Orange Fruit Benefits in Hindi

 

“स्वादिष्ट और रसीले संतरों को देखकर किसके मुंह में पानी नहीं आता। खट्टे स्वाद वाले जितने भी फल हैं, उनमे संतरा (Orange) सबसे पसंदीदा फल है। क्योंकि खट्टेपन के साथ यह एक हल्की सी मिठास भी लिये होता है। पर इसके साथ-साथ यह शानदार पोषक तत्वों और उर्जा से भरपूर एक ऐसा फल भी है जो शरीर की कई रोगों से सुरक्षा करता है।”

 

Amazing Health Benefits of Orange in Hindi
संतरा त्वचा की चमक बनाये रखने के साथ-साथ विटामिन C का प्रचुर स्रोत भी है

Orange Fruit Benefits in Hindi: Orange यानि संतरा या नारंगी, रुटासाए परिवार का एक खट्टा मीठा फल है। Orange का तात्पर्य मुख्य रूप से मीठे संतरे (Sweet Orange) से हैं, जिसका वैज्ञानिक नाम सिट्रस सिनेनसिस (Citrus × sinensis) है और यह नाम, इसे कडवे संतरे (Bitter Orange), जिसका वैज्ञानिक नाम सिट्रस औरनटियम (Citrus × aurantium) है, से अलग पहचान देने के लिये मिला है। Orange शब्द की उत्पत्ति ऑरेंज ट्री के संस्कृत शब्द, नारंग से हुई है।

What is Orange in Hindi आखिर क्या है ऑरेंज

संतरे का पेड़, एक सदाबहार फलने-फूलने वाला पेड़ है, जिसकी औसत ऊंचाई 9 से 10 मीटर यानि 30 से 33 फीट तक होती है। अर्थात संतरे का पेड़ ज्यादा ऊँचा नहीं होता, हालाँकि इसके कुछ पुराने पेड़ों की ऊंचाई 15 मीटर तक भी देखी गयी है। आम तौर पर संतरे का फल गोल या अंडाकार होता है, लेकिन प्रजातिनुसार यह अलग-अलग आकार और आकृतियों में देखने को मिल सकता है।

जब संतरा कच्चा होता है तब इसका रंग लाल होता है, लेकिन पूरी तरह से पकने पर यह ऑरेंज, नारंगी रंग का हो जाता है। दुनिया भर में संतरों की 400 से भी ज्यादा किस्में पायी जाती है। मौसम्मी भी एक प्रकार का संतरा ही है। ऑरेंज का गूदा मुलायम और चिकने छिलके से ढका रहता है जिसे हाथों से छीलकर अलग करना पड़ता है।

संतरे का गूदा अन्दर से फाँकों के रूप में बंटा होता है जो 10 से 14 की संख्या में होती हैं। संतरे की प्रत्येक फाँक के उपर, हलके तंतुओं का श्वेत आवरण चढ़ा रहता है, जिसके अन्दर इसका रसीला गूदा सुरक्षित रहता है। संतरे का रस निकालकर पिया जा सकता है या फिर इसे वैसे भी खाया जा सकता है, हालाँकि इसका ज्यादातर उपयोग जूस बनाकर पीने में ही होता है।

Orange Fruit in Hindi संतरे की सामान्य जानकारी

हालाँकि अभी तक इतिहासकार, संतरे की उत्पत्ति के विषय में एकमत नहीं है, लेकिन ज्यादातर का यही मानना है कि संतरा आज से हजारों वर्ष पहले दक्षिण चीन, उत्तर-पूर्व भारत और संभवतया दक्षिण-पूर्व एशिया में ही कहीं पैदा हुआ होगा। संतरे का इतिहास बहुत पुराना है और ईसा से 300 वर्ष पहले चीनी साहित्य में इसका वर्णन मिलता है।

ऑरेंज या नारंगी का नाम संतरे के रंग के कारण ही पड़ा है। संतरे का फल, पूरी दुनिया में आसानी से उपलब्ध है और आप कहीं भी इसका आनंद ले सकते हैं। ब्राजील संतरों का संसार का सबसे बडा उत्पादक देश है। इसके बाद चीन, भारत, संयुक्त राज्य अमेरिका, स्पेन और मिस्र का स्थान है। ब्राजील हर साल औसतन 1 करोड़ 80 लाख टन संतरे उत्पन्न करता है।

भारत में संतरों की सबसे ज्यादा पैदावार नागपुर शहर में होती है, इसीलिये इसका एक नाम ऑरेंज सिटी यानी संतरों का शहर भी है। सन 1987 से संतरे का पेड़, दुनिया में सबसे ज्यादा उगाया जाने वाला फल का पेड़ है। दुनिया में जितने भी खट्टे फलों का उत्पादन होता है, उनमे से 70 प्रतिशत हिस्सेदारी ऑरेंज की ही है।

Nutritional Facts about Orange Fruit in Hindi

यह हैं संतरे में उपस्थित महत्वपूर्ण पोषक तत्व

ऑरेंज ट्रोपिकल और सबट्रोपिकल जलवायु में उत्पन्न होने वाला फल है, जिसमे अनेकों विटामिनों और खनिजों की प्रचुर मात्रा होती है। यह दिल, आँखों और त्वचा के लिये विशेष रूप से लाभकारी है। ताजा पका हुआ संतरा वात-पित्त नाशक फल है और अगर कम मात्रा में इसका सेवन किया जाय, तो यह त्रिदोषहर है। यह चरपरा, उत्तेजक, भूख बढ़ाने वाला, प्रदाहशामक, सुपाच्य और रसीला फल है।

ऑरेंज का विशेष गुण यह है कि पोषक तत्वों से भरा होने के बावजूद, इसमें कम कैलोरी होती है। विटामिन C और सिट्रिक एसिड से भरा यह फल, 170 से भी ज्यादा तरह के फायटोकेमिकल्स और 60 से भी ज्यादा फ्लेवोनोइड्स से समृद्ध है। जिनकी वजह से, इसमें शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट्स और एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण पाये जाते हैं।

ऐसा नहीं है कि मीठे संतरे के सिर्फ जूस का ही सेवन किया जाता हो, बल्कि इससे तेल भी निकाला जाता है जो तंत्रिकाओं, अवसाद और पाचन तंत्र की समस्याओं के उपचार में इस्तेमाल होता है। यहाँ तक कि संतरे के पत्तों और इसके फूलों का भी तेल निकाला जाता है, जिसका इस्तेमाल कई प्रकार की एलोपैथिक और आयुर्वेदिक दवाइयों को बनाने में किया जाता है।

आप चाहे तो घर पर ऑरेंज के छिलके से भी इसका तेल निकाल सकते हैं। संतरे के रस से बनने वाली चाय भी काफी गुणकारी मानी गयी है और कई रोगों में प्रयुक्त की जाती है। दूसरे अर्थों में कहा जाय, तो संतरा स्वास्थ्य के लिए हर प्रकार से फायदेमंद फल है। 100 ग्राम संतरे में पाये जाने वाले विटामिन्स और मिनरल्स का संघटन इस प्रकार हैं –

Amazing Health Benefits of Orange in Hindi

संतरा तन और मन को प्रसन्नता देने वाला ठंडा फल है। इस स्वास्थ्यवर्धक फल में प्रचुर मात्रा में विटामिन सी होता है, साथ ही इसमें लोहा और पोटेशियम  भी काफी ज्यादा होता है। एक व्यक्ति को रोजाना जितने विटामिन C की जरुरत होती है, वह प्रतिदिन एक ऑरेंज खाते रहने से पूरी हो जाती है। संतरे की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसमें विद्यमान फ्रुक्टोज, डेक्स्ट्रोज, खनिज एवं विटामिन शरीर में पहुंचते ही ऊर्जा देनी प्रारंभ कर देते हैं।

1. आपके दिल की सेहत का ख्याल रखता है ऑरेंज

Orange Takes Care of Your Cardiovascular Health in Hindi: ऑरेंज में प्रचुर मात्रा में पोटैशियम पाया जाता है जो आपके ह्रदय के अच्छे स्वास्थ्य के लिये आवश्यक है, क्योंकि यह दिल की धड़कन को स्थिर रखता है। WHO की एक रिपोर्ट (Diet, Nutrition and the Prevention of Chronic Disease) के अनुसार, खट्टे फलों की डाइट का सेवन करने से, दिल की बीमारियाँ पनपने का खतरा भी काफी हद तक कम हो जाता है।

क्योंकि इनमे उपस्थित फोलेट, दिल के रोगों से जुड़े रिस्क फैक्टर होमोसिस्टेन का स्तर कम करता है। वहीँ पोटेशियम ब्लड प्रेशर को कम करके और स्ट्रोक तथा कार्डियक एरिथमिअस से बचाव करके सुरक्षा प्रदान करता हैं। विटामिन C, कैरोटिनोइड्स और फ्लेवोनोइड्स भी कार्डियोवैस्कुलर डिजीज से बचाने में प्रभावी भूमिका निभाते हैं।

एक स्टडी के अनुसार, फलों और सब्जियों की एक अतिरिक्त खुराक खाने से, स्ट्रोक का खतरा 4 प्रतिशत ही कम होता है। लेकिन इतने ही खट्टे फलों का सेवन करने से, खतरा कई गुणा यानि 19 प्रतिशत तक कम हो जाता है। ऑरेंज का फाइबर कोलेस्ट्रोल का ज्यादा स्तर, कम करने में बड़ा असरदार है, साथ ही यह एथेरोस्केलेरोसिस को रोकने में भी मददगार है।

दिल के मरीज को संतरे के रस में शहद मिलाकर देने से आश्चर्यजनक लाभ मिलता है। इसीलिये दिल के रोगियों को ऑरेंज का सेवन जरुर करना चाहिये। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के अनुसार, संतरे जैसे खट्टे फलों में उपस्थित यौगिकों को खाने से महिलाओं में इस्चेमिक स्ट्रोक का खतरा कम हो जाता है और यह इनकी उच्चतम मात्रा के साथ 19 प्रतिशत तक घट सकता है।

2. पाचन संस्थान को संजीवनी देता है ऑरेंज

Orange Boosts Digestive System in Hindi: ऑरेंज का फाइबर, कैंसर पैदा करने वाले रसायनों को फाँस लेता है और उन्हें बड़ी आंत की कोशिकाओं से दूर रखता है। इस तरह से यह कोलोन कैंसर से अतिरिक्त सुरक्षा मुहैया कराता है। IBS (Irritable Bowel Syndrome) से पीड़ित लोगों में संतरे का फाइबर, असुविधाजनक कब्ज (Constipation) और डायरिया को कम कर सकता है।

क्रोन डिजीज और अल्सरेटिव कोलाइटिस का खतरा भी ऑरेंज के सेवन से बहुत हद तक कम हो जाता है। पेट में गैस, अपच, जोड़ों का दर्द, बेरी-बेरी रोग में भी संतरे का सेवन बहुत कुछ लाभकारी होता है। जिन लोगों की पाचन शक्ति कमजोर हो, उनको ऑरेंज का जूस तीन गुने पानी में मिलाकर पीना चाहिये। हालाँकि एक व्यक्ति को एक बार में एक या दो नारंगी ही लेनी चाहिये।

जो लोग उपवास या लंघन कर रहे हों, ऑरेंज उनके लिये भी बहुत मुफीद है। ध्यान दें, पचने से पहले ऑरेंज अम्लीय होता है, लेकिन उनमे कई क्षारीय खनिज होते हैं, जो पाचन के बाद शरीर को संतुलित करते हैं। इस मामले में यह बिल्कुल नींबू जैसे ही हैं।

3. शानदार और शक्तिशाली पोषक तत्वों का खजाना है ऑरेंज

Orange is Rich Source of Potent Nutrients in Hindi: हालिया शोधों में संतरे के कई स्वास्थ्यप्रदायक गुणों के बारे में पता चला है और इसके पीछे संतरे के अनोखे फायटोकेमिकल्स यौगिकों का हाथ है। इन फायटोकेमिकल्स में सिट्रस फ्लेवानोंस (एक प्रकार के फ्लेवोनोइड्स जिनमे हेस्पेरेटिन नरिनगेनिन शामिल हैं), एंथोसाय्निंस, हाइड्रोक्सीसिनामिक एसिड्स और कई प्रकार के पोलीफिनोल्स शामिल हैं।

ऑरेंज में प्रचुर मात्रा में पोलीफिनोल्स उपस्थित होते हैं और इनके व्यापक एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-वायरल, एंटी-एलर्जिक, एंटी-इन्फ्लेमेटरी, एंटी-प्रोलीफरेटिव और एंटी-कार्सिनोजेनिक प्रभाव होते हैं। हालाँकि इस प्रकार की ज्यादातर शोध का दायरा, खट्टे फलों में पाये जाने वाले पोलीफिनोल्स तक ही सीमित रहा है।

4. असमय आने वाली वृद्धावस्था को दूर रखता है ऑरेंज

Orange has Anti-ageing Benefits in Hindi: ऑरेंज में उपस्थित विटामिन C को जब इसकी कुदरती स्वरुप में खाया जाता है, तो यह सूरज और प्रदूषण से त्वचा को होने वाली क्षति को कम करता है। झुर्रियों को कम करता है और स्किन की सम्पूर्ण रंगत को निखारता है। विटामिन C, कोलाजेन के निर्माण में भी अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है, जो आपकी त्वचा का सपोर्ट सिस्टम है।

कोलाजेन हड्डियों, लिगामेंट्स, टेंडन्स और रक्त वाहिनियों का मुख्य घटक है और यह शरीर के ओज को बनाये रखने में अहम् है। इसीलिये अगर आप ढलती उम्र में भी जवां बने रहना चाहते हैं, तो ऑरेंज खाना न छोड़ें। संतरे के छिलकों से तेल भी निकाला जाता है, शरीर पर इस तेल की मालिश करने से मच्छर आदि नहीं काटते।

 

5. हाई ब्लड प्रेशर में कमी लाता है ऑरेंज

Orange Controls Blood Pressure in Hindi: संतरा रक्तचाप सम्बन्धी समस्याओं को दूर करने में लाभदायक है। Orange में पाया जाने वाला हेर्परीडीन (Heperidin) नामक Flavonoid, उच्च रक्तचाप को घटाता है और मैग्नीशियम रक्त दाब को स्थिर बनाये रखता है। जो लोग हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित हों, उन्हें अपनी डाइट में ऑरेंज अवश्य शामिल करना चाहिये।

6. शरीर में तरल पदार्थों का संतुलन बनाये रखता है ऑरेंज

Orange Maintain Electrolytic Balance in Body in Hindi: संतरा, शरीर में अम्ल और क्षार का संतुलन बनाये रखने में मददगार है, क्योंकि इसमें लगभग 87 प्रतिशत तक पानी पाया जाता है। इसके अलावा यह हैजा और गिंगीविटिस जैसे रोगों में भी लाभ पहुँचा सकता है।

Incredible Benefits of The Avocado Fruit in Hindi

7. शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने वाला फल है ऑरेंज

Orange Improves Immune System in Hindi: ऑरेंज एक Immunity Booster Fruit है, जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाकर खतरनाक बैक्टीरिया और वायरस से फैलने वाले संक्रमण से आपकी सुरक्षा करता है। इसमें उपस्थित एंटीऑक्सीडेंटस, फ्री रेडिकल्स के दुष्प्रभावों को दूर करके कोशिकाओं को तेजी से नष्ट होने से बचाते हैं। ऑरेंज में विटामिन C की प्रचुर मात्रा पायी जाती है और विटामिन C एक Healthy Immune System के सही प्रकार से काम करने के लिये बेहद जरुरी है।

क्योंकि यह सर्दी-जुकाम और बार-बार होने वाले मौसमी संक्रमणों से बचाव में अहम भूमिका निभाता है। लेकिन सिर्फ विटामिन C के सप्लीमेंट्स लेने की तुलना में, संतरे में उपस्थित विटामिन C का कहीं ज्यादा महत्व है, क्योंकि यह शरीर को ज्यादा सुरक्षा प्रदान करता है। ब्रिटिश जर्नल ऑफ न्यूट्रीशन में छपे, इटली की मिलान यूनिवर्सिटी में हुए शोध के अनुसार, प्रतिदिन एक गिलास ऑरेंज जूस पीने के कई फायदे हैं।

एक परीक्षण में सात स्वस्थ लोगों में से प्रत्येक को, दो सप्ताह के अंतराल पर 3 ड्रिंक्स दी गयी। जिनमे 150 मिग्रा विटामिन C युक्त ब्लड-ऑरेंज जूस, जल में घुला हुआ 150 मिग्रा विटामिन C और चीनी और पानी से बनी साधारण शुगर ड्रिंक, जिसमे कोई विटामिन C डोज शामिल नहीं थी।

प्रत्येक ड्रिंक पीने से तुरंत पहले, और ड्रिंक पीने के बाद एक-एक घंटे के अन्तराल पर 8 घंटों तक और फिर 24 घंटे बाद प्रत्येक व्यक्ति के शरीर से एक ब्लड सैंपल निकाला गया और उनकी विस्तृत जाँच की गयी। खून के इन नमूनों को हाइड्रोजन पेरोक्साइड के संपर्क में लाया गया और DNA को फ्री रेडिकल्स से होने वाली क्षति को 3 और 24 घंटे बाद मापा गया।

परीक्षण में पाया गया कि विटामिन सी सप्लीमेंट से बनी ड्रिंक और शुगर ड्रिंक से डीएनए को होने वाले नुकसान के विरुद्ध कोई सुरक्षा नहीं मिली। सिर्फ ऑरेंज जूस पीने से ही कुछ अंतर दिखायी दिया। ऑरेंज जूस पीने के बाद, 3 घंटे के पश्चात डीएनए डैमेज 18% था, और 24 घंटे बाद 16 प्रतिशत।

एक दूसरी स्टडी में जिसमे विटामिन C की ज्यादा मात्रा दी गयी थी, से सिर्फ विटामिन की डोज देने से ही सुरक्षात्मक प्रभाव देखने को मिल गया था। इस शोध से सिद्ध होता है कि ऑरेंज के फल से हासिल होने वाली सुरक्षा न सिर्फ ज्यादा जटिल है, बल्कि विटामिन C जैसे पोषक तत्व को कम मात्रा में देने से भी स्वास्थ्य को लाभ होता है।

लेकिन एंटीऑक्सीडेंट प्रोटेक्शन देने का काम, सिर्फ विटामिन C ही नहीं करता, बल्कि दूसरे फायटोकेमिकल्स जैसे कि फ्लेवानोंस, कैरोटिनोइड्स और सायनीडीन-ग्लूकोसाइड व जिंक जैसे खनिज भी इसके साथ मिलकर सम्पूर्ण प्रक्रिया को अंजाम देते हैं। [<a href=”https://www.whfoods.com/orange/” rel=”nofollow”>स्रोत</a>]

8. मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है ऑरेंज

Orange Boosts Your Mental Health in Hindi: CSIRO की रिपोर्ट्स के अनुसार, खट्टे फल मस्तिष्क की कार्यक्षमता को बेहतर करके मानसिक स्वास्थ्य को भी अच्छा बनाते हैं। यह अल्झाइमर डिजीज, डिप्रेशन, पार्किन्सन रोग,मल्टीपल स्केलरोसिस जैसे रोगों के पनपने का खतरा कम करते हैं। संतरे में पाया जाने वाला चोलाइन एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है, क्योंकि यह नींद में, माँसपेशियों के संचालन में, सीखने में और स्मृति में मदद करता है।

चोलाइन, कोशिका झिल्लियों की संरचना को भी बरकरार रखने में मदद करता है। साथ ही यह नाडी संदेशों के संचरण, वसा के अवशोषण और लगातार बनी रहने वाली उत्तेजना को कम करता है। रोजाना एक गिलास ऑरेंज जूस का सेवन करने से, यह आपके दिल और दिमाग को नई शक्ति व ताजगी से भर देता है। बच्चे, बूढ़े, रोगी और कमजोर लोगों को अपनी कमजोरी दूर करने के लिए संतरे का सेवन अवश्य करना चाहिए।

9. थकान मिटाने वाली शानदार एनर्जी ड्रिंक भी है ऑरेंज

Orange is A Powerful Energy Drink in Hindi: ऑरेंज एक शानदार Energy Drink है, क्योंकि एक तो यह रसीला होने की वजह से जल्दी ही शरीर में पचकर रक्त में मिल जाता है, दूसरा इसमें उर्जा भी काफी होती है। संतरे के सेवन से शरीर स्वस्थ रहता है, चुस्ती-फुर्ती बढ़ती है, त्वचा में निखार आता है तथा सौंदर्य में वृद्धि होती है।

वह लोग जो एक्सरसाइज और वर्कआउट करते हैं, उन्हें अपने ट्रेनिंग सेशन से पहले और बाद में इसका इस्तेमाल करना चाहिये। एक गिलास ऑरेंज जूस, आपके शरीर और मन को नयी ताजगी प्रदान करता है और थकान व तनाव को दूर कर देता है। इसका सेवन करने से आपकी खोयी हुई शक्ति फिर से वापस लौट आयेगी और आप खुद को जोशीला महसूस करेंगे।

10. वजन को नियंत्रित रखने में मददगार है ऑरेंज

Orange Aids in Weight Loss Management in Hindi: चूँकि ऑरेंज फैट और ज्यादा कैलोरी से मुक्त होते हैं और इनमे पेक्टिन नामक डाइटरी फाइबर की प्रचुर मात्रा होती है, इसीलिये यह शरीर का वजन कम करने में सहायक हो सकते हैं। जिन लोगों का वजन बढ़ा हुआ हो या वह डाइटिंग कर रहे हों, उन्हें संतरे के रस का सेवन जरुर करना चाहिये।

क्योंकि यह अतिरिक्त चर्बी को बाहर निकाल देता है। हालाँकि ऑरेंज जूस नेचुरल ही ज्यादा बेहतर रहता है, क्योंकि इसमें कोई एडेड शुगर नहीं होती। पैकेज्ड जूस ज्यादा लाभदायक नहीं होता।

 

11. आँखों के स्वास्थ्य के लिये जरुरी है ऑरेंज

Orange is Great for Eye Health in Hindi: चूँकि ऑरेंज में विटामिन A और फ्लेवोनोइडस के साथ-साथ अल्फ़ा और बीटा-कैरोटिन, जिया जैन्थिन, क्रिप्टोजैन्थिन और लुटेंन की प्रचुर मात्रा पायी जाती है, इसलिये यह म्यूकस मेम्ब्रेन और आँखों की त्वचा को स्वस्थ रखने में सहायक है। यह रतौंधी और मैकुलर डीजनरेशन जैसी बीमारियों से आपकी आँखों को बचाता है।

 

12. स्कर्वी रोग से बचाता है ऑरेंज का जूस

Orange Protects from Scurvey Disease in Hindi: शरीर में विटामिन C की कमी से स्कर्वी रोग हो जाता है। इस बीमारी में मुँह में आसानी से चले पड़ जाते हैं, मसूड़ों से खून निकलने लगता है, दाँतों का गिरना शुरू हो जाता है और जोड़ों में बेतहाशा दर्द होता है। स्कर्वी रोग से बचने के लिये, आपको रोजाना कम से कम 90 मिग्रा विटामिन C की जरुरत होती है।

इस तरह देखा जाय, तो ऑरेंज आपको इस रोग से बचा सकता है। संतरे के सेवन से दाँतों और मसूड़ों के रोग आसानी से दूर हो जाते हैं। क्योंकि यह मसूड़ो की सूजन को कम करता है और दाँतों को कमजोर होने से बचाता है।

30 Surprising Benefits of The Avocado in Hindi

13. शरीर में कोलेस्ट्रोल का स्तर कम करता है ऑरेंज

Orange Lowers Cholesterol in Hindi: खट्टे फलों के छिलकों में पोलीमेथोजाईलेटेड फ्लेवानोस (Polymethoxylated Flavones) नामक यौगिक पाये जाते हैं, जिनमे बिना कोई साइड-इफेक्ट्स पैदा किये, कोलेस्ट्रोल का स्तर कम करने की क्षमता होती है। अमेरिकी और कनाडाई शोधकर्ताओं की एक स्टडी, जो जर्नल ऑफ एग्रीकल्चरल और फूड केमिस्ट्री में प्रकाशित हुई थी, के अनुसार, इस मामले में यह स्टेटिन जैसी कुछ एलोपैथिक दवाइयों से भी ज्यादा प्रभावशाली सिद्ध होते हैं।

PMF के साथ उपचार करने पर HDL यानि अच्छे कोलेस्ट्रोल के स्तर पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता। इन PMF में सबसे मुख्य हैं – टंगेरेटिन और नोबिलेटिन जो छिलकों में तो प्रचुरता से पाये जाते हैं, लेकिन इन फलों के रसों में इतनी उच्च मात्रा में नहीं होते। छिलकों में PMF का स्तर, रस की तुलना में 5 से 7 गुणा ज्यादा होता है। PMF, यकृत में कोलेस्ट्रोल और ट्राईग्लिसराइड का संश्लेषण रोकते हैं।

संतरे में पाये जाने वाले लिमोनिन में कोलेस्ट्रोल का स्तर कम करने का गुण होता है। प्रयोगशाला में हुई जाँच में पता चला है कि जब यकृत (Human Liver) की कोशिकाएँ लिमोनिन के संपर्क में आती हैं, तब वह कम एपो B उत्पन्न करती हैं। एपो B एक विशेष प्रकार का संरचनात्मक प्रोटीन है, जो LDL कोलेस्ट्रोल अणु का हिस्सा है और LDL के निर्माण, परिवहन और बंधने के लिये जरुरी है।

इसीलिये एपो B का उच्च स्तर, LDL कोलेस्ट्रोल के उच्च स्तर में परिवर्तित हो जाता है। इसके अलावा संतरे में एक दूसरा फ्लेवोनॉन ‘हेर्परीडीन’ अणु भी पाया जाता है, जो ऑरेंज मे अभी तक पाया गया सबसे ज्यादा प्रभावशाली फायटोन्यूट्रीएंट्स है। जानवरों पर हुए कई शोधों में हेर्परीडीन उच्च रक्तचाप और कोलेस्ट्रोल को कम करने में प्रभावी घटक सिद्ध हुआ है। फ्री रेडिकल्स कोलेस्ट्रोल का आक्सीकरण भी करते हैं।

आक्सीकरण होने पर ही यह धमनियों की दीवारों पर जमना शुरू होता है और फिर यह धीरे-धीरे इतना ज्यादा जम जाता है कि रक्त प्रवाह को ही अवरुद्ध कर देता है या रक्त वाहिनी के फटने का कारण बन सकता है। जिससे हार्ट अटैक या स्ट्रोक की समस्या पैदा हो सकती है। चूँकि विटामिन C फ्री रेडिकल्स के नकारात्मक प्रभावों को ख़त्म करता है, इसीलिये यह कोलेस्ट्रोल के आक्सीकरण को भी रोकता है।

14. अल्सर जैसे गंभीर और कष्टकारी रोग से बचाता है ऑरेंज

Orange Prevents Stomach Ulcers in Hindi: जर्नल ऑफ अमेरिकन कॉलेज ऑफ न्यूट्रीशन में प्रकाशित एक स्टडी के अनुसार, रोजाना एक संतरा खाने से आप अल्सर जैसे दुखदायी रोग को खुद से दूर रख सकते हैं। इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने 6,000 वयस्कों पर एक सर्वे किया था और इसमें पाया गया कि जिन लोगों के रक्त में विटामिन C का सबसे उच्च स्तर था, उनके हेलिकोबेक्टर पायलोरी के संक्रमण से ग्रस्त होने का खतरा 25% कम था।

यह वही Bacteria है जो पेप्टिक अल्सर के लिये जिम्मेदार है और जो पेट के कैंसर का खतरा बढ़ा देता है। हालाँकि शोधकर्ताओं को अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि क्या H. pylori विटामिन C का स्तर कम कर देता है या फिर विटामिन C संक्रमण से बचाव करने में मदद करता है।

आप चाहे रोजाना एक संतरा खायें या फिर एक संतरे का जूस पियें, दोनों ही दशाओं में यह गैस्ट्रिक अल्सर को रोकने में मददगार है। इस शोध के मुख्य शोधकर्ता डा. जोएल साइमन ने लोगों से आग्रह किया है कि H. pylori से पीड़ित लोगों को अपने आहार में विटामिन C युक्त पदार्थों की मात्रा बढ़ा देनी चाहिये, ताकि वह इससे फैलने वाले संक्रमण से निपट सके।

 

15. कई तरह के कैंसर के खतरे को रोकता है ऑरेंज

Orange can Prevent Cancer in Hindi: संतरे में उपस्थित शानदार Phytochemicals, कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के खतरे से बचाते हैं। विटामिन C शरीर में पाया जाने वाला प्राथमिक, जल में घुलनशील एंटीऑक्सीडेंट है जो फ्री रेडिकल्स को ख़त्म करता है और कोशिकाओं के अन्दर और बाहर के जलीय वातावरण में डैमेज होने से रोकता है। कोशिकाओं के अन्दर, फ्री रेडिकल्स से DNA को होने वाली क्षति से ही, Cancer जैसा रोग पनपता है।

विशेषकर Digestive System जैसे शरीर के उन क्षेत्रों में, जहाँ कोशिकाओं का निर्माण और विभाजन काफी तेजी से होता है, में यह विटामिन, DNA के म्यूटेशन को रोककर, इसे कैंसर में परिणत होने से रोकता है। यही कारण है कि विटामिन C की पर्याप्त मात्रा लेने से कोलोन कैंसर का खतरा काफी कम हो जाता है। कैंसर को रोकने में संतरा किस तरह से मददगार है, इसके बारे में जानने के लिये ‘कैंसर का दुश्मन है संतरा’ नामक लेख पढ़ें।

16. गुर्दों में पथरी बनने से रोकता है ऑरेंज

Orange Prevents Kidney Disease in Hindi: क्या आप कैल्सियम ऑक्सालेट से बनी किडनी स्टोंस के खतरे को को कम करना चाहते हैं, तो ऑरेंज जूस पीजिये। ब्रिटिश जर्नल ऑफ न्यूट्रीशन में प्रकाशित एक स्टडी के अनुसार, जब स्त्रियाँ प्रतिदिन Orange, Grapefruit या Apple का आधे से एक लीटर जूस पीती हैं, तो उनके मूत्र का pH और सिट्रिक एसिड उत्सर्जन बढ़ जाता है, जिससे कैल्सियम ऑक्सालेट की पथरी बनने का खतरा कम हो जाता है।

सच तो यह है कि पथरी के इलाज में ऑरेंज उसी तरह से फायदेमंद है जैसे कि नींबू। अगर आप नियमित रूप से ऑरेंज जूस पीते हैं, तो न सिर्फ स्टोन प्रॉब्लम से, बल्कि गुर्दों के कई अन्य रोगों से भी बच सकते हैं। क्योंकि इसमें उपस्थित साइट्रिक अम्ल, मूत्र रोगों और गुर्दा रोगों को दूर करता है।

 

17. अर्श और बवासीर के रोग में राहत दिलाता है ऑरेंज

Orange can Heal Piles Problems in Hindi: वृद्ध लोगों को अक्सर कब्ज की शिकायत रहती है और उन्हें अक्सर दवाइयों का इस्तेमाल करना पड़ता है। ऐसे लोग रोजाना संतरे का सेवन करें, क्योंकि इसके जूस में उपस्थित सिट्रिक एसिड और पेक्टिन फाइबर कब्ज से राहत दिलाते हैं।

बवासीर के रोग में, अगर रोजाना एक लाल मीठे ऑरेंज का सेवन किया जाय, तो इससे मस्सों से होने वाली ब्लीडिंग रूकती है और आँतों का दबाव कम होता है। ऐसे लोग संतरे के छिलके को सुखाकर, उसका चूर्ण बनाकर रख लें और जब ऑरेंज का फल उपलब्ध न हो, तब इसे खायें, बहुत लाभ देगा।

18. बुखार और दस्तों की शिकायत दूर करता है संतरा

Orange can be Helpful in Fever and Dysentery in Hindi: पेचिश की शिकायत होने पर, संतरे के रस में बकरी का दूध मिलाकर लेने से काफी फायदा मिलता है। यह अल्सरेटिव कोलाइटिस के उपचार में भी समर्थ है, क्योंकि इसमें रक्तस्राव को रोकने की अद्भुत क्षमता है। इसके अलावा संतरा बुखार में भी फायदेमंद है, क्योंकि तेज बुखार में संतरे के रस का सेवन करने से तापमान कम हो जाता है।

Wonderful Orange Benefits in Hindi with Images

19. शरीर में सूजन और उत्तेजना में कमी लाता है संतरा

Orange has Anti-Inflammatory Properties in Hindi: ऑरेंज में मौजूद एंटीऑक्सीडेंटस और विटामिन C जोड़ो के दर्द और सूजन को कम करते है और मुक्त कणों को ख़त्म करते हैं। फ्री रेडिकल्स द्वारा अन्य कोशिका संरचनाओं और अणुओं को क्षति पहुँचने से शरीर के अंगों में दर्दनाक सूजन पैदा हो सकती है, क्योंकि शरीर डैमेज हो चुके हिस्सों से छुटकारा पाने का प्रयत्न करता है।

इस प्रकार से विटामिन C, जो उस फ्री रेडिकल डैमेज को रोकता है, जिससे शरीर पर उत्तेजनातमक हमला होता है। ऐसे कई प्रकार के रोग है जिनमे उत्तेजना गंभीर रूप प्रकट कर सकती है – जैसे कि अस्थमा ओस्टियोआर्थराइटिस और गठिया। संतरे में उपस्थित हेर्परीडीन में शक्तिशाली एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं जो सूजन घटाने में प्रभावी हैं।

महत्वपूर्ण बात यह है कि इनमे से ज्यादातर फायटोन्यूट्रीएंट्स, ऑरेंज के छिलके और अंदरूनी सफ़ेद गूदे में पाये जाते हैं, न कि इसके तरल जूसी केंद्र में। इसका मतलब यह है कि हम लोग संतरे के ज्यादातर गुणों को छिलके के साथ ही बाहर फेंक देते हैं। जिन लोगों को जोड़ों और घुटनों में दर्द की समस्या रहती है, वे अगर इस फल के रस को बकरी के दूध के साथ मिलाकर पीये, तो घुटनों के दर्द से राहत मिल सकती है।

गठिया यानि Rheumatoid Arthritis जोड़ों और घुटनों की एक गंभीर बीमारी है। अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रीशन में प्रकाशित एक नये रिसर्च के अनुसार, प्रतिदिन एक गिलास ताजे संतरों का जूस पीने से गठिया का खतरा कम हो जाता है।

EPIC (European Prospective Investigation of Cancer Incidence) द्वारा जुटाये गये आंकड़ों के अनुसार, जिसमे 25 हजार लोगों पर स्टडी की गयी थी, में पाया गया कि जो लोग बीटा-क्रिप्टोजैन्थिन और जियाजैन्थिन जैसे कैरोटिनोइड की उच्चतम मात्रा अपने आहार में लेते थे, उनमे गठिया विकसित होने का खतरा, उन लोगों की तुलना में कहीं ज्यादा कम था, जो इन लाभदायक फायटोन्यूट्रीएंट्स का कम सेवन करते थे।

जिन लोगों ने जियाजैन्थिन की सबसे ज्यादा मात्रा ली थी, उनमे Rheumatoid Arthritis पनपने का खतरा 52% तक कम था। जबकि जिन लोगों ने क्रिप्टोजैन्थिन का ज्यादा सेवन किया था, उनमे इसका खतरा 49% कम था। सच में अद्भुत है ऑरेंज।

20. मधुमेह से पीड़ित रोगियों के लिये लाभदायक है ऑरेंज

Orange is Beneficial For Diabetics in Hindi: संतरे का फाइबर, रक्त शर्करा का स्तर भी नियंत्रित रखता है। यही वजह है कि आखिर क्यों यह मधुमेह के रोगियों के लिये इतना हेल्दी स्नैक समझा जाता है? इसके अलावा संतरे की नेचुरल फ्रूट शुगर, फ्रुक्टोस, खाने के बाद, ब्लड शुगर का स्तर बहुत ज्यादा बढ़ने से रोकने में मदद कर सकती है।

CSIRO की रिपोर्ट्स के अनुसार, पोषक तत्वों से भरपूर कम वसायुक्त आहार, जिनका ग्लाईसेमिक इंडेक्स कम हो, वजन कम करने और मोटापे को नियंत्रित करने में बहुत प्रभावी होते हैं। यह दोनों ही स्थितियाँ दिल की बीमारियों, कुछ तरह के कैंसर, हाई ब्लड प्रेशर, स्ट्रोक और मधुमेह रोग का खतरा काफी कम कर देती हैं और आर्थराइटिस जैसे लक्षणों से भी बचा सकती हैं।

मधुमेह के रोगियों के पैंक्रियास में, बीटा कोशिकाओं या तो इन्सुलिन का उत्पादन करने में असमर्थ हो जाती हैं या फिर इन्सुलिन के उत्पादन के प्रति सुग्राही नहीं होती, इसीलिये उनका शरीर ग्लूकोज के अवशोषण में असमर्थ हो जाता है। संतरे के छिलके में शुगर की मात्रा कम होती है और यह डायबिटीज के रोगियों की ब्लड शुगर का स्तर नीचे ला सकता है।

21. सर्दी-जुकाम में भी राहत दे सकता है संतरा

Orange Helps in Fighting Cold in Hindi: ऑरेंज कई प्रकार के श्वास रोगों से बचाव कर सकता है। ऑरेंज में प्रचुरता से उपस्थित पोलीफिनोल्स, वायरल इन्फेक्शन के विरुद्ध बचाव करते हैं। संतरे का सेवन जहाँ जुकाम में राहत पहुँचाता है, वहीं सूखी खाँसी में भी फायदा करता है। यह कफ को पतला करके बाहर निकाल देता है। खांसी-जुकाम होने पर एक गिलास ऑरेंज जूस पीते रहने से लाभ होगा। स्वाद के लिये इसमें नमक या मिश्री डालकर पी सकते है।

22. बालों को झड़ने-गिरने से बचाता है ऑरेंज

Orange Prevents Hair Loss in Hindi: संतरे में उपस्थित विटामिन C कोलाजेन के उताप्दन की प्रक्रिया में तेजी लाता है, जिससे आपके बालों के उतकों का अलग होना रुक जाता है। स्कैल्प में बेहतर सर्कुलेशन होने की वजह से बाल तेजी से बढ़ते हैं। वहीँ संतरे में उपस्थित फोलिक एसिड और इनोसिटोल बालों को गिरना बंद करते हैं, जिससे बाल बेहतर होते हैं। संतरे के ताजे फूल को पीसकर, उसका रस सिर में लगाने से बालों की चमक बढ़ती है। बाल जल्दी बढ़ते हैं और उसका कालापन बढ़ता है।

जीवनसूत्र को अपना प्यार बाँटें
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •