15 Longest Rivers of The World in Hindi

 

“नील नदी दुनिया के सबसे लम्बी नदी है जिसकी कुल लम्बाई 6695 किमी है। इसके पश्चात दुनिया की दस सबसे बड़ी नदियाँ हैं – अमेजन, याँगटिसीक्यांग,मिसिसिप्पी, येनेसी, ह्वांगघे, पराना, कांगो, अमूर, लीना और मेकाँग नदी।”

 

Know Facts about Smallest, Longest and Deepest Rivers of The World : –

World Facts की इस अनोखी श्रंखला में जीवनसूत्र पर यह पहला लेख है जिसमे हम आपका परिचय संसार से संबंधित उन भौगोलिक और ऐतिहासिक तथ्यों से करायेंगे जिनकी जानकारी शिक्षित युवा वर्ग को होनी चाहिये। अपनी धरती और इस संसार के विषय में मूलभूत जानकारी होने के कई लाभ हैं, जिन्हें आप धीरे-धीरे इन लेखों के माध्यम से स्वयं ही जान जायेंगे।

आज इसी कड़ी में हम संसार की दस सबसे बड़ी नदियों का वर्णन करने जा रहे हैं। यहाँ हमने अधिक तथ्य न देते हुए केवल कुछ सामान्य जानकारी देने का ही प्रयास किया है, क्योंकि इससे अधिक जानने की आवश्यकता सिर्फ इस विषय में विशेषज्ञता रखने वाले लोगों को ही होती है।

1. The Nile River नील –

नील नदी को आधिकारिक रूप से विश्व की सबसे लंबी नदी माना जाता है। इसकी कुल लम्बाई 6695 किमी (4160 मील) और चौड़ाई लगभग 3 किमी तक है। यह अफ्रीका महाद्वीप की भी सबसे बड़ी नदी है और इसके उत्तरी-पूर्वी क्षेत्र से होकर गुजरती है। नील नदी एकमात्र नदी है जो दक्षिण से उत्तर दिशा (अपने स्रोत से अवसान तक) की ओर बहती है। इसकी मुख्य सहायक नदियाँ श्वेत नील और नीली नील हैं। इसका उद्गम स्थान बुरुंडी की रुविरोंजा नदी को माना जाता है।

कहाँ से होकर गुजरती है – नील नदी को एक अंतर्राष्ट्रीय नदी माना जाता है, क्योंकि यह अफ्रीका के 11 देशों एरिट्रीया, सूडान, दक्षिणी सूडान, बुरुंडी, रवांडा, कांगो गणराज्य, तंज़ानिया, केन्या, इथोपिया, यूगांडा और मिस्र से होकर गुजरती है। मिस्र और सूडान के लिये यह जल का प्राथमिक स्रोत है। यह नदी अंत में मिस्र की सीमा से लगते भूमध्य सागर में मिल जाती हैै।

 

Largest Rivers of The World in Hindi - Nile and Amazon
Left- Nile River, Right- Amazon River

2. Amazon River अमेज़न –

अमेजन विश्व की दूसरी सबसे लम्बी नदी है। इसकी कुल लम्बाई 6438 किमी (4000 मील) है। हालाँकि इसमें बहने वाले पानी की मात्रा के अनुसार यह दुनिया की सबसे बड़ी नदी है। इसकी चौड़ाई 11 किमी से लेकर 180 किमी तक मापी गयी है, जो मौसम के अनुसार घटती बढती रहती है। कई वैज्ञानिकों और सर्वेक्षणों का मानना है कि अमेजन दुनिया की सबसे लम्बी नदी भी है। उनके अनुसार इसकी लम्बाई नील नदी से भी ज्यादा है।

National Geographic में छपी News के अनुसार ब्राजीली वैज्ञानिकों के एक दल के अनुसार अमेज़न ही दुनिया की सबसे बड़ी नदी है, न कि नील। इन वैज्ञानिकों का दावा है कि इन्होने दक्षिणी पेरू में बर्फ से ढकी पर्वतश्रंखलाओं में स्थित इस नदी के उद्गम का पता लगा लिया है जिसने एक बार फिर से सबसे बड़ी नदी के विवाद को बाहर ला दिया है।

इन दोनों नदियों की लम्बाई के सम्बन्ध में विवाद भले ही हो, लेकिन अमेजन को आधिकारिक रूप से विश्व की सबसे अधिक चौड़ी और सबसे अधिक विशाल नदी (पानी के आयतन के अनुसार) अवश्य माना जाता है। अटलांटिक में गिरने वाले 20 प्रतिशत जल की आपूर्ति सिर्फ अमेजन नदी से होती है। यह दक्षिण अमेरिका महाद्वीप की सबसे बड़ी नदी है। इसका उद्गम स्थल पेरू देश में स्थित रिओ मंटारो नामक स्थान है।

कहाँ से होकर गुजरती है – अमेजन दक्षिण अमेरिकी महाद्वीप के सात देशों ब्राजील, पेरू, बोलीविया, कोलंबिया, इक्वेडोर, वेनेजुएला और गुयाना से होकर गुजरती है और अंत में अटलांटिक महासागर में मिल जाती है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि अमेजन नदी में प्रति सेकेण्ड बहने वाले पानी का औसत बहाव, दुनिया की आठ सबसे बड़ी नदियों के कुल बहाव से भी ज्यादा है।

3. Yangtze River याँगटिसीक्यांग –

याँगटिसीक्यांग या यांगत्जी विश्व की तीसरी सबसे बड़ी नदी है। इसकी कुल लम्बाई 6418 किमी (3988 मील) है। यह एशिया महाद्वीप की सबसे बड़ी नदी होने के साथ-साथ चीन की भी सबसे बड़ी नदी है। यांगत्जी नदी की चौड़ाई 5 किमी से लेकर 25 किमी तक है। इसका उद्गम क्षेत्र तंग्गुला पर्वतों में स्थित जारी हिल्स हैं (यह किंघई-तिब्बत पठार क्षेत्र में स्थित हैं) जो किनघई प्रदेश के अन्तर्गत आता है। इसकी 700 से भी ज्यादा सहायक नदियाँ हैं।

कहाँ से होकर गुजरती है – याँगटिसीक्यांग नदी विश्व की दस सबसे बड़ी नदियों में से एकमात्र नदी है जो आदि से अंत तक सिर्फ एक ही देश से होकर बहती है। अपने उद्गम स्थान से निकलने के बाद यह पूर्व दिशा की ओर बहती हुई चीन के दक्षिणी, पश्चिमी और मध्य भाग से होकर गुजरते हुए शंघाई के पास पूर्वी चीन सागर में मिल जाती है। लेकिन इससे पहले यह चीन के 7 राज्यों के लगभग 20 लाख वर्ग किमी क्षेत्र की सिंचाई करती है।

4. Mississippi–Missouri River मिसिसिप्पी-मिसौरी –

मिसिसिप्पी नदी विश्व की चौथी सबसे बड़ी नदी है। इसकी कुल लम्बाई 6275 किमी (3902 मील) है। यह उत्तरी अमेरिका महाद्वीप की सबसे बड़ी नदी होने के साथ-साथ संयुक्त राज्य अमेरिका की भी सबसे बड़ी नदी है। इसका उद्गम स्थान उत्तरी मिनसोटा के Itasca State Park में स्थित इटास्का झील है, जहाँ से यह धीरे-धीरे घुमावदार तरीके से दक्षिण दिशा की ओर बहती हुई चली जाती है।

इसकी चौड़ाई अपने उद्गम क्षेत्र के 20 फीट से लेकर 18 किमी तक है। मिसिसिप्पी नदी हडसन बे के पश्चात, उत्तरी अमेरिका महाद्वीप के दूसरे सबसे बड़े drainage system की मुख्य नदी है। मिसौरी इसकी मुख्य सहायक नदी है जो लगभग 3767 किमी लंबी है।

कहाँ से होकर गुजरती है – कनाडा में पड़ने वाले इसके drainage basin के लगभग 100 किमी के हिस्से को छोड़ दिया जाय, तो यह पूरी नदी सिर्फ अमेरिका से ही प्रवाहित होती है। रॉकी और एप्लेशियन पर्वतमालाओं के बीच स्थित 31 अमेरिकी राज्यों और दो कनाडाई प्रदेशों से गुजरने के पश्चात मिसिसिप्पी नदी मैक्सिको की खाड़ी में गिर जाती है।

5. Yenisei River येनेसी –

येनेसी नदी विश्व की पाँचवीं सबसे बड़ी नदी है। इसकी कुल लम्बाई 5539 किमी (3445 मील) है। इसे अंगारा और सेलेंगे के नाम से भी जाना जाता है। यह रूस की सबसे बड़ी नदी होने के साथ-साथ, आकर्टिक महासागर की ओर बहने वाली सबसे बड़ी नदी भी है। इसका उद्गम स्थान मंगोलिया के पश्चिमी क्षेत्र में स्थित मुन्गरागिन-गोल रिज (Mungaragiyn-Gol  Ridge) है जो समुद्र तल से 3,351 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।

इसकी चौड़ाई अलग-अलग स्थान पर 90 मीटर से लेकर 150 किमी तक मापी गई है। यह साइबेरिया प्रदेश की उन तीन सबसे बड़ी नदियों में से एक है जो आकर्टिक महासागर में गिरती हैं। इस नदी का एक हिस्सा दुनिया की सबसे गहरी झील बेकल को भी जलापूर्ति करता है।

कहाँ से होकर गुजरती है – अपने उद्गम क्षेत्र के छोटे से हिस्से (लगभग 165 किमी) को छोड़ दिया जाय तो यह पूरी नदी सिर्फ रूस से ही होकर गुजरती है। अंगारा इसकी मुख्य सहायक नदी है। मध्य साइबेरिया के बड़े क्षेत्र को सिंचाई का सशक्त साधन उपलब्ध कराने के पश्चात, येनेसी नदी कारा सागर में गिर जाती है।

6. Yellow River ह्वांगघे (पीली नदी) –

पीली नदी एशिया की तीसरी और विश्व की छठी सबसे बड़ी नदी है। इसकी कुल लम्बाई 5464 किमी (3395 मील) है। चीन की दो सबसे बड़ी नदियों में इसकी गणना होती है। इसकी चौड़ाई 45 मीटर से लेकर 50 किमी तक है। इसे ह्वांगघे के नाम से भी जाना जाता है। इसका उद्गम स्थान पश्चिमी चीन के किनघई प्रदेश में स्थित बयां हर पर्वत (Bayan Har Mountains) हैं।

इस नदी को चीन का शोक कहा जाता है, क्योंकि यह बरसाती दिनों में वहाँ भीषण बाढ़ का कारण बनती है। जिसके कारण कई राज्यों की अर्थव्यवस्था को खासा नुकसान पहुँचता है। सन 1931 में ह्वांगघे नदी में आई बाढ़, इतिहास की सबसे भीषण प्राकृतिक आपदा मानी जाती है जिसमे लगभग 40 लाख लोगों की मौत हो गयी थी।

कहाँ से होकर गुजरती है – चीन के 9 राज्यों से गुजरने के पश्चात पीली नदी डोंगयिंग शहर के समीप बोहाई सागर में गिर जाती है। काली नदी, श्वेत नदी और ताओ नदी, ह्वांगघे की मुख्य सहायक नदियाँ हैं। इस नदी का नाम येलो रिवर पड़ने के पीछे कारण यह है कि इसका जल प्रवाह काफी तीव्र है जिसके कारण इसके जल का रंग मटियाले-पीले रंग का नजर आता है।

7. Ob River ओब नदी –

ओब नदी विश्व की सातवीं सबसे बड़ी नदी है। इसकी कुल लम्बाई 5410 किमी (3364 मील) और चौड़ाई 50 किमी तक है। ओब नदी रूस के अल्ताई करै (Altai Krai) प्रदेश के बियस्क शहर के दक्षिण-पश्चिम में स्थित उस स्थान से निकलती है जहाँ बिया और कातून, इन दो नदियों का संगम है। ये दोनों नदियाँ अल्तय पर्वत (Altay Mountains) से निकली हैं। इर्तिश नदी ओब नदी की मुख्य सहायक नदी है।

कहाँ से होकर गुजरती है – ओब नदी का पूरा मुख्य प्रवाह रूस में ही पड़ता है, लेकिन इसकी कई धाराएँ मंगोलिया, कजाकिस्तान और चीन तक फैली हुई हैं। यह साइबेरिया के पश्चिमी क्षेत्र से निकलने वाली रूस की दूसरी सबसे बड़ी नदी है। रूस की तीनों प्रमुख नदियाँ येनेसी, ओब और लेना, साइबेरिया के अत्यधिक शीत क्षेत्र से ही निकलती हैं। यह नदी रूस, कजाकिस्तान, चीन और मंगोलिया से गुजरती हुई अंत में ओब की खाड़ी में मिल जाती है।

8. Paraná River पराना –

पराना नदी विश्व की आठवीं सबसे बड़ी नदी है। इसकी कुल लम्बाई 4880 किमी (3030 मील) तथा इसके डेल्टा की अधिकतम चौड़ाई 100 किमी तक है। यह नदी दक्षिणी अमेरिका महाद्वीप के दक्षिण-मध्य क्षेत्र की सबसे प्रमुख नदी है। इसका उद्गम स्थल दक्षिणी ब्राज़ील का बोकाइना डे मिनस (Bocaina de Minas) नामक स्थान है जहाँ रिओ ग्रांड और परानैबा इन दो नदियों का संगम होता है। यहाँ से परना नदी दक्षिण-पश्चिम दिशा की ओर बहती चली जाती है।

कहाँ से होकर गुजरती है – पराना नदी, अमेजन के बाद इस महाद्वीप की दूसरी सबसे बड़ी नदी है। यह इस महाद्वीप के पाँच देशों ब्राज़ील, अर्जेंटीना, पैराग्वे, बोलीविया और उरुग्वे से गुजरते हुए, अंत में रिओ डी ले प्लाटा की खाड़ी में मिल जाती है। जिसका निर्माण पराना, उरुग्वे और पैरागुए यह तीनों नदियाँ मिलकर करती हैं, जो कि स्वयं भी अटलांटिक महासागर में मिल जाता है। हालाँकि कुछ लोग इसे खाड़ी के बजाय नदी या आंशिक समुद्र ही समझते हैं।

9. Congo River कांगो –

कांगो नदी विश्व की नौवीं सबसे बड़ी नदी है। इसे जायरे और चम्बेशी के नाम से भी जाना जाता है। इसकी कुल लम्बाई 4700 किमी (2922 मील) है। यह नील नदी के बाद अफ्रीका महाद्वीप की दूसरी सबसे बड़ी नदी है। इसकी चौड़ाई 700 मीटर से लेकर 20 किमी तक है। कांगो नदी इसमें प्रवाहित होने वाले जल की मात्रा के अनुसार, अमेजन नदी के बाद विश्व की दूसरी सबसे बड़ी नदी है।

इस नदी का उद्गम स्थल बोयोमा झरने के पास लुअलबा नदी है। यह नदी दुनिया की सबसे गहरी नदी है, इसकी गहराई 220 मीटर (720 फीट) से भी अधिक है। कांगो बेसिन जिसका निर्माण यह नदी अपनी अन्य सहायक नदियों से मिलकर करती है, लगभग 40 लाख वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है। कांगो के वर्षा वन, अमेजन के वर्षावनों के बाद संसार के सबसे बडे वर्षावन है।

कहाँ से होकर गुजरती है – कांगो नदी विषुवत (भूमध्य) रेखा को दो बार काटती है और उत्तर-पश्चिम दिशा में अफ्रीका महाद्वीप के 9 देशों अंगोला, बुरुंडी, कैमरुन, मध्य अफ्रीका गणराज्य, कांगो गणराज्य, गैबन, तंजानिया, जाम्बिया और रवांडा से बहती हुई अंत में अटलांटिक महासागर में मिल जाती है।

10. Amur River अमूर –

अमूर नदी विश्व की दसवीं सबसे बड़ी नदी है। इसकी कुल लम्बाई 4444 किमी (2763 मील) है। यह नदी रूस, चीन और मंगोलिया इन तीन देशों से होकर बहती है। चीन में इसे हेइलोंग जिंग और ब्लैक ड्रैगन रिवर के नाम से भी जाना जाता है। यह रूस के सुदूर पूर्वी इलाके और उत्तर-पूर्वी चीन (भीतरी मंचूरिया) की सीमा का विभाजन करती है।

इस नदी का उद्गम स्थान उत्तर-पूर्व चीन के पश्चिमी भाग की पहाडियों में में स्थित पोक्रोव्का नामक स्थान है जहाँ शिल्का और आर्गुन नदी का संगम है। ये दो नदियाँ ही अमूर नदी का मुख्य स्रोत हैं। हुमा, जेया, बुरेया और सोंघुआ नदी इसकी मुख्य सहायक नदियाँ हैं।

कहाँ से होकर गुजरती है – अपने स्रोत से निकलने के पश्चात अमूर नदी पूर्व दिशा की और चलती है और दक्षिणपूर्व दिशा में धीरे-धीरे बहते हुए लगभग 400 किमी लम्बा एक आर्क बनाती है और खुद को कई नदियों से जोडती है। अंत में यह नदी ओखोटस्क सागर में मिल जाती है।

11. Lena River लीना –

लीना नदी रूस की तीसरी और विश्व की ग्यारहवीं सबसे बड़ी नदी है। इसकी कुल लम्बाई 4400 किमी (2736 मील) है। यह अपने उद्गम क्षेत्र साइबेरिया से लेकर अपने अवसान तक सिर्फ रूस में ही बहती है। अंत में यह लाप्तेव सागर में गिर जाती है।

12. Mekong River मेकाँग –

मेकाँग नदी विश्व की बारहवीं सबसे बड़ी नदी है। इसकी कुल लम्बाई 4350 किमी (2705 मील) है। यह एशिया महाद्वीप की सातवीं सबसे बड़ी नदी है। यह चीन, म्यांमार, लाओस, थाईलैंड, कम्बोडिया और वियतनाम से बहती हुई अंत में दक्षिण चीन सागर में मिल जाती है। मेकाँग नदी इन छोटे देशों में सिंचाई का सबसे प्रमुख साधन है।

“मानव की महान उपलब्धियाँ विचारों के प्रसारण और जोश का परिणाम हैं।”
– थॉमस जे. वाटसन

 

Comments: आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि जीवनसूत्र को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। एक उज्जवल भविष्य और सुखमय जीवन की शुभकामनाओं के साथ!

Spread The Love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •