Best Maha Shivratri Quotes, Images, Messages, Status and Wishes in Hindi

 

“आखिर फाल्गुन कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी के साथ आज भगवान भोलेनाथ का परम प्रिय दिन आ ही गया है जिसे महाशिवरात्रि के नाम से जाना जाता है और जिसे पूरे भारत में बड़े हर्ष के साथ मनाया जा रहा है। महाशिवरात्रि हिन्दुओं के सबसे पावन त्यौहारों में से एक है, क्योंकि यह भगवान शिव को समर्पित है।”

 

Maha Shivratri Quotes, Images, Status and Wishes in Hindi

स्कंदपुराण के अनुसार शिवरात्रि शिवजी की सबसे प्रिय तिथि है। शिवरात्रि वर्ष में दो बार आती है और दोनों ही शिवजी को बहुत प्रिय हैं। इस दिन भक्त, भगवान शिव का दूध, जल और कितने ही पदार्थों से जलाभिषेक करते हैं तथा व्रत-उपवास रखते हुए उनकी प्रसन्नता हेतु पूजा-अर्चना करते हैं। फाल्गुन और श्रावण मास की त्रयोदशी तिथि की रात्रि को ही शिवरात्रि कहते हैं। कहते हैं कि इसी रात्रि को भगवान शिव लिंग के रूप में प्रकट हुए थे।

आज के दिन लोग एक-दूसरे के पास बधाई सन्देश और शुभकामनाएँ भेजते हैं। उनके इस पवित्र कार्य को सरल करने के लिये हमने भगवान शिव की प्रशंसा में कुछ रचनाएँ लिखी हैं। जिन्हें बधाई संदेश, Welcome Message, SMS, Whatsup Status, Shayri आदि के रूप में भेजा जा सकता है। हमें आशा है कि यह रचनाएँ आपको निश्चित रूप से पसंद आयेंगी, तो चलिये इन संदेशों के साथ शिवरात्रि के इस त्यौहार को हर्षोल्लास से मनायें –

ऊँ नमः शिवाय

आप इन संदेशों को अपने मित्रों, प्रियजनों, और सहपाठियों को इस रूप में भेज सकते हैं –

Happy Mahashivratri Images in Hindi
Shivratri Quotes in Hindi
Shivratri Wishes in Hindi
Shivratri Status in Hindi
Shivratri Shayri in Hindi
Mahashivratri SMS in Hindi
Lord Shiva Shloaks in Hindi

 

Happy Maha Shivratri Status in Hindi

 

जब हलाहल की ज्वाला से देवता भी थर्राये थे,
तब नीलकंठ ही दौड़े-दौड़े उन्हें बचाने आये थे
जब नहीं था कोई समर्थ गंगा के वेग को सहने में
तब गंगाधर ही उस देवनदी को भूतल पर लाये थे
जिस मृत्यु के भय से काँपता सारा संसार है
उस काल को जीतकर वह मृत्यंजय कहलाये थे
आओ पूजन करें इस शिवरात्रि पर उस परमपिता का
जिसने गणपति और कार्तिकेय जैसे पुत्र जाये थे

भस्म और कपाल ही हैं आभूषण जिसके
रे मन क्यों नहीं भजता तू उस शिव को
ऋषि, देव, दानव भी करते सजदा जिसको
है बारंबार नमन उस त्रिपुरारी नीलकंठ को

काल भी काँपता है थर-थर जिनके सामने आने से,
है कौन समर्थ उस महाकाल का सामना करने में
नहीं चलता जिस पर जोर किसी का, आ जाता है
वह अजित बस अपने भक्तों के सच्चे प्रेम से वश में

अकाल मृत्यु वह मरे जो काम करे चांडाल का,
काल उसका क्या करे जो भक्त हो महाकाल का
शिवरात्रि पर सभी धर्मप्रेमियों को हार्दिक बधाई

Sanskrit Shlokas for Lord Shiva on Mahashivratri

वन्दे देवमुमापतिं सुरगुरुं, वन्दे जगतकारणं
वन्दे पन्नगभूषणंमृगधरं, वन्दे पशुनांपतिम
वन्दे सूर्यशशांकवहिनयनं, वन्दे मुकुंदप्रियं
वन्दे भक्तजनाश्रयं च वरदं, वन्दे शिवंशंकरम

नागेंदहाराय त्रिलोचनाय भस्मांगधाराय महेश्वराय
नित्याय शुद्धाय दिगम्बराय तस्मै न काराय नमः शिवाय

 

Best Maha Shivratri Quotes in Hindi

 

जीत लिया जग उसने, पूजन किया जिसने पशुपतिनाथ का
लाँघ गया सीमाएँ काल की, वह जो बन गया दास महारुद्र का
हुए प्रसन्न शर्व जिस पर, कर न सका कोई अतिक्रमण उसका
आओ पूजन करे इस शिवरात्रि पर, उस परम कृपालु सदाशिव का

सारा जहाँ लोटता है जिसके पावन चरणों में
चलो आ जाँय उस शिव शम्भू की शरण में
अविनाशी जो है दाता सबसे बड़ा इस जग में
आओ मिलकर ध्यान करें उसका इस शिवरात्रि में

शिव की जटाओं से निकलकर गंगा बनी मोक्षदायिनी
शिव की संगिनी बनकर स्त्रियों में प्रथम पूज्य हुई पार्वती
शिव के संग से नागराज बने जन-जन की श्रद्धा के प्रिय
शिव की कृपा से ही देवताओं में अग्रगण्य हुए गणपति

हंस कर दुनिया में मरा कोई, कोई रोकर मरा
जिंदगी जी मगर उसने, जो कुछ होकर मरा
जी उठा मरने से वह जिसकी, खुदा पर थी नजर
जिसने दुनिया ही को पाया था, वह सब खोकर मरा

Mahashivratri Welcome Message in Hindi

है कोई नहीं इस जग में भोले तेरे जैसा वरदानी
इसलिये करते हैं ध्यान तेरा सब योगी और ध्यानी
अमृत देकर खुद विष पिया क्या गायें महिमा तेरी
नहीं कोई उसे मेटने वाला आ जाय शरण जो तेरी

पिनाक धारण करने वाले पिनाकी को नमस्कार है
समस्त पशुओं के स्वामी पशुपतिनाथ को नमस्कार है
तड़प उठा जो अपनी संतानों के दुःख को देखकर
उस हलाहल को पीने वाले नीलकंठ को नमस्कार है

 

Maha Shivratri Wishes in Hindi

 

ऊँ से है नमन उन प्रभु को जिनसे, यह जड़-चेतन जगत बनता
है जो सबका आदि कारण, सबका उत्पत्तिकर्ता,
जिसकी माया से भ्रमित हो भटक रहे जीव सब अनंतकाल से,
करते हैं प्रणाम हे विश्वेश्वर तुझे अपने श्रद्धापूरित ह्रदय से

शब्दब्रह्मा कराता है बोध जिनका
है कौन ज्ञाता उसका अचिन्त्य का
काल भी चलता जिसकी आज्ञा में
है कौन नियामक उस महाकाल का

सकल ब्रह्मांड के स्वामी कहे जाते हैं वह विश्वनाथ
समस्त प्राणियों के जनक हैं आदिदेव पशुपतिनाथ
सच्चे दिल से माँगने वाले को सब दे देते हैं भोलेनाथ
और मुर्दों में भी जान डाल देते हैं वह वैद्यनाथ

महिमा अपरम्पार है अर्धनारीश्वर शिव की
नहीं जानते है अज्ञानीजन शक्ति उसकी
पर प्रेम से पूजन करता है जो उस अनंत का
बोध करा देता है उसे अंतर्यामी अपने स्वरुप का

Mahashivratri Greetings for Devotees in Hindi

तीन सुंदर नेत्रों वाला है मेरा गौरवर्ण त्रिनेत्रधारी
लुटाकर सब कुछ ही कहलाया वह औघडदानी
पार्वती के तप से प्रसन्न होकर बने वह उमापति
आओ जय-जयकार करें उस सर्वेश्वर सदाशिव की

मुर्दों को जीवन देकर शिव बने थे मृत्यंजय
गंगा को धारण करके कहलाये थे वह गंगाधर
है कोटि-कोटि प्रणाम उस कपाली के श्रीचरणों में
जो रोगियों के प्राण बचाकर बने थे वैद्यनाथ

 

“गंगाधर, विद्याधर, वैद्यनाथ, विश्वनाथ, उमापति, कैलाशपति, पशुपतिनाथ, महाकाल, महारुद्र, त्रिनेत्रधारी, कपाली, शर्व, शिवशम्भू, ईश, सर्वेश्वर, अजित, पिनाकी, नीलकंठ और मृत्यंजय कहलाने वाले उन सदाशिव की मै शरण जाता हूँ।”

 

Comments: आशा है यह Quotes आपको पसंद आयी होंगी। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें बताने का कष्ट करें कि जीवनसूत्र को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। एक उज्जवल भविष्य और सुखमय जीवन की शुभकामनाओं के साथ!

Spread Your Love