यह एथलीटों के दिल की परेशानियों से अचानक मरने की सबसे बड़ी वजह है।

27. आपको जानकर आश्चर्य होगा कि दिल के रोगों के लक्षण (Symptoms of Heart Disease), स्त्रियों और पुरुषों में अलग-अलग हो सकते हैं। जैसे पुरुषों में यह आम तौर पर बहुत ही तेज सीने के दर्द, पसीने और उबकाई के रूप में प्रकट होता है, वहीँ स्त्रियों को साँस लेने में तकलीफ, चक्कर, शरीर का अचानक हल्का हो जाना और सीने के निचले हिस्से या पेट के उपरी हिस्से में दर्द जैसा महसूस हो सकता है।

28. जब कभी कोरोनरी धमनी (Coronary Artery) अवरुद्ध हो जाती है, तब Heart को उसकी आवश्यकता के अनुरूप रक्त नहीं मिल पाता है। इस कारण से ह्रदय का प्रभावित भाग ऑक्सीजन के अभाव में मरने लगता है जिससे व्यक्ति को हृदयाघात होता है। इसे ही Medical Terminology में मायोकार्डियल इन्फार्क्षन कहते हैं।

29. क्या आपको पता है बचपन का तनाव, आगे चलकर आपके दिल को नुकसान पहुँचा सकता है। टोरंटो और वर्जिनिया टेक विश्वविद्यालय द्वारा किये गये एक शोध में पता चला है कि बचपन के अभाव/गरीबी, तनाव पैदा करने वाले हार्मोन कोर्टिसोल का स्तर इतना बढ़ा सकते है कि वह जीवन में आगे चलकर दिल के रोगों का कारण बन जाये।

30. प्यार में दिल टूटने की बात सभी ने सुनी है। पर क्या आपको पता है कि यह सिर्फ एक मुहावरा नहीं, बल्कि एक प्रकार का रोग भी है, जिसे ‘ब्रोकन हार्ट सिंड्रोम’ कहते हैं। इस रोग के लक्षण भी हार्ट अटैक से मिलते-जुलते होते हैं।

31. ब्रोकन हार्ट सिंड्रोम से किसी इन्सान की मौत होना संभव है, लेकिन सिर्फ दुर्लभतम मामलों मे ही।

AHeart Disease दिल के रोगों से जुडी महत्वपूर्ण बातें

32. शारीरिक क्रियाशीलता का दिल से बड़ा नजदीकी सम्बन्ध है। ह्रदय रोग के सबसे ज्यादा शिकार वह लोग बनते हैं जो अपनी फिटनेस पर बहुत कम ध्यान देते हैं और शारीरिक परिश्रम करने से जी चुराते हैं। कई शोध में यह बात सामने आयी है कि कमजोर फिटनेस वाले लोगों के, दिल के रोग से पीड़ित होने का खतरा दोगुना बढ़ जाता है।

33. क्या आपको पता है मोटापे का आपके Heart से सीधा सम्बन्ध है और यह आपके लिये कोई अच्छी सूचना नहीं है। क्योंकि मोटापा जितना ज्यादा बढ़ता है, ह्रदय रोग होने का खतरा भी उतना ही ज्यादा बढ़ जाता है। यहाँ तक कि कई बार तो मोटे लोगों को कम उम्र में ही मौत निगल जाती है।

34. क्या आप जानते हैं दिल के रोगों की पहचान आपके पैरों से भी हो सकती है। कुछ घटनाओं में जब आपका Heart फेल होने की ओर बढ़ने लगता है, तब आपका शरीर पानी को रोकने लगता है जिससे आपके पैरों और टाँगों में सूजन आ जाती है।

35. अनियंत्रित रक्तचाप और उसके ही जैसी दूसरी परिस्थितियाँ भी वक्त के साथ आपके Heart को फैला सकती हैं, जिससे आपके दिल के फेल होने का खतरा बढ़ जाता है और जीवन संकट में पड़ सकता है।

36. डिप्रेशन कितना खतरनाक है, यह तो सभी जानते हैं। पर क्या आपको मालूम है कि डिप्रेशन हार्ट अटैक के खतरे को बढ़ा देता है, विशेषकर औरतों के लिये यह ज्यादा खतरनाक सिद्ध होता है।

37. लम्बे समय तक बैठकर काम करने वाले लोगों को (Sitting Jobs), ह्रदय रोग होने का खतरा, सामान्य रूप से काम करने वालों की तुलना मे ज्यादा होता है।

Heart Disease is No 1 Killer लोगों को मारने में सबसे आगे है

38. ह्रदय मानव शरीर का सबसे शक्तिशाली अंग है, फिर भी दुनिया में सबसे अधिक लोग ह्रदय रोगों (Heart Disease) के कारण ही मरते हैं। वर्ष 2018 के आंकड़ों के अनुसार 7 करोड़ से भी ज्यादा लोगों की मौत, ह्रदय या उससे जुडी बीमारियों के कारण हुई थी, जो इसे दुनिया का नंबर 1 किलर बनाती है।

39. संसार में सबसे ज्यादा पुरुष दिल के रोग से ही मरते हैं, लेकिन स्त्रियों को मारने में भी यह रोग सबसे आगे है। WHO के अनुसार सभी तरह के कैंसर को मिलाकर भी इतनी औरतें नहीं मरती, जितनी के दिल के रोग से।

40. सभी कैसर रोगों में दिल का कैंसर (Heart Cancer) सबसे दुर्लभ होता है, क्योंकि ह्रदय की कोशिकाओं में विभाजन नहीं होता है। दिल की इस विशेषता के कारण ही यह जानलेवा रोग इसे अपना शिकार नहीं बना पाता है।

41. दुनिया में सबसे अधिक रोगी ह्रदय से संबंधित समस्याओं के कारण ही पीड़ित हैं। नवीनतम आँकड़ों के अनुसार, पूरे विश्व में 35 करोड़ व्यक्ति ह्रदय रोगों के कारण पीड़ित हैं।

42. अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका में हर तीसरी औरत, हृदय रोग की शिकार है।

43. उनके अनुसार इस देश में, हर मिनट में एक स्त्री की मौत, Heart से जुडी बीमारियों के कारण होती है। [स्रोत]

How to Save Your Heart in Hindi

44. सिगरेट और दूसरे नशीले द्रव्य जितने नुकसानदायक फेफड़ों के लिये होते हैं, उतने ही वह Heart के लिये भी होते हैं। यह शरीर में शुद्ध ऑक्सीजन का स्तर कम करते हुए, जहरीले निकोटीन और अन्य गैसों को रक्त में मिश्रित कर देते हैं। यह जहरीला रक्त शरीर के प्रत्येक अंग की कार्यक्षमता और संरचना को बुरी तरह प्रभावित करता है।

45. जो लोग अधिक चिंता करते हैं, अवसाद में रहते हैं या बहुत अधिक क्रोध या ईर्ष्या करते हैं, उनके हृदय की माँसपेशियाँ (Muscles of Heart) धीरे-धीरे कमजोर पड़ने लगती हैं। इसलिये चिंता करके अपने शरीर को चिता के लायक न बनाये और एक हँसता खेलता जीवन जीयें।

46. शराब आपके Heart के लिये नुकसानदायक है। एक शोध में पाया गया है कि जो लोग नियमित रूप से 1 गिलास से ज्यादा एल्कोहल का सेवन करते हैं, उन्हें दिल के रोग होने का खतरा, शराब नहीं पीने वालों की तुलना में कहीं ज्यादा होता है।

“प्रचंड भावनाएँ और तनाव किसी इन्सान का दिल तोड़ सकते हैं। इसे ही ब्रोकन हार्ट सिंड्रोम कहते हैं और मुख्य रूप से मेनोपाज के बाद की अवस्था वाली स्त्रियाँ इससे ज्यादा प्रभावित होती हैं।”
जीवनसूत्र को अपना प्यार बाँटें
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •