Highest and Tallest Volcanoes of The World in Hindi

 

“अर्जेंटीना में स्थित Ojos del Salado दुनिया का सबसे ऊँचा Volcano है जो 6,893 मीटर ऊँचा है। 6000 मीटर से अधिक ऊँचे सभी ज्वालामुखी दक्षिण अमेरिका महाद्वीप में ही स्थित हैं और लगभग सभी एंडीज पर्वतमाला के क्षेत्र में ही पड़ते हैं। संसार के नौ सबसे ऊँचे ज्वालामुखी क्रमशः इस प्रकार हैं – मोंटे पिस्सिस, नेवाडो ट्रेस क्रुसेस, लुल्लैलल्को, टिपस, इंकाहुअसी, टूपुन्गाटो, नेवाडो सजमा, अटा और कोरोपूना।”

 

10 Highest Volcanoes of The World in Hindi
दुनिया का सबसे ऊँचा ज्वालामुखी

Volcano या ज्वालामुखी प्रकृति की कुछ सबसे अदभुत रचनाओं में से एक हैं। कई वर्ग किमी के क्षेत्र में फैले और हजारों मीटर ऊँचे यह पर्वताकार कौतुक देखने वालों के मन को बरबस ही अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैं। यही कारण है कि दुनियाभर से हजारों-लाखों पर्यटक रोमांच की खोज में इन खतरनाक और सुन्दर आश्चर्यों को देखने चले आते हैं। ज्वालामुखी वह भौगोलिक संरचनाएँ हैं जिनका उद्गम क्षेत्र पृथ्वी के अंदर हजारों मीटर गहराई में और शिखर एक गुम्बद के आकार में धरातल के ऊपर स्थित होता है, जिसका निर्माण इनके गर्भ से निकलने वाले द्रव्य से ही होता है।

ज्वालामुखी की सक्रियता के आधार पर इन्हें तीन भागों में बाँटा जाता है – जाग्रत (Active Volcano), प्रसुप्त (Dormant Volcano) और विलुप्त/शांत (Extinct/Dead Volcano) ज्वालामुखी। ज्वालामुखी स्थल और जल दोनों जगह पर पाये जाते हैं। दुनिया का सबसे बड़ा ज्वालामुखी (क्षेत्रफल और आयतन की दृष्टि से) प्रशांत महासागर में स्थित है।

जबकि विश्व का सबसे ऊँचा ज्वालामुखी (सागर तल को आधार मानकर) दक्षिणी अमेरिका महाद्वीप में स्थित है। यह भी एक विचित्र तथ्य है कि दुनिया के 35 सबसे ऊँचे ज्वालामुखी केवल South America Continent में ही स्थित हैं। ऊँचाई के आधार पर दुनिया के दस सबसे बड़े ज्वालामुखी इस प्रकार हैं –

1. Ojos del Salado Volcano is Tallest Volcano of The World ओजोस डेल सलाडो : –

अर्जेंटीना में स्थित Ojos del Salado दुनिया का सबसे ऊँचा Volcano है। इसकी सागर तल से कुल ऊँचाई 6,893 मीटर (22,615 फुट) है। यह धरती का सबसे ऊँचा जाग्रत ज्वालामुखी (Active Volcano) होने के साथ-साथ दक्षिण अमेरिका का भी सबसे ऊँचा ज्वालामुखी है। यह अर्जेंटीना और चिली के बीच की सीमा का निर्धारण करता है। ओजोस डेल सलाडो एंडीज पर्वत श्रंखला में स्थित एक Stratovolcano है और एंडीज में खोजे गये 178 ज्वालामुखीयों में सबसे बड़ा है।

इसकी दो चोटियाँ हैं, जिनमे से ऊँचे वाली चोटी चिली के क्षेत्र में पड़ती है। यह पश्चिमी और दक्षिणी गोलार्द्ध का दूसरा सबसे ऊँचा पर्वत तो है ही, साथ ही यह चिली का भी सबसे ऊँचा पर्वत है। इसमें कई क्रेटर, शंकु और लावे से निर्मित गुम्बद हैं। यह लावे के तीव्र प्रवाह का भी स्रोत रहा है।

Ojos del Salado एक सक्रिय ज्वालामुखी माना जाता है। इसमें आखिरी बडा विस्फोट 1000 से 1500 वर्ष पूर्व हुआ था। इसकी अंतिम सक्रियता सन 1993 में तब देखने को मिली थी जब वहां के स्थायी निवासियों ने इसके मुख से गैस और राख के गुबार के उत्सर्जित होने की सूचना दी थी।

2. Monte Pissis Volcano मोंटे पिस्सिस : –

एंडीज पर्वत श्रेणी में ही स्थित Monte Pissis संसार का दूसरा सबसे ऊँचा ज्वालामुखी है। यह समुद्र तल से 6,793 मीटर (22,287 फुट) ऊँचा है। मोंटे पिस्सिस, अर्जेंटीना के ला रिओजा राज्य में स्थित एक शांत ज्वालामुखी है, जिसका नाम एक फ्रेंच भूगर्भ विज्ञानी पेड्रो जोस पिस्सिस (Pedro José Amadeo Pissis) के नाम पर रखा गया था।

इस ज्वालामुखी का निर्माण 62 से 66 लाख वर्ष पूर्व हुआ था और यह दक्षिण अमेरिका महाद्वीप की सबसे ऊँची पर्वत चोटी अकांकागुआ के 550 किमी उत्तर में स्थित है। चूँकि यह Volcano दुनिया के सबसे विशाल रेगिस्तानों में से एक अटाकामा मरुस्थल के क्षेत्र में स्थित है, इसीलिये यहाँ का वातावरण अत्यंत शुष्क है। लेकिन, फिर भी इसके शिखर पर भारी बर्फ जमी रहती है।

3. Nevado Tres Cruces Volcano नेवाडो ट्रेस क्रुसेस : –

6,748 मीटर (22,139 फुट) ऊँचाई के साथ एंडीज पर्वत श्रंखला में स्थित Nevado Tres Cruces दुनिया का तीसरा सबसे ऊँचा ज्वालामुखी है। यह अर्जेंटीना और चिली इन दो देशों की सरहद पर स्थित है। इसकी दो मुख्य चोटियाँ हैं – ट्रेस क्रुसेस सर (Tres Cruces Sur) जो 6,748 मीटर ऊँची है और ट्रेस क्रुसेस सेंट्रो (Tres Cruces Centro) जो 6,629 मीटर ऊँची है।

यह ज्वालामुखी आखिरी बार 28000 वर्ष पहले सक्रिय हुआ था, लेकिन इसके भविष्य में सक्रिय होने की संभावनाएँ भी कम नहीं हैं। चूँकि इस ज्वालामुखी पर्वत पर कई ग्लेशियर मौजूद हैं, इसीलिये यहाँ का औसत तापमान शून्य डिग्री के आस-पास ही रहता है। ओजोस डेल सलाडो Volcano भी इसके समीप ही स्थित है।

4. Llullaillaco Volcano लुल्लैलल्को : –

दुनिया के सबसे शुष्क स्थानों में से एक, अटाकामा मरुस्थल के समीप स्थित Llullaillaco चौथा सबसे ऊँचा ज्वालामुखी है, जो सागर तल से 6,739 मीटर (22,110 फुट) ऊँचा है। यह एक प्रसुप्त Stratovolcano है और अर्जेंटीना और चिली की सीमा पर स्थित है। यह अटाकामा के उस पठारी क्षेत्र (Puna de Atacama) में स्थित है जहाँ दुनिया के कई बहुत ऊँचे ज्वालामुखी शिखर मिलते हैं।

लुल्लैलल्को Ojos del Salado के पश्चात संसार का दूसरा सबसे ऊँचा सक्रिय ज्वालामुखी है। इसका आकार एक दीर्घवृत्त जैसा है और ढलान भी काफी तेज है। Llullaillaco 23 किमी लम्बा और 17 किमी चौड़ा है। इसकी जलवायु ठंडी और शुष्क है और यहाँ का औसत तापमान -10 °C के आस-पास रहता है। यह ज्वालामुखी अंतिम बार सन 1877 में सक्रिय हुआ था।

5. Tipas Volcano टिपस : –

टिपस ज्वालामुखी एंडीज पर्वतमाला में स्थित एक बहुत बड़ा Complex Volcano है जिसकी ऊँचाई 6,660 मीटर (21,850 फुट) है। यह उत्तरी पश्चिमी अर्जेंटीना में स्थित है। इसे सेर्रो टिपस (Cerro Tipas) या सेर्रो कजाडरो (Cerro Cazadero) के नाम से भी जाना जाता है। यह Ojos del Salado के दक्षिण-पश्चिम दिशा में स्थित है। Tipas संसार का तीसरा सबसे ऊँचा सक्रिय ज्वालामुखी है और यह लगभग 25 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला है।

6. Incahuasi Volcano इंकाहुअसी : –

अर्जेंटीना के कटामार्का राज्य और चिली के अटाकामा क्षेत्र की सीमा पर स्थित Incahuasi संसार का छठा सबसे ऊँचा ज्वालामुखी है। यह भी दक्षिण अमेरिका महाद्वीप की एंडीज पर्वत श्रंखला में ही स्थित है। इंकाहुअसी सागर तल से 6,621 मीटर (21,722 फुट) ऊँचा है। इस ज्वालामुखी में दो क्रेटर हैं और इसका काल्डेरा 3.5 किमी चौड़ा है। यह ज्वालामुखी तीस वर्ग किमी से भी अधिक क्षेत्र में फैला है और ओजोस डेल सलाडो के उत्तर-पूर्व में स्थित है। इंकाहुअसी दक्षिण अमेरिका महाद्वीप का 12वां सबसे ऊँचा पर्वत भी है।

7. Tupungato Volcano टूपुन्गाटो : –

Tupungato ज्वालामुखी एंडीज पर्वत श्रेणी में स्थित एक बहुत बड़ा Volcano है और समुद्र तल से 6,570 मीटर (21,555 फुट) ऊँचा है। यह भी चिली और अर्जेंटीना की सीमा पर ही स्थित है और राजधानी सेंटियागो के 80 किमी पूर्व में पड़ता है। यह पश्चिमी गोलार्द्ध की सबसे ऊँची चोटी अकांकागुआ के 100 किमी दक्षिण में है। टूपुन्गाटो एक सक्रिय ज्वालामुखी है और इसमें अंतिम विस्फोट सन 1987 में हुआ था। टूपुन्गाटो की चोटी हमेशा बर्फ की मोटी चादर से ढकी रहती है।

8. Nevado Sajama Volcano नेवाडो सजमा : –

Nevado Sajama दक्षिणी अमेरिकी देश बोलीविया में स्थित दुनिया का आठवाँ सबसे ऊँचा Stratovolcano है। यह एक शांत ज्वालामुखी है और 6,542 मीटर (21,463 फुट) ऊँचा है। नेवाडो सजमा बोलीविया की सबसे ऊँची पर्वत चोटी है और यह सजमा राज्य के सजमा नेशनल पार्क में स्थित है। यह चिली की सीमा से लगभग 20-22 किमी दूर है और Cordillera Occidental पर्वत श्रंखला का हिस्सा है। यह अंतिम बार छह लाख वर्ष पूर्व सक्रिय हुआ था।

9. Ata Volcano अटा : –

सागर तल से 6,501 मीटर (21,329 फुट) ऊँचा Ata ज्वालामुखी नौवाँ सबसे ऊँचा ज्वालामुखी है। यह भी अर्जेंटीना और चिली की सीमा पर ही स्थित है।

10. Coropuna Volcano कोरोपूना : –

पेरू में स्थित Coropuna ज्वालामुखी 6,377 मीटर (20,922 फुट) ऊँचाई के साथ इस सूची में शामिल दसवाँ सर्वोच्च ज्वालामुखी है। यह एक प्रसुप्त ज्वालामुखी है और बर्फ की एक मोटी परत से ढका हुआ है। यह पेरू का सबसे बडा और सबसे ऊँचा Volcano है तथा प्रशांत महासागर के तट से केवल 110 किमी दूर है।

अगले लेख में हम आपको बताएँगे संसार के उन दस सक्रिय और सबसे खतरनाक ज्वालामुखियों के बारे में जो भविष्य में कभी भी फट सकते हैं और मानवता के लिये एक बहुत बडा खतरा बन सकते हैं।

“आपकी सफलता का स्तर आपके दृढ विश्वास से निर्धारित होता है, यदि आपके लक्ष्य छोटे होंगे, तो आपकी सफलता भी छोटी ही होगी।”
– डेविड जे. स्वार्टज

 

Comments: आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि जीवनसूत्र को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। एक उज्जवल भविष्य और सुखमय जीवन की शुभकामनाओं के साथ!

Spread Your Love