Creativity Meaning in Hindi for Creative People

 

“रचनात्मक लोग, सामान्य लोगों की तुलना में ज्यादा अपरिष्कृत होने के साथ-साथ अधिक सुसंस्कृत, उनसे अधिक विध्वंसक, कहीं अधिक मजीठ, और कहीं ज्यादा संतुलित होते हैं।”
– फ्रैंक बैरन

 

Creativity Meaning in Hindi for Creative People
रचनात्मकता ही कामयाबी की चाबी है

Meaning of Creative in Hindi क्रिएटिविटी का अर्थ

Creative एक Adjective भी है और Noun भी। Adjective के रूप में Creative के हिंदी में अर्थ (Meaning) इस प्रकार हैं – रचनात्मक, मौलिक (Original), काल्पनिक (Imaginative), प्रेरित (Inspired), सृजनशील (Artistic), सृजनात्मक (Inventive), साधनपूर्ण (Resourceful), प्रवीण (Ingenious), नवाचार में कुशल (Innovative), सृजन करने की शक्ति वाला या उत्पादक (Productive)।

Noun के रूप में Creative का अर्थ है – एक रचनात्मक व्यक्ति, विचार या वस्तु।

Creative इंसान किसे कहते हैं, इसकी एक सरल परिभाषा यहाँ दी जा रही है –

“A Creative Person is one who uses his skills, ability and imagination to produce something new or a work of art. Creative People thinks about problems and ideas in a new way.”

“एक रचनात्मक इन्सान वह है जो अपने कौशल, योग्यता और कल्पना का उपयोग किसी नयी चीज का सृजन करने या कला के काम में करता है। रचनात्मक लोग समस्याओं और विचारों के बारे में बिल्कुल नये तरीके से सोचते हैं।”

 

Definition of Creativity in Hindi परिभाषा

Creativity का वास्तविक अर्थ क्या है इस पर लगभग 100 से भी ज्यादा परिभाषाएं दी गयी हैं, पर उनमे से जो सर्वश्रेष्ठ हैं उन्हें चुनकर हम यहाँ दे रहे हैं –

“Creativity is the process which makes a person capable to think freely and enables him to form something new and somehow valuable. In other words, Creativity is the act of turning new and imaginative ideas into reality. The created item may be intangible (such as an idea, a scientific theory, a musical composition or a joke) or an original physical object (such as an invention, a literary work or a painting).”

“रचनात्मकता व्यक्ति को स्वतंत्र चिंतन कर सकने में समर्थ बनाने वाली और उसे किसी नई और उपयोगी वस्तु का सृजन करने में सक्षम बनाने वाली प्रक्रिया है। दूसरे शब्दों में कहें तो Creativity नये और कल्पनाशील विचारों (युक्तियों) को वास्तविकता में बदलने का प्रक्रम है। निर्मित वस्तु या तो अमूर्त हो सकती है, जैसे कोई विचार, वैज्ञानिक सिद्धांत आदि या फिर यह एक मौलिक भौतिक वस्तु हो सकती है, जैसे – कोई आविष्कार या फिर कला का कोई कार्य।”

Robert E. Franken, Human Motivation में Creativity की परिभाषा इस प्रकार से देते हैं –

“Creativity is defined as the tendency to generate or recognize ideas, alternatives, or possibilities that may be useful in solving problems, communicating with others, and entertaining ourselves and others.”

“रचनात्मकता विचारों, विकल्पों या संभावनाओं को उत्पन्न करने और पहचानने, की उस प्रवृत्ति के रूप में परिभाषित की जाती है जो समस्याओं के समाधान, दूसरों के साथ वार्तालाप करने, और स्वयं के तथा दूसरों के मन को बहलाने में उपयोगी हो सकती है।”

वास्तव में रचनात्मकता विचारशैली का ही एक असाधारण स्वरुप है और यह प्रतिभाशाली लोगों का एक अत्यावश्यक सदगुण है। नार्मन पोधोरेत्ज़ के शब्दों में Creativity कुछ इस तरह है –

“Creativity represents a miraculous coming together of the uninhibited energy of the child with its apparent opposite and enemy, the sense of order imposed on the disciplined adult intelligence.”

“रचनात्मकता बच्चे की स्वतंत्र उर्जा और इसके बिल्कुल विपरीत और शत्रु, अनुशासित व्यस्क बुद्धिमत्ता पर थोपी गयी समझदारी के आश्चर्यजनक रूप से साथ-साथ होने को प्रदर्शित करती है।”

What is Creativity in Hindi रचनात्मकता क्या है

रचनात्मकता में दो प्रक्रियाएँ शामिल हैं – पहला एक विशिष्ट ढंग से सोचना और फिर उस विचार को सत्य के अधिकाधिक समीप ले जाने में पूरे उत्साह के साथ जुट पड़ना। यदि आपके पास विचार हैं, पर न तो वह मौलिक हैं और न ही आप उन विचारों पर कार्य करते हैं, तो आप कल्पनाशील तो हो सकते हैं, लेकिन रचनात्मक नहीं। रचनात्मकता संसार को नये तरीकों से अनुभव कर सकने की क्षमता से आंकी जाती है।

उस सामर्थ्य से पहचानी जाती है जो प्रकृति में छुपे रहस्यों को खोज सकने में समर्थ है। Creativity बिल्कुल अलग दिखने वाली घटनाओं में सम्बन्ध बनाने और समाधान उत्पन्न करने की दक्षता है। केवल सोचना या करना ही रचनात्मकता की पहचान नहीं है। यह व्यक्ति की बौद्धिक क्षमता का एक विशिष्ट स्वरुप है।

सामान्य बुद्धि केवल कुछ सुनिश्चित नियमों के दायरे में रहकर ही विचार प्रक्रिया में संलग्न होती है। साधारण लोगों का चिंतन, निर्णय प्रक्रिया, विचारशैली, सब कुछ व्यक्तिगत जानकारी और अनुभव के सीमित क्षेत्र में ही होता है जो किसी भी प्रकार की मौलिकता से रहित और दूसरों के अनुभव और विचारों की छाप लिये होते है।

इसके उलट रचनात्मक बुद्धि किसी भी कार्य को करने का नया रास्ता खोजती है, उसमे तय और ज्ञात प्रक्रिया से हटकर चलने का साहस होता है। किसी परिस्थिति को नई दृष्टि से देखने का और उससे कुछ अलग परिणाम पैदा करने का कौशल होता है। कई लोगों को लगता होगा कि Creativity और Innovation दोनों एक ही चीज है, क्योंकि दोनों ही का संबंध मौलिकता और कल्पना से है, लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है।

थियोडोर लेविट ने इसे बेहद सरलता से इस प्रकार से स्पष्ट किया है –

“Creativity is thinking up new things. Innovation is doing new things.”

“रचनात्मकता नई चीज़ों के बारे में सोचना है। नवीनता नई चीज़ों को करना है।”

 

How to Be Creative in Hindi रचनात्मक कैसे बनें

कई लोग महसूस करते हैं कि उनके अन्दर Creative Ability (रचनात्मक क्षमता) या तो ना के बराबर है या फिर बहुत कम। यहाँ तक कि वह लोग जो Creative Field में काम करते हैं, भी कभी-कभी ऐसा मान बैठते हैं। लेकिन Creativity कोई दैवीय उपहार (Divine Gift) नहीं है, बल्कि यह ज्ञान का एक नये और रोचक ढंग से दक्षतापूर्वक प्रयोग है।

सच तो यह है कि Creativity किसी भी उम्र में और अनुभव के किसी भी स्तर पर अर्जित की जा सकती है और निखारी जा सकती है। जब कभी आप कोई नयी जानकारी हासिल करते हैं या फिर कोई नया काम करते हैं तो फुर्सत के पलों में, या संसार के कोलाहल से दूर होने पर आपका अवचेतन मन (Unconscious Mind) उस सूचना को एक मौलिक और आश्चर्यजनक तरीके से विश्लेषित करना शुरू कर देता है।

संसार में आज तक जितने भी आविष्कार हुए हैं वह सब Creative लोगों की Creativity की बदौलत ही हो पाये हैं। यहाँ तक कि हमारा खान-पान भी Creative Approach से अछूता नहीं रह सका है। उदाहरण के लिये अधिकतर मिठाइयाँ दूध से ही बनती हैं जो पशुओं से प्राप्त होने वाला एक सामान्य भोज्य पदार्थ है। लेकिन Creative Mindset के बल पर इसे न जाने किस-किस तरह से प्रयोग करते हुए तरह-तरह की मिठाइयाँ तैयार की जाती हैं।

एक शोध के अनुसार हम नैसर्गिक रूप से रचनात्मक होते हैं, लेकिन जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते हैं अपनी इस क्षमता को खो देते हैं। लेकिन Creativity ऐसी Quality है जिसे विकसित किया जा सकता है और वह प्रक्रिया है जिसका प्रबंध किया जा सकता है। Threshold Theory के अनुसार Creativity के लिये बुद्धिमानी (Intelligence) अनिवार्य है।

लेकिन यह रचनात्मक होने की एकमात्र शर्त नहीं है, अगर आप सामान्य बुद्धि वाले हैं तब भी रचनात्मक हो सकते हैं। Interference Theory तो बहुत ज्यादा बुद्धिमानी (Extremely High Intelligence) को रचनात्मक क्षमता (Creative Ability) की बाधा मानती है।

Personality of Creative People in Hindi रचनात्मक लोगों का व्यक्तित्व

मिहली सिक्सजेंटमिहली (Mihaly Csikszentmihalyi) अपनी पुस्तक क्रिएटिविटी (Creativity – Flow and the Psychology of Discovery and Invention) में Creative लोगों के व्यक्तित्व की विशेषताओं के बारे में लिखते हैं जो इस प्रकार हैं –

1. Creative लोगों में बहुत उर्जा होती है, लेकिन फिर भी वह अक्सर शांत और स्थिरचित्त ही रहते हैं।

2. Creative लोग आमतौर पर स्मार्ट दिखते हैं, पर उसी समय वे सरल भी होते हैं।

3. Creative लोगों में अनुशासन और चपलता, या जिम्मेदारी और लापरवाही का अनोखा संगम होता है।

4. Creative लोग एक ओर तो कल्पना और व्यर्थ की झक के बीच में झूलते रहते हैं, तो दूसरी ओर उनमे वास्तविकता की समझ भी गहराई तक समाहित रहती है।

5. Creative लोग एक ही समय में असाधारण रूप से विनम्र और गर्वीले होते हैं।

6. Creative लोग आम तौर पर स्वतंत्र और विद्रोही स्वभाव के समझे जाते हैं।

7. ज्यादातर Creative लोग अपने काम के बारे में बहुत जुनूनी होते हैं, पर इसके साथ-साथ वे इसके बारे में बहुत उदासीन भी हो सकते हैं।

8. Creative लोगों की स्पष्टता और संवेदनशीलता अक्सर उन्हें कष्ट सहने पर मजबूर कर देती हैं पर वह बहुत आनंदित भी महसूस कर सकते हैं।

Creativity is Indispensable Part of Great People’s Life

जरा कुछ समय के लिये इन महान लोगों पर ध्यान केन्द्रित कीजिये और सोचिये इनमे अन्य लोगों की अपेक्षा क्या विशेषताएँ अधिक थी जो ये आज भी हमारी यादों में जीवित हैं और लाखों-करोड़ों लोगों के प्रेरणा स्रोत बने हुए हैं –

1. स्वामी विवेकानंद, महात्मा गाँधी, मदन मोहन मालवीय, अरविन्द घोष, जॉर्ज वाशिंगटन, लेनिन और विनोबा भावे जैसे समाज सुधारक और राष्ट्र निर्माता।

2. पिकासो, मोजार्ट, माइकल एंजेलो, रविंद्रनाथ टैगोर और जगदीश चन्द्र बोस जैसे कलाकार और अन्वेषक।

3. हेनरी फोर्ड, एंड्रू कार्नेगी, थॉमस एडीसन, जमशेत जी टाटा, सुजुकी और घनश्यामदास बिडला जैसे धनकुबेर।

ये सभी लोग अन्य व्यक्तियों की ही तरह शिक्षित, बुद्धिमान और परिश्रमी थे। समय और संसाधन भी इनके पास उतने ही थे जितने दूसरे किसी अन्य को मिल सकते थे। फिर भी ये इतिहास में अपना विशिष्ट स्थान रखते हैं। अपने चुने गये क्षेत्र में इन्होने जो कार्य किये हैं, श्रेष्ठता के जो मापदंड स्थापित किये हैं, उन्हें मील का पत्थर कहा जा सकता है। इन व्यक्तियों ने अपनी मौलिक विशेषताओं के बल पर लीक से हटकर काम किया।

जिसके कारण न केवल वे अपने लक्ष्य को पाने में सफल रहे, बल्कि उनके इन प्रयासों की संपूर्ण विश्व ने सराहना भी की। वे आगे बढे, एक जहाज की तरह अनेकों लोगों को साथ लेकर चले, और एक प्रकाश-स्तम्भ की तरह आज भी न जाने कितनों को राह दिखा रहे हैं। वे ऐसा कर पाये, क्योंकि इन लोगों ने ढर्रे की जिंदगी जीना कभी स्वीकार नहीं किया।

अपने समवयस्क दूसरे शिक्षितों और बुद्धिमान व्यक्तियों की भेडचाल का अनुसरण करने के बजाय उन्होंने एक स्वतंत्र, चुनौतीपूर्ण और खतरों से भरे अनिश्चित मार्ग पर चलना ज्यादा श्रेयस्कर समझा, क्योंकि उनका उद्देश्य व्यक्तिगत उत्थान की अपेक्षा सामाजिक परिवर्तन अधिक था। इनमे प्रचंड इच्छाशक्ति की उर्जा थी, ध्येय के प्रति अटूट निष्ठा और समर्पण की भावना थी, और इसके साथ-साथ उनमे प्रगाढ़ आत्मीयता और अदभुत रचनात्मकता भी थी।

इस प्रेरक कहानी में पढिये कैसे उदारता ने दो इंसानों का ही नहीं, बल्कि दो देशों का भविष्य बदल दिया – A Real Life Inspirational Story in Hindi

Importance of Creativity in Hindi रचनात्मकता का महत्व

निच्केरसन (R. S. Nickerson) ने Enhancing Creativity में Creativity की कई Techniques का सार दिया है जिनके लाभ इस प्रकार है –

1. यह Basic Skills का निर्माण करती है।

2. नियंत्रण और स्वयं से प्रतिस्पर्धा करना सिखाती है।

3. चुनाव और खोज के लिये अवसर मुहैया कराती है।

4. प्रोत्साहित होने में मदद करती है, विशेषकर आन्तरिक प्रोत्साहन।

5. विश्वास बढाती है और खतरा उठाने की इच्छा जागती है।

6. स्व-प्रबंधन (Metacognitive Skills) को विकसित करती हैं।

7. विशिष्ट-विषय संबंधी ज्ञान की प्राप्ति के लिये उत्साह बढाती है।

8. उद्देश्य और अभिप्राय को स्थापित करती है।

9. संतुलन प्रदान करती है।

इस विस्तृत लेख में जानिये आखिर क्या अर्थ है Personality का – Personality Meaning in Hindi

महान लोगों के जीवन का अनिवार्य अंग है रचनात्मकता

जीवन में आगे बढ़ने के लिये, एक संतोषप्रद सफलता पाने के लिये कई गुणों की आवश्यकता होती है। पर यदि कोई विशिष्ट कार्य करना हो और अपने क्षेत्र में शिखर तक पहुंचना हो, तो एक गुण की जरुरत दूसरों की तुलना में कुछ ज्यादा ही पड़ती है और वह गुण है – रचनात्मकता यानि Creativity.

अगर आप भी जीवन में आगे बढ़ना चाहते हैं और अपने अपूर्व विचारों, सोच और कल्पना से संसार में परिवर्तन लाना चाहते हैं तो एक Creative इन्सान बनिये। Creativity के महत्व को देखते हुए बस यही कहा जा सकता है कि –

“Creativity and originality are more important than technical skills.”

“रचनात्मकता और मौलिकता तकनीकी योग्यताओं से कहीं ज्यादा बढ़कर हैं।”

ध्यान रखिये, रचनात्मकता सफलता की चाबी है और बच्चों में रचनात्मकता की एक चिंगारी पैदा करना शिक्षा के मूलभूत उद्देश्यों में से एक है। यह न केवल उन्हें सामान्य लोगों की भीड़ से अलग करती है, बल्कि उन्हें उनके क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ बनने में सक्षम बनाती है। IBM की 2010 की Global CEO Study रिपोर्ट में भी यही तथ्य सामने आया है कि Creativity भविष्य में कामयाबी के लिये सबसे महत्वपूर्ण कारक बनने जा रही है।

Creative Approach की जिंदगी में इतनी अहमियत को देखते हुए ही शायद महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने कहा है – “दिवास्वप्न का उपहार मेरे लिये सकारात्मक ज्ञान को आत्मसात करने की प्रतिभा की तुलना में कहीं अधिक महत्वपूर्ण रहा है।”

जानिये क्या हैं Soft Skills और क्यों दिन-प्रतिदिन Corporate World में इनकी Demand बढती जा रही है – Soft Skills in Hindi क्या है सॉफ्ट स्किल्स

“एक महान विचार के लिये स्वास्थ्यकर तीव्र अभिलाषा, जीवन का सौंदर्य और परम आनंद है।”
– जीन इन्गेलो

 

Comments: आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि जीवनसूत्र को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। एक उज्जवल भविष्य और सुखमय जीवन की शुभकामनाओं के साथ!

Spread Your Love