Think Big, Act Big: Power of Positive Thinking in Hindi

 

“वे इंसान जिन्होंने अपनी जिंदगी में बड़े काम किये हैं, वे लोग हैं जो बड़े कार्यों के लिए प्रयास करने से नहीं डरे; जो सफलता पाने के लिए असफलता का खतरा उठाने से नहीं डरे।”
– फोर्ब्स

 

Power of Positive Thinking in Hindi
अपनी छिपी हुई ताकत को पहचानिये

अक्सर कई लोगों को यह कहते सुना जाता है कि सोचने-विचारने से कुछ हासिल नहीं होता। चिंतन करते-करते मर जाओ, पर करो कुछ नहीं, कोई फायदा है इस सब का! मिलेगा तो वही, जो नसीब में लिखा होगा। जो लोग इस तरह की बातें कहते हैं, वे शायद विचारों की और चिंतन-मनन की सामर्थ्य को नज़रंदाज़ करने की भूल करते हैं। यह बात ठीक है कि केवल सोचने से करना ज्यादा महत्वपूर्ण है, पर यकीन मानिये सभी बड़े कार्यों और उच्च उद्देश्यों के पीछे बड़ी और सकारात्मक सोच यानि Positive Thinking का ही जादू है।महान व्यक्तियों के विचारों से जानिये आखिर क्या है कामयाबी का असली रहस्य – Success Quotes in Hindi

Positive Thinking is Secret of Great Success बड़ी सफलता का रहस्य

हमारे विचार ही हमें अपने कार्य के लिए प्रेरित करते हैं। जब भी हमारे मन में किसी चीज़ को पाने की अभिलाषा जागती है, तो सबसे पहले हमारे विचार जगत में ही उसकी हलचल होती है। फिर मस्तिष्क उसके लिए योजना बनाने लगता है, बुद्धि उस आकांक्षा को पूरा करने के हरसंभव उपाय खोजती है और विचार-चिंतन के रूप में आगे किये जाने वाले काम का Blueprint तैयार हो जाता है।

इस रूप में देखा जाय, तो अभिलाषा और विचार एक ही विषय के दो पहलू और एक ही दिशा का अगला चरण है। लेकिन विचार चेतना, एक स्वतंत्र चेतना भी है और उसके अनुसार यह आवश्यक नहीं कि हर विचार किसी अभिलाषा को पूरा करने के लिए ही उठे। हमारी अभिलाषा हमारी Personality का ही एक हिस्सा है और विचार या सोच उसे पूरा करने का माध्यम।

जब मन में कोई आकांक्षा हिलोरे मारती हैं, तो उसे पूरा करने की शक्ति विचारों से मिलती है और इस ताकत को ही लोग उत्साह के नाम से जानते हैं। शायद इसीलिए कहा गया है कि मनुष्य की शक्ति उसके विचारों में, उसकी सोच में रहती है। जिसके जैसे विचार होंगे, जैसी Thinking होगी, वैसी ही जिंदगी वह जी रहा होगा। यही वजह है कि जो लोग सकारात्मक ढंग से सोचते हैं, वे जिंदगी में दूसरों से बहुत आगे निकल जाते हैं।

सोचिये जो लोग अपनी Thinking को कम से कम काम करने और केवल एक आरामदायक नौकरी पाने तक सीमित रखते हैं, तो उनके लिए यह कैसे मुमकिन है कि वे कुछ असाधारण कार्य कर सकें, जीवन में कोई बड़ी उपलब्धि हासिल कर सकें, क्योंकि वे तो अपनी वास्तविक सामर्थ्य को पहचानना ही नहीं चाहते हैं, उनके जीवन में गहराई तक समायी सुख की लालसा उन्हें इस ओर प्रवृत्त ही नहीं होने देती है।

जानिये क्या हैं शानदार सफलता पाने के अचूक सिद्धांत – Success Tips in Hindi for Students

 

Why to Think Positive in Hindi क्यों सही सोचें

मनोवैज्ञानिक कहते हैं कि किसी कार्य की सफलता की नीँव, सकारात्मक सोच (Positive Thinking Quotes in Hindi) के पत्थर पर ही टिकी होती है। वे लोग जिन्होंने जीवन में कोई ऊँचा उद्देश्य हासिल किया है, कोई बड़ी सफलता पायी है, वह सब उन्होंने एक बड़ी और सकारात्मक सोच के सहारे ही पाया है। शायद इसीलिए डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है “जब तक आप कुछ भी सोचने जा रहे हैं, तो कुछ बड़ा सोचिये।”

सच्ची इच्छा और ऊँची Positive Thinking में प्रेरणा की शक्ति भरी रहती है। जब मनुष्य एक अच्छी स्थिति पाने, अपने स्थान से आगे बढ़ने और अपने काम को ऊपर उठाने के लिए तड़प उठता है, बेचैन हो जाता है, तब उसमे एक लगन जाग उठती है। उसमे वह असीमित उत्साह पैदा हो जाता है जो सफल होने की सबसे अहम शर्तों में से एक है।

सकारात्मक सोच और कुछ करने की लगन रखने वाला इंसान दिन-रात, उठते बैठते, खाते-पीते भी अपने लक्ष्य के प्रति जागरूक रहता है। वह कहीं भी क्यों न हो, कुछ भी क्यों न करता हो उसके लक्ष्य की तस्वीर हमेशा उसके सामने रहती है। अगर आपके विचार ऊँचे और अच्छे होंगे, तो आपकी प्रगति और सफलता सुनिश्चित है।

अपनी Personality को बदलिये और फिर देखिये आपकी दुनिया कैसे बदलती है – Personality Development in Hindi

Positive Thinking can Transform Life सकारात्मक सोच आपकी जिंदगी बदल सकती है

सकारात्मक सोच के सहारे, कितने ही महान व्यक्तियों ने बड़े लक्ष्य हासिल किये हैं और अपने साथ-साथ दूसरों के जीवन को भी ऊँचा उठाया है। लेकिन छोटी सोच, मनुष्य को योग्यता, प्रतिभा और अनेकों साधनों के रहते हुए भी महान कार्यों के लिए असफल बना देती है। ऊँची सोच (High Thinking), ऊँचे विचार ही, हमारे सपनो को, हमारी कल्पना को ऊँची उड़ान देते हैं।

वही कल्पना, कल हमारे उत्साह और कड़े परिश्रम के सहारे, सफलता बनकर लोगों को आश्चर्यचकित कर देती है। एक Noble और Positive Thinking की जरूरत इसलिए नहीं है कि अपने खुद के Personal Achievements से हमारा जीवन दमक उठे या हमारा नाम इतिहास के अमर नायकों में शुमार हो जाय, बल्कि इसलिए है कि वो हमारे उस सोये पड़े आत्मबल को जगा दे, जो सभी महान सफलताओं का मूल स्रोत है।

जिसके बल पर मनुष्य ब्रह्मांड को भी हिला देने की सामर्थ्य हासिल कर लेता है और जो हमें हमारे सपनो की ऊँची उड़ान को पूरा करने के लिए आवश्यक शक्ति प्रदान करता है। इससे किसी दूसरे व्यक्ति की सेवा तो बाद में होगी, पर उससे पहले यह हमें ही विशेष योग्यता और सदगुणों के शिखर पर पहुँचा देगा, जो अन्ततः हमारे लिए ही सबसे बड़े फायदे का सौदा साबित होगा।

आगे पढिये किस तरह Positive Thinking एक महान नेतृत्व क्षमता को जन्म देती है – Leadership in Hindi for Future Leaders

Think Big, But do Big as well बड़ा सोचिये, मगर बड़ा करिये भी

ऐसे न जाने कितने व्यवसायी, नौकरीपेशा, मजदूर आदि काम करने वाले लोग देखने को मिलते हैं जिन्होंने अपने काम, अपने पद या अपनी स्थिति में जरा भी उन्नति नहीं की है। वे आज भी उसी स्थान, उसी दशा में पड़े हुए हैं, जहाँ 10 या 20 साल पहले थे, जबकि कई लोग न जाने कहाँ से कहाँ पहुँच गये। इस उन्नति और अवनति के पीछे, केवल एक ही कारण काम कर रहा होता है और वह है जीवन में उन्नति करने की सकारात्मक सोच (Positive Thinking) और बड़ा करने की इच्छाशक्ति का अभाव।

जो लोग काम को मजबूरी समझकर, रो-धोकर करते हैं, उनमे उन्नति करने, नई सफलता पाने की सोच का अभाव तो रहता ही है, इसके अलावा वे कड़ी मेहनत भी नहीं करना चाहते हैं। अनेकों लोग कुछ बड़ा और महत्वपूर्ण कार्य करने के बारे में सोचते तो हैं, मगर फिर उसे हकीकत में बदलने का प्रयास नहीं करते। केवल सोचने से कुछ ज्यादा लाभ न हो सकेगा; उसे कड़ी मेहनत के जरिये, वास्तविकता का रूप भी देना पड़ेगा।

हमारे विचार ही हमारे जीवन को बदलते हैं, पर कैसे जानिये – Thought Quotes in Hindi

 

Realize Your True Potential अपनी ताकत पहचानिये

1. ‘प्रदान’ NGO के संस्थापक दीप जोशी की सकारात्मक सोच

दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित तकनीकी विश्वविद्यालय (Tech.) Massachusetts Institute of Technology (MIT, U.S.A.) से अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, दीप जोशी के पास नामचीन कंपनियों में नौकरी के ढेरों अवसर थे, लेकिन उन्हें यह स्वीकार नहीं था कि उनकी योग्यता केवल उन तक ही सीमित रह जाय। वे चाहते, तो एक अच्छी नौकरी करके आराम की जिंदगी गुजार सकते थे, परंतु वे अपनी योग्यता का लाभ दूसरों को भी देना चाहते थे, क्योंकि उनकी सोच वास्तव में बड़ी थी।

वे ग्रामीण प्रष्ठभूमि से निकले थे और चाहते थे कि ग्रामीण भारत की बदहाली दूर हो। इसीलिए वे भारत वापस लौट आये और बेहद पिछडे क्षेत्रों को अपना कार्यक्षेत्र बनाया। कड़ी मुश्किलों का सामना करते हुए उन्होंने ‘प्रदान’ NGO का गठन किया और इसके जरिये 6 से भी ज्यादा राज्यों के हजारों लोगों की जीवन-निर्वाह की गंभीर समस्या सुलझायी। अगर उनके पास एक सकारात्मक सोच (Positive Thinking) का अभाव रहा होता, तो ऐसा शायद वह कभी नहीं कर पाते।

बड़े कार्य सदा से ही उन्नत सोच और व्यापक समझ की मांग करते आये हैं। बड़ा सपना, बड़ी इच्छा, बड़ी सोच, फिर चाहे इसे किसी भी नाम से पुकार लीजिये, उद्देश्य सदा वही रहेगा। इतिहास पर नजर डालें, तो हम पायेंगे कि दुनिया में जितने भी लोग अपने-अपने क्षेत्रों में बुलंदी पर पहुंचे हैं, सबके पास एक चीज़ हमेशा रही है, एक वस्तु ने हमेशा उनका मार्ग प्रशस्त किया है और वह है एक बड़ी और सकारात्मक सोच।

पढिये जीवन को सफल बनाने वाले A TO Z कामयाबी के सूत्र – 26 Motivational Lines in Hindi for Success

2. Wipro के Chairman अजीम प्रेमजी की सकारात्मक सोच

अजीम प्रेमजी आज भारत के सबसे रईस व्यक्तियों में शुमार हैं। लेकिन दूसरे Corporate House की तरह, उन्हें इतनी संपत्ति विरासत में नहीं मिली थी। उन्होंने बेहद मुश्किल हालातों में अपने पैतृक व्यवसाय को संभाला था। जब उनके पिता की मृत्यु हुई, तो वह मुश्किल से 20 वर्ष के थे। इस वजह से Stanford University में अपनी Engineering की पढाई बीच में ही छोड़कर उन्हें घर लौटना पड़ा।

पिता की असामयिक मृत्यु और अधूरी शिक्षा की दोहरी मार से तो वे पहले ही दुखी थे, उस पर एक डूबते Business को सँभालने की जिम्मेदारी भी उनके नाजुक कंधो पर आ पड़ी। भविष्य के प्रति शंकालु उनके managers ने यह कहते हुए उन्हें अपना सारा Business दूसरी Company को बेच देने का सुझाव दिया कि Firm घाटे में है और इसके लाभ दे पाने की आशा बहुत कम है, लेकिन इन विपरीत परिस्थितयों में भी उन्होंने धैर्य नहीं छोड़ा।

वे चाहते तो Company बेचकर लाखों-करोड़ों की रकम से सारी जिंदगी चैन से गुजार सकते थे, पर उनकी सोच दूसरी थी। Positive Thinking के सहारे न केवल एक छोटी उम्र में उन्होंने पिता का व्यवसाय संभाला, बल्कि उसे बुलंदियों पर पहुंचा दिया। आज Wipro देश के सबसे बड़े Corporate Houses में शामिल है। उनकी इन उपलब्धियों को देखते हुए Stanford University ने लगभग 20 साल बाद उन्हें Engineering की मानद उपाधि से सम्मानित किया।

Business Giants को लें तो चाहे हेनरी फोर्ड हो या सुजुकी, धीरुभाई अम्बानी हो या जमशेतजी टाटा सबके पास एक बड़ी और सकारात्मक सोच थी। कुछ कर गुजरने की, कुछ कर दिखाने की। समाज सुधारकों में लें, तो महात्मा गाँधी, श्रीअरविंद, स्वामी विवेकानंद, सबके पास एक Positive Thinking थी कि हमें अपनी योग्यता का लाभ ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुँचाना है, हमें कुछ विशिष्ट करना है।

आगे पढिये स्वामी विवेकानंद के वह 20 अद्भुत नियम जो आपकी पूरी जिंदगी बदलकर रख देंगे – Swami Vivekananda Thoughts in Hindi

 

Benefits of Positive Thinking in Hindi सकारात्मक सोच के फायदे

William Hazlitt कहते हैं, “सकारात्मक बड़ी सोच ही क्रियान्वित किये जाने पर बड़े कार्य बन जाती हैं।” विचारों की शक्ति का, सकारात्मक सोच का, Positive Thinking का महत्व अगर देखना हो, तो संसार की उन्नति, सुख-सुविधा के अनगिनत साधन, सभ्यता, संस्कृति, साहित्य और वैज्ञानिक खोजों के असीमित विकास के रूप में देखा जा सकता है। जिन महापुरुषों की उपलब्धियों का आज संसार लाभ उठा रहा है, वे बड़ी और सकारात्मक सोच लेकर ही आगे बढे थे।

उन्हें इस बात पर अखंड विश्वास था कि मनुष्य सोचने-विचारने की इस अदभुत क्षमता के कारण ही संसार का सर्वश्रेष्ठ प्राणी है और इस ताकत के दम पर वह कुछ भी कर सकने में समर्थ है। मनुष्य की सफलता-असफलता उसके विश्वासों और विचारों पर ही निर्भर करती है।

एक ही विचार का बार-बार अभ्यास करने पर हमारी सोच उसी रूप में ढल जाती है और वह विचार आगे चलकर विश्वास में बदल जाता है। इसीलिए महात्मा बुद्ध ने कहा है कि हम जैसे हैं, वह हमारी सोच का ही परिणाम है जैसा हम सोचते हैं वैसे ही हम बन जाते हैं, और वही असर हमारे कार्यों में भी दिखाई देता है।

आगे पढिये जीवन को कैसे सफल बनायें – Motivation Tips in Hindi for Students

What to Think Big क्या बड़ा सोचें?

यह एक जटिल प्रश्न है। इस संसार में, कोई भी दो व्यक्ति, बिलकुल एक जैसे नहीं हैं, इसलिए हम सबकी रुचियाँ अलग-अलग हैं और आकांक्षाएँ भी। कोई उन्नति के लिए, सांसारिक क्षेत्र चुनता है, तो कोई आध्यात्मिक क्षेत्र। आपकी बड़ी सोच का लक्ष्य ऊँचा पद, शानदार नौकरी या ज्यादा पैसा भी हो सकता है और आपका लक्ष्य यह भी हो सकता है कि आप दूसरों को उनके सपने पूरा करने में मदद करें।

अपनी Positive Thinking को हम खुद की उन्नति तक भी सीमित रख सकते हैं, या फिर समाज को भी इसमें शामिल कर सकते हैं। चुनाव करने के लिए प्रत्येक व्यक्ति स्वतंत्र है। लेकिन मनुष्य जैसे संसार के सर्वश्रेष्ठ प्राणी के लिए यह ज्यादा गौरवशाली बात होगी कि वह अपनी उच्च Positive Thinking का लक्ष्य, उन प्राणियों की उन्नति के लिए आधारभूत सुविधाएँ जुटाना रखें, जो जीवन की मूल आवश्यकताओं से भी वंचित है।

इस दुनिया को ऐसे लोगों की बड़ी जरूरत है, जिनके ह्रदय में समस्त मानवजाति के लिए प्रेम हो। जिनका जीवन निस्वार्थ प्रेम और सेवा का ज्वलंत उदाहरण हो। वास्तव में तो महापुरुषों ने उसी व्यक्ति को बड़ा कहा है, जो स्वार्थ की परिधि से बाहर जाकर, कुछ दूसरों के विषय में भी सोचता हो और इतिहास भी इस बात का साक्षी है कि जिन लोगों ने स्वयं के साथ-साथ, दूसरों को भी ऊँचा उठने में मदद की, उन्हें संसार आज भी याद करता है, उन्हें बड़ा मानता है।

खुद को Motivate कीजिये और सुनिश्चित कामयाबी की ओर अपने कदम बढाइये – Motivational Thoughts in Hindi for Students

“अपनी सोच बदलिए और फिर आपकी दुनिया बदल जायेगी।”
– नार्मन विन्सेंट पील

 

Comments: आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें बताने का कष्ट करें कि जीवनसूत्र को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। एक उज्जवल भविष्य और सुखमय जीवन की शुभकामनाओं के साथ!

जीवनसूत्र को अपना प्यार बाँटें
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •