20 Qualities of A Good Husband in Hindi

 

विवाहित जीवन आशाओं और जिम्मेदारियों से भरा जीवन का एक नया अध्याय है जिसके लेखक पति और पत्नी दोनों हैं। कई कथानकों में पति और पत्नी को गृहस्थी की गाडी के दो पहियों की संज्ञा दी गयी है, क्योंकि जिस तरह किसी गाडी के सही प्रकार से चलने के लिये उसके दोनों पहियों के बीच का संतुलन सही रहना आवश्यक है ठीक उसी तरह से पति-पत्नी का पारस्परिक सहयोग और सामंजस्य उनके विवाहित जीवन के सफल और सुखमय बने रहने के लिये जरुरी है।

Best Qualities of A Good Husband in Hindi
जहाँ बिना प्रेम के विवाह है, वहाँ बिना विवाह के प्यार होगा

पाश्चात्य देशों में लोग अपना जीवनसाथी चुनने से पहले ही उसे करीब से जान लेना चाहते हैं ताकि विवाह के बाद कलह और विरोध की कोई गुंजाईश बाकी न रहे इसके लिये वह डेटिंग और प्रेम विवाह जैसे हथियारों का सहारा लेते हैं लेकिन इतना प्रयास करने के बावजूद सैकड़ों में से कोई एक ही जोड़ा होता होगा जो मरते दम तक साथ बने रहते होंगे अन्यथा अपने जीवनकाल में दो से तीन बार साथी बदलना वहाँ आम है

चलिये अब अपने भारत को लेते हैं जहाँ डेटिंग और प्रेम विवाह का प्रचलन होने के बावजूद माता-पिता द्वारा तय की गयी “अरेंज्ड मैरिज” ही अधिक देखने को मिलती है जिसकी सफलता की दर आज भी 95 प्रतिशत से अधिक है ऐसा नहीं है कि कोई भी प्रेम विवाह पूरी तरह सफल नहीं होता, लेकिन ऐसा बहुत कम ही देखा जाता है कि प्रेम विवाह करने वाले जोड़े जीवन के अंत तक साथ निभाते देखे गये हों तो आखिर विवाह के सफल होने की शर्त क्या है?

वह कौन से कारक हैं जो वैवाहिक जीवन में मिलने वाले सुख को निर्धारित करते हैं क्या इसमें देश विशेष की संस्कृति का योगदान है या अनुभवी माता-पिता की वह समझदारी जो वह अपने बच्चों के रिश्ते जोड़ते समय प्रदर्शित करते हैं या फिर अपना ही भाग्य इसके लिये उत्तरदायी है, क्योंकि शादियाँ तो जन्नत में तय होती हैं

प्रत्येक व्यक्ति चाहे वह स्त्री हो या पुरुष अपने लिये जीवनसाथी के रूप में एक ऐसे व्यक्ति की कामना करता है जो उससे सच्चा प्रेम करे, उसका आदर करे, उसके परामर्श को महत्वपूर्ण माने और उसकी हर इच्छा को पूरा करने को तत्पर रहे अपने होने वाले जीवनसाथी से यह कामनाएँ करना किसी भी प्रकार से गलत नहीं है, क्योंकि आनंद प्राप्ति की इच्छा जीव का प्राकृतिक स्वभाव है

जब हमारा यथार्थ स्वरुप ही आनंदमय है तो फिर हम दुःख और दुःख देने वाली चीज़ों की ओर अग्रसर कैसे हो सकते हैं? लेकिन अपनी इच्छा प्रकट करते हुए हर व्यक्ति यह भूल जाता है कि क्या उसके जीवनसाथी के मन में भी वही अरमान नहीं होंगे जैसा कि उसके अपने ह्रदय में हैं जिसे आप अपना जीवनसाथी बनाना चाहते हैं क्या वह व्यक्ति नहीं चाहता होगा कि आप भी उसके प्रति एकनिष्ठ रहकर, पूर्ण रूप से समर्पण करें

उसके सुखों के लिये त्याग करें उसके दुःख में अपना दुःख मानें उसकी उन्नति के लिये प्रयत्नशील रहें यदि आप विवाह करने जा रही हैं तो आपको अपने जीवनसाथी में यह 20 गुण अवश्य देखने चाहियें जो एक आदर्श पति के लिये आवश्यक माने गये हैं और यदि पुरुष भी अपनी पत्नी की दृष्टि में एक अच्छे पति बनकर उसका प्यार चाहते है तो उन्हें भी इस लेख को ध्यान से पढना चाहिये

Spread Your Love