Wonderful Spinach Benefits in Hindi

 

“हरी सब्जियों में पालक का अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है, क्योंकि यह शरीर को स्वस्थ और शक्तिशाली बनाने के लिये जरुरी सभी पोषक तत्वों से लैस है। यह न सिर्फ शरीर में पानी की कमी पूरी करता है, बल्कि अपने अनोखे गुणों से इंसानों को दर्जनों बीमारियों की चपेट में आने से भी बचाता है।”

Spinach Benefits in Hindi
विटामिन और मिनरल्स का प्रचुर स्रोत है पालक

What is Spinach in Hindi आखिर क्या है पालक

Spinach Benefits in Hindi में आज हम आपको स्पिनच यानि पालक के फायदों के बारे में बतायेंगे। पालक मूल रूप से मध्य-पश्चिमी एशिया में पाया जाने वाला एक छोटा पौधा है, जिसकी पत्तियों एवं तने को शाक के रूप में दुनिया भर में खाया जाता है। पालक का बोटैनिकल नेम ‘स्पिनाकिया ओलेरसा’ (Spinacia Oleracea) है और यह अमरंथासाए (Amaranthaceae) परिवार का सदस्य है।

यह भारत में हर स्थान पर पैदा होता है, लेकिन इसे अलग-अलग नामों से पुकारा जाता है, जैसे तमिल में इसे पसलई कीरे और बंगाली में पलंग साग के नाम से पुकारा जाता है। पालक की औसत ऊंचाई 15 से 20 सेमी होती है, लेकिन यह एक फुट तक बढ़ सकता है।

माना जाता है कि पालक फारस (आधुनिक ईरान) में पैदा हुआ था, लेकिन कई इतिहासकारों का मत है कि भारत इसका मूल क्षेत्र है। सन 2014 में पूरी दुनिया में 2.43 करोड़ टन पालक का उत्पादन हुआ था, जिसमे सबसे ज्यादा योगदान चीन (91 प्रतिशत) का था।

Spinach in Hindi पालक की सामान्य जानकारी

आम तौर पर पालक की पत्तियाँ और तना ही खाने के लिये प्रयुक्त किये जाते हैं, जो गहरे हरे रंग के होते हैं। कच्चे पालक का स्वाद कुछ हल्का सा कसैला होता है, लेकिन पोषक तत्वों की प्रचुर मात्रा के कारण यह बहुत गुणकारी भी होता है। पालक जल की पूर्ति करने का एक सुलभ साधन है, क्योंकि इसमें 91 प्रतिशत पानी होता है।

इसके अतिरिक्त इसमें कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और वसा की कुछ मात्रा भी होती है। जितनी भी हरी सब्जियाँ हैं, उनमे पालक को सबसे अधिक गुणकारी माना जाता है। क्योंकि इसमें लौह तत्व (आयरन) की प्रचुर मात्रा होती है, जो इसे एनीमिया रोग के उपचार में आदर्श आहार बनाती है।

पालक आँखों, हड्डियों और पेट के लिये बहुत गुणकारी है। इसके अतिरिक्त यह वजन को नियंत्रित करने, उच्च रक्तचाप को ठीक करने, और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिये भी जाना जाता है।

Nutritional Facts about Spinach in Hindi

यह हैं पालक में उपस्थित पोषक तत्व

पालक यानि Spinach, एक उच्च पोषक तत्व युक्त भोजन (Highly Nutritious Food) है, जिसमे शरीर को स्वस्थ और शक्तिशाली बनाने के लिये जरुरी सभी Essential Nutrients उपस्थित हैं। पालक में विटामिन डी को छोड़कर लगभग हर विटामिन पाया जाता है। इसके अतिरिक्त इसमें सभी Major Minerals और कुछ Trace Minerals भी पाये जाते हैं।

हालाँकि ऑक्ज़ैलिक अम्ल की उपस्थिति के कारण कैल्शियम ज्यादा उपलब्ध नहीं होता। पालक कैंसर का खतरा कम करता है, डायबिटीज के रोगियों की ब्लड शुगर को नियंत्रण में लाता है और अस्थमा होने की संभावना को न्यून करता है। पालक में पाये जाने वाले प्रमुख पोषक तत्व इस प्रकार हैं –

इनके अलावा पालक में 5.626 मिग्रा बीटा-कैरोटिन और 12.198 माइक्रोग्राम ल्यूटिन-जियाजैन्थिन भी पाया जाता है।

Amazing Health Benefits of Spinach in Hindi

पालक शरीर के लिये बहुत ही स्वास्थ्यप्रद और हितकारी प्राकृतिक वनस्पति है। यही कारण है कि इसे पूरी दुनिया में उगाया और खाया जाता है। हालाँकि इसे कई प्रकार से खाया जा सकता है, लेकिन इसके सबसे ज्यादा पोषक तत्व तभी प्राप्त होते हैं, जब इसे कच्चा खाया जाता है। अब हम आपको पालक के 15 से भी ज्यादा अद्भुत फायदों के बारे में बतायेंगे, ताकि आप इस सब्जी के गुणों को जानकर, इससे सम्पूर्ण लाभ उठा सकें।

1. विटामिन और मिनरल्स का शानदार स्रोत है पालक

Spinach is A Great Source of Vitamins and Minerals in Hindi: पालक हमारे स्वास्थ्य को अक्षुण्ण रखने के लिये आवश्यक सभी जरुरी पोषक तत्वों से भरा है। इसमें कई विटामिन्स, मिनरल्स, फायटोनुट्रिएंट्स और एंटीऑक्सीडेंट्स उच्च मात्रा में पाये जाते हैं, पर साथ ही इसमें बहुत कम कैलोरी होती है। दूसरे शब्दों में कहा जाय तो यह शाकाहारी लोगों के लिये सबसे बेहतर आहार में से एक है। पालक में मौजूद मिनरल्स, शरीर के PH लेवल को कण्ट्रोल करने में मददगार हैं। इसके अलावा इसमें प्रोटीन भी काफी अधिक मात्रा में होता है।

पालक, विटामिन A, विटामिन B के सभी उपप्रकार, विटामिन C, E और K, तथा लोहा, कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटैशियम, सेलेनियम, मैंगनीज, फास्फोरस, जस्ता, फोलेट, प्रोटीन और खाने योग्य फाइबर का एक बहुत ही अच्छा स्रोत है। इसके अलावा यह उन फ्लेवोनोइड्स और कैरोटीनॉयड से भी भरपूर होता है, जो शरीर की जैव रासायनिक प्रक्रियाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए, शरीर के अंगों को स्वस्थ रखते है।

2. मस्तिष्क के लिये भी लाभदायक है पालक

Spinach is Beneficial for Your Brain Health in Hindi: पालक मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिये भी काफी लाभदायक है। क्योंकि इसमें पाये जाने वाले लुटेन, फोलेट और बीटा कैरोटीन जैसे पोषक तत्व दिमाग की कार्यक्षमता में वृद्धि करते हैं, न्यूरोंस के स्वास्थ्य को सही रखते हैं और डिमेंशिया (एक प्रकार का पागलपन का रोग) तथा अल्जाइमर जैसे रोगों से बचाव करते हैं। पालक खाने से दिमाग तो मजबूत होता ही है, साथ ही याददाश्त भी बढ़ती है।

मस्तिष्क के लिये पोटेशियम भी बहुत जरुरी है, क्योंकि यह तंत्रिका तंत्र से संबंधित परेशानियों में लाभ देता है और एकाग्रता तथा अनुभूति बढ़ाने के साथ-साथ मस्तिष्क के अन्दर होने वाले रक्त प्रवाह में भी वृद्धि करता है। हालिया शोध में पाया गया है कि पालक में उपस्थित फ्लेवोनोइडस, शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट के रूप में काम करते हैं और मस्तिष्क की कोशिकाओं की खतरनाक फ्री-रेडिकल्स से सुरक्षा करते हैं।

इससे उम्र बढ़ने पर दिमाग की कोशिकाओं की संख्या में कमी आने की समस्या पर काबू पाया जा सकता है। अगर आप भी पालक से न्यूरोप्रोटेक्टीविटी लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, तो अक्सर पालक खायें।

3. कैंसररोधी गुणों से भरपूर शानदार सब्जी है पालक

Spinach has Anti-cancer Properties in Hindi: पालक अपने शानदार कैंसरनाशक गुणों के लिये भी जाना जाता है, क्योंकि इसमें फ्लेवोनॉयडस जैसे फायटोन्यूट्रीएंट्स की उच्च मात्रा पायी जाती है, जो कैंसर कोशिकाओं को उत्पन्न होने और फैलने से रोकता है। पालक और दूसरी हरी सब्जियों में क्लोरोफिलिन, फोलेट, और टोकोफेरोल जैसे तत्व होते है, जो हेट्रोसायकिलिक एमिनेस के कैंसरकारक प्रभावों को रोकने में प्रभावशाली होते देखे गये है।

यह तत्व तब पैदा होते है, जब भोजन को ज्यादा तापमान पर ग्रिल किया जाता है। पालक में उपस्थित कैरोटीनोईडस नामक पिगमेंट्स, खतरनाक फ्री रेडिकल्स को ख़त्म करने के लिये एक एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करते हैं। अमेरीकन इंस्टिट्यूट ऑफ कैंसर रिसर्च के अनुसार, कैरोटीनोईडस से युक्त आहार मुँह, फैरिंक्स और लैरिंक्स के कैसर को रोकते हैं।

सिर्फ इतना ही नहीं यह ब्रेस्ट कैंसर, फेफड़ों के कैंसर, पेट के कैंसर और त्वचा कैंसर के फैलने की रफ़्तार भी धीमी कर सकते हैं। इसके अलावा पालक मूत्राशय, प्रोस्टेट, और यकृत कैंसर को खतरे को भी कम करता है।

4. आँखों की रौशनी को कायम रखता है पालक

Spinach Protects Your Eye Sight in Hindi: पालक में शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंटस, ल्यूटिन (Lutein) और जियाजैन्थीन (Zeaxanthin) की प्रचुर मात्रा पायी जाती है, जो आँखों की रतौंधी, मोतियाबिंद और अधिक आयु में होने वाली लेंस की खराबी (Age related Macular Degeneration) जैसे रोगों से सुरक्षा करते हैं। जियाजैन्थीन, आंखों के रेटिनल मैकुला ल्यूटिला में अवशोषित होता है और प्रकाश को फिल्टर करके आंखों की रोशनी को सुधारता है।

यह एंटीऑक्सीडेंटस आंखों को अल्ट्रावायलेट किरणों के कठोर प्रभाव से बचाते है और फ्री रेडिकल्स के दुष्प्रभावों को भी कम करते हैं, जो आगे चलकर आँखों की कई बीमारियों का कारण बन सकते हैं। पालक में पाया जाने वाला विटामिन A, आंखों की म्यूकस झिल्ली को स्वस्थ रखकर, आँखों में खुजली, आंखों के अल्सर और आंखों में ड्राईनेस होने से रोकता है। इसके अलावा यह आँखों की जलन को भी कम करता है।

पालक में पाया जाने वाला बीटा-कैरोटीन भी एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है, क्योंकि यह आँखों की धब्बेदार अध: पतन और मोतियाबिंद जैसी बीमारियों से सुरक्षा करता है। लेकिन पालक में उपस्थित एंटीऑक्सीडेंटस का अधिकतम उपयोग करने के लिये इसे वसायुक्त पदार्थों के साथ खाना चाहिये, क्योंकि ल्यूटिन वसा में घुलता है। अगर आप चाहें तो पालक को मक्खन या जैतून के तेल के साथ सलाद के रूप में खा सकते हैं। यह आपकी आँखों को बड़ा लाभ देगा।

5. मोटापे को नियंत्रित करने के लिये आदर्श आहार है पालक

Spinach Regulates The Obesity in People in Hindi: पालक मोटापे को नियंत्रित करने के लिये एक आदर्श आहार है। क्योंकि न तो इसमें कैलोरी ही अधिक होती है और न ही वसा, लेकिन फिर भी यह शरीर के लिये बहुत पौष्टिक होता है। क्योंकि इसमें पोषक तत्वों की उच्च मात्रा उपस्थित होती है। जरुरी पोषक पोषक तत्वों के अलावा, पालक में घुलनशील फाइबर भी पाया जाता है।

यह फाइबर भोजन को अच्छी तरह से पचाने और आँतों की चाल को ठीक रखने में सहायक होता है, जिससे व्यक्ति को कब्ज की समस्या नहीं होती है। फाइबरयुक्त भोजन करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि एक तो यह ज्यादा मात्रा में खाया नहीं जाता और अगर खा भी लिया जाता है, तो इससे न तो मोटापा बढ़ता है और न ही ब्लड शुगर।

6. पाचन तंत्र के लिये बहुत लाभदायक है पालक

Spinach is Beneficial for Your Digestive System in Hindi: पालक पाचन तंत्र (Digestive Systeem) के लिये बहुत लाभदायक है, क्योंकि इसमें 90 प्रतिशत पानी और 4 प्रतिशत खाने योग्य रेशा (Dietary Fiber) होता है। इसमें उपस्थित बीटा कैरोटिन और विटामिन C उदर और आँतों का स्वास्थ्य (Gastrointestinal Health) बनाये रखने में सहायक हैं।

चूँकि पालक में फाइबर और पानी दोनों की मात्रा बहुत ज्यादा होती है, इसीलिये यह कब्ज होने की संभावना को रोकता है और पाचन संस्थान को सही रखने में मदद करता है। इसमें उपस्थित रेशा मल को बाँधता है और बोवेल मूवमेंट को ठीक करता है।

Incredible Benefits of The Spinach in Hindi

7. चयापचय की प्रक्रिया को सही रखता है पालक

Spinach Regulates Meatabolism Process in Hindi: यह भी एक कारण है कि क्यों डॉक्टर अपने रोगियों को, रोज़ाना के आहार में, पालक खाने की सलाह देते हैं। पालक में पाये जाने वाले प्रोटीन की मात्रा, किसी भी सब्जी के लिये बहुत ही उत्साहवर्धक मानी जाती है। क्योंकि वह एंजाइमों द्वारा आसानी से एमिनो एसिडस में टूट जाता हैं और यह एमिनो एसिडस इंसानों के लिये कितने आवश्यक हैं, इसके बारे में बताने की किसी को कोई जरुरत नहीं होनी चाहिये।

दोबारा निर्मित होने वाले यह स्तनपायी प्रोटीन न सिर्फ हमारी माँसपेशियों के विकास और वृद्धि में सहायता करते हैं, बल्कि घावों को ठीक करने की हमारे शरीर की क्षमता को भी बढ़ाते हैं। इसके अलावा यह हमारे सम्पूर्ण चयापचय प्रक्रिया में भी तेजी लाते हैं।

जिससे हमारे सभी अंग और उनकी प्रणालियाँ, अपने उच्चतम स्तर पर जाकर, कार्य करने में सक्षम बनते हैं। एक हालिया अध्ययन से यह भी पता चला है कि पालक में पाया जाने वाला थायलाकॉइड, भूख को कम करके वजन घटाने में मदद करता हैं।

8. आपकी हड्डियों को मजबूत बनाता है पालक

Spinach Looks for Your Bones Health in Hindi: पालक में कैल्शियम और पोटैशियम की प्रचुर मात्रा के साथ-साथ विटामिन K भी पाया जाता है, जो मजबूत हड्डियों के निर्माण के लिये आवश्यक है। आहार में विटामिन K की कम मात्रा लेने से हड्डियों के टूटने का खतरा ज्यादा बढ़ जाता है। इसीलिये भोजन में विटामिन K की पर्याप्त मात्रा का होना अच्छे स्वास्थ्य के लिये बहुत जरुरी है।

क्योंकि यह बॉन मैट्रिक्स प्रोटीन को सुधारती है, कैल्शियम के अवशोषण को बढाती है और पेशाब के रास्ते, कैल्शियम को बाहर निकलने से रोकती है। विटामिन K, ऑस्टियोकैल्सीन नामक प्रोटीन की ज्यादा सक्रियता को धीमा और नियंत्रित करके इसके संश्लेषण को बढाता है।

हालाँकि जब बात हड्डियों के स्वास्थ्य की आती है, तो पालक कुछ जटिल सा नजर आता है। क्योंकि खूब सारा कैल्शियम होने के बावजूद, इसमें ऑक्सालेट्स भी होते हैं जो शरीर के लिये कैल्शियम के अवशोषण को मुश्किल बना देते हैं।

9. त्वचा की सुरक्षा करता है पालक

Spinach Protects Your Skin in Hindi: पालक हमारी त्वचा की भी सुरक्षा करता है। कई अध्ययनों में पता चला है कि ऐसे कई फायटोन्यूट्रीएंट्स और पिगमेंट्स हैं, जो त्वचा की सूरज की हानिकारक किरणों से सुरक्षा करते हैं। इन किरणों में अल्ट्रावायलेट रेज यानि पराबैंगनी विकिरण भी शामिल है। यह फायटोन्यूट्रीएंट्स और पिगमेंट्स, न सिर्फ जीन की सुरक्षा करते हैं, बल्कि कुछ हद तक क्षतिग्रस्त जीन को ठीक भी करते हैं।

जिससे लंबे समय तक त्वचा के कैंसर को पनपने से रोका जा सकता हैं। इसके लिये आप पालक को ओरल डाइट के रूप में भी खा सकते हैं या फिर इसे स्किन पैक के घटक के रूप में भी शामिल कर सकते हैं। रोजाना पालक का जूस पीने से चेहरे पर ग्लो आता है और स्किन भी हाइड्रेटेड रहती है। उम्र के साथ चेहरे पर आने वाली झुर्रियाँ, मुहांसे, दाग-धब्बे आदि पालक खाने से दूर हो जाते है।

10. आपकी चोट को जल्दी ठीक करता है पालक

Spinach Treats Your Wounds in Hindi: पालक में विटामिन K प्रचुरता से पाया जाता है और एक सर्विंग में इसकी मात्रा रोजाना की जरुरत का 181 प्रतिशत होती है। जब आपके शरीर में किसी स्थान पर चोट लग जाती है, तो यह विटामिन आपके खून को जमने में मदद करता है। इसलिये इस विटामिन की निर्धारित डोज, रोजाना लेना, जल्दी रिकवरी करने के लिये जरुरी है।

विटामिन K, आपके दिल को स्वस्थ रखने के लिये भी जरुरी है। एक हालिया शोध में जिसमे 766 व्यस्क शामिल थे, पाया गया था कि जो लोग विटामिन K की कम मात्रा लेते हैं, उनके दिल के पम्पिंग चैम्बर के फैलने का खतरा 3.3 गुणा तक ज्यादा होता है।

11. अस्थमा का खतरा कम करता है पालक

Spinach Minimize Risk of Asthama in Hindi: जो लोग कुछ विशेष पोषक तत्वों की ज्यादा मात्रा का सेवन करते हैं, उन लोगों में अस्थमा (दमा) पनपने का खतरा कम होता है। इनमे से एक न्यूट्रीएंट है बीटा-कैरोटिन, जो पालक में बहुत ज्यादा मात्रा में पाया जाता है। इसीलिये अगर आप खुद को दमा का शिकार बनने से बचाना चाहते हैं, तो पालक का सेवन करें। पालक के अलावा खुबानी, ब्रोकोली, कद्दू और गाजर भी बीटा-कैरोटिन का प्रचुर स्रोत हैं।

22 Surprising Benefits of The Spinach in Hindi

12. दिल के रोगों की रोकथाम करता है पालक

Spinach Prevents Many Heart Diseases in Hindi: पालक दिल की बीमारियों के होने का खतरा कम करता है। क्योंकि यह उन एंटी-ऑक्सीडेंटस, विटामिन सी और बीटा कैरोटीन से भरपूर होता है जो हृदय के स्वास्थ्य को बढ़ावा देते है। यह एंटीऑक्सिडेंटस, कोलेस्ट्रॉल के हानिकारक ऑक्सीकरण को रोकते हैं, जो आगे चलकर दिल और धमनियों के स्वास्थ्य के लिए खतरा बन सकते हैं।

पालक में मैग्नीशियम, पोटेशियम और फोलेट जैसे पोषक तत्व होते हैं जो दिल को ठीक रखते हैं। इसके अलावा, पालक और अन्य हरी पत्तेदार सब्जियों में नाइट्रेट भी होते हैं, जो रक्त वाहिकाओं को खोलने में मदद करते हैं, रक्त-संचलन को बेहतर बनाते हैं और रक्तचाप को कम करते हैं। हालाँकि इसके लिये जरुरी है कि पालक को कच्चा ही खाया जाय।

पालक में उपस्थित लिटिन नामक एक पिगमेंट (वर्णक) दिल के दौरे और स्ट्रोक की घटना को कम करता है। यह एथ्रोस्क्लेरोसिस नामक रोग को जो धमनियों के कठोर होने के कारण होता है, दूर करता है। क्योंकि पालक में उपस्थित प्रोटीन, रक्त वाहिनियों में जमे कोलेस्ट्रॉल और अन्य जमी हुई वसा को कम करता हैं।

13. मधुमेह के रोगियों के लिये लाभदायक है पालक

Spinach is Beneficial for Diabetic People in Hindi: पालक में अल्फा-लिपोइक अम्ल (Alpha-lipoic Acid) नाम का एक एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो न सिर्फ ग्लूकोज का स्तर कम करता है, बल्कि इन्सुलिन की संवेदनशीलता भी बढाता है। इसके अतिरिक्त यह मधुमेह के रोगियों में ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस से उपजने वाले बदलावों को भी रोकता है।

अल्फा-लिपोइक अम्ल पर हुए कई अध्ययनों में पता चला है कि यह मधुमेह के रोगियों में तंत्रिका तंत्र की समस्याओं (पेरिफरल न्यूरोपैथी और ऑटोनोमिक न्यूरोपैथी) को भी घटाता है। लेकिन ज्यादातर अध्ययनों में अल्फा-लिपोइक अम्ल को नसों के माध्यम से इस्तेमाल किया गया था और यह निश्चित नहीं है कि इसे मुँह से लेने पर भी क्या वैसे ही लाभ मिलते हैं।

पालक का ‘लो ग्लाईसेमिक इंडेक्स’, आपकी ब्लड शुगर में अप्रत्याशित उछाल आने से रोकता है। द टेलीग्राफ में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, इंग्लैंड के शोधार्थियों ने पाया है कि हर रोज एक कप से थोडा सा ज्यादा पालक खाने से टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा 14 प्रतिशत तक कम हो जाता है। पालक प्री-डायबिटीज, मधुमेह या अन्य प्रकार के मेटाबोलिक सिंड्रोम वाले लोगों के लिए बहुत फायदेमंद है।

14. रक्तचाप को नियंत्रित रखता है पालक

Spinach Regulates Blood Pressure in Hindi: उच्च रक्त चाप (High Blood Pressure) शरीर में कई रोगों का जन्मदाता माना जाता है। यह दिल, दिमाग और किडनी समेत ज्यादातर अंगों को नुकसान पहुँचाता है। चूँकि पालक में पोटैशियम की अधिकता होती है और सोडियम की न्यूनता होती है, इसीलिये यह उन लोगों के लिये बहुत अच्छा भोजन है जो हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित हैं।

क्योंकि यह शरीर में सोडियम के प्रभावों को घटाने में मदद करके, उच्च रक्तचाप को कम करने में अत्यंत सहायक होता है। इसके अलावा पालक में पाये जाने वाले एंटीऑक्सिडेंट्स, नाइट्रेट्स और विशेष पेप्टाइडस भी रक्तचाप को कम करने में बहुत फायदेमंद होते हैं। हालिया शोध में पता चला है कि पालक में उपस्थित पेप्टाइड्स में एंटीहाइपरटेन्थैड प्रभाव होता है, जो रक्तचाप को नियंत्रण में लाते हैं।

ध्यान दीजिये, उच्च रक्तचाप की समस्या को पनपाने में पोटैशियम की कम मात्रा लेना भी उतने ही बडे खतरे की बात है जितनी कि सोडियम की ज्यादा मात्रा लेना। पोटैशियम से भरपूर दूसरे आहारों में एवोकेडो, केला, आलू, टमाटर, लीमा बीन्स और संतरे मुख्य हैं। अगर आप अपना रक्तचाप कम करना चाहते हैं, तो अपने भोजन में पालक को जरुर शामिल करें।

15. शरीर में आयी सूजन को कम करता है पालक

Spinach Prevents Inflammation in Hindi: वैसे तो पालक में एक दर्जन से ज्यादा यौगिक (Compounds) पाये जाते हैं जिनका अपना-अपना महत्व है, लेकिन पालक में सूजन को कम करने वाले तत्व (Anti-inflammatory Substance) भी होते हैं। नियोजैन्थिन (Neoxanthin) और वाइलाजैन्थिन (Violaxanthin) नामक यह यौगिक शरीर में आयी सूजन को कम करते हैं।

इसके अलावा, पालक अल्फा-लिनोलेनिक एसिड (A. L. A) का भी अच्छा स्रोत है जो शक्तिशाली एंटी-इंफ्लेमेटरी गतिविधि को प्रदर्शित करता हैं। शोधकर्ताओं ने पालक में एक दर्जन से भी अधिक फ्लेवेनोइड यौगिकों की पहचान की है, जो एंटी-कैंसर और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से समृद्ध हैं।

यह न केवल ह्रदय की सुरक्षा करते हैं, बल्कि खतरनाक सूजन और कैंसर को रोकने में भी सहायक है। पालक में उपस्थित यह यौगिक, गठिया जैसे रोगों में उभरने वाली सूजन और इससे संबंधित दर्द को कम करते है, जिससे आज लाखों लोग पीड़ित हैं।

16. तनाव और अवसाद को दूर करता है पालक

Spinach Saves from Depression in Hindi: पालक तनाव और अवसाद से छुटकारा दिलाने में आपकी मदद कर सकता है, क्योंकि इसे खाने से हाइपरटेंशन की समस्या में कमी आती है। इसके अलावा यह बेचैनी और चिडचिडेपन को कम करने में भी लाभदायक है। जानकारी के लिये बता दें कि हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर की वजह से किडनी और हृदय संबंधी कई बीमारियां पैदा हो जाती हैं।

पालक में पाये जाने वाले पोषक तत्व, शरीर में पोटैशियम की मात्रा को नियंत्रित करके, सोडियम-पोटैशियम संतुलन को कायम रखते हैं। पालक में मौजूद विटामिन C भी हाइपरटेंशन को दूर करने में मदद करता है।

17. पेट के अल्सर को रोकने में मदद करता है पालक

Spinach Prevents Gastric Ulcer in Hindi: एक अध्ययन में पाया गया है कि पालक और कुछ अन्य सब्जियों में पेट की श्लेष्मा झिल्ली (Mucous Membrane of Stomach) की सुरक्षा करने की क्षमता होती है, जिससे गैस्ट्रिक अल्सर होने की संभावना को रोका जा सकता है।

इसके अलावा, पालक में पाये जाने वाले ग्लाईकोग्लिसरोलिपिड (Glycoglycerolipids), पाचन तंत्र की अंदरूनी ताकत को और ज्यादा बढ़ाते है, जिससे शरीर के उस हिस्से में किसी भी प्रकार की अवांछित सूजन पनप नहीं पाती।

Wonderful Health Benefits of Spinach in Hindi

18. पालक माँसपेशियों की स्टेमिना/ताकत बढाता है

Spinach Enhance Stamina of Muscles in Hindi: पालक का एक घटक है – कारक C0-Q10, यह एंटीऑक्सिडेंट मांसपेशियों को मजबूत करने में विशेष भूमिका निभाता है। विशेषकर हृदय की मांसपेशियों को, जो हर समय शरीर के सभी हिस्सों में रक्त की आपूर्ति करती रहती है। ‘जर्नल ऑफ़ कार्डियोवास्कुलर नर्सिंग’ के अनुसार, C0-Q10 का इस्तेमाल, कई हृदय रोगों जैसे कि हाइपरलिपिडेमिया, हार्ट फैल्योर, हाइपरटेंशन और कोरोनरी हृदय रोग को रोकने के लिए किया जा सकता है।

अगर पालक और केले के समान वजन की तुलना की जाय, तो पालक में केले से कहीं ज्यादा पोटैशियम होता है। पोटैशियम न सिर्फ हड्डियों को मजबूत बनाता है, बल्कि यह पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने और माँसपेशियों के स्वास्थ्य के लिये भी जरुरी है। सिर्फ इतना ही नहीं, यह ओस्टियोपोरोसिस और स्ट्रोक का खतरा भी कम कर सकता है।

सन 2011 में ‘जर्नल सेल मेटाबोलिज्म’ में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, 300 ग्राम पालक खाने से व्यायाम के दौरान मांसपेशियों को शक्ति प्रदान करने के लिए आवश्यक ऑक्सीजन की मात्रा में लगभग पांच प्रतिशत तक की कटौती की जा सकती है। शोधकर्ताओं के अनुसार पालक में ऊर्जा बढ़ाने वाले नाइट्रेटस होते है जो मांसपेशियों को अधिक आसानी से और कुशलतापूर्वक चलाने में मदद करते हैं।

नाइट्रेट् कोशिकाओं के माईटोकोंड्रिया (कोशिकाओं का पावर हाउस) को अधिक क्षमता से कार्य करने में मदद करता हैं। लेकिन ज्यादा से ज्यादा स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने के लिए, आपको डिब्बाबंद पालक खाने की बजाय ताजा पालक खाना चाहिये।

19. पालक शरीर में खून की कमी को पूरा करता है

Spinach Prevents Anaemia in Hindi: पालक के एक इस्तेमाल के बारे में ज्यादातर लोग जानते हैं और वह है – इसकी खून का निर्माण करने की सामर्थ्य। पालक में आयरन की प्रचुर मात्रा पायी जाती है। यह वसा और कोलेस्ट्रॉल से मुक्त आयरन का एक शानदार स्रोत है। लोहा स्वस्थ कोशिकाओं, त्वचा, नाखून और बालों के निर्माण के लिये जरुरी एक अहम् मिनरल है और पालक इस महत्वपूर्ण खनिज का एक बढ़िया स्रोत है। पालक में गाजर व पत्ता गोभी के मुकाबले दोगुना आयरन होता है।

लौह तत्व, रक्त के अत्यंत महत्वपूर्ण घटक हीमोग्लोबिन का बेहद जरुरी तत्व है। सभी जानते हैं कि हीमोग्लोबिन ही शरीर की प्रत्येक कोशिका तक ऑक्सीजन पहुँचाने के लिये जिम्मेदार है। इसीलिये अगर शरीर में लौह तत्व की कमी हो जाती है, तो शरीर में कमजोरी और थकान रहने लगती है, जिससे आपके मस्तिष्क से लेकर सभी अंगों की कार्यक्षमता बुरी तरह प्रभावित होती हैं।

यहाँ तक कि इससे आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली तक बिगड़ सकती है। लम्बे समय तक आयरन की कमी बने रहने से, शरीर में खून की कमी यानि एनीमिया का रोग हो जाता है और फिर उस स्थिति में रोगी की जान बचाने के लिये उसे रक्त चढ़ाना पड़ता है। इसीलिये सप्ताह में कम से कम 2 बार पालक का सेवन जरुर करें। क्योंकि एक कप पालक, आयरन की रोजाना की मात्रा का लगभग 35 प्रतिशत तक प्रदान करता है।

20. पालक शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालता है

Spinach Detoxify Your Body in Hindi: क्या आप जानते हैं कि पालक आपके शरीर से अशुद्ध और विषैले पदार्थों को बाहर निकालकर उसे डीटोक्सिफाई करता है। पालक के पत्तों का गहरा हरा रंग उनमें समाहित क्लोरोफिल की उपस्थिति को दर्शाता है। यह क्लोरोफिल आपके यकृत और बड़ी आँत में बनने वाले जहरीले बाईप्रोडक्ट्स को शरीर से बाहर निकालने में बहुत मददगार सिद्ध होता है।

क्लोरोफिल की अन्य खूबी यह है कि इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी मौजूद होते हैं, जो शरीर की कई सूक्ष्म परिजीवियों और सूजन से सुरक्षा करते हैं। इसके लिये आप पालक का सूप, दलिया या रस बनाकर पी सकते हैं। ऐसी ही एक हेल्दी स्मूथी को आप घर पर इस तरह से बना सकते हैं –

सबसे पहले 1 कप साफ़-सुथरे पालक के पत्ते लें। फिर उन्हें 1 कप जमे हुए अनानास के टुकड़ों, आधा कप जमे हुए केले, 1 चम्मच कटे हुए अदरक, एक चम्मच चिया बीज, आधे नींबू का रस, और एक कप पानी के साथ एक ब्लेंडर में अच्छी तरह मिक्स कर लें। अब इसमें थोडा सा काला नमक औरे जीरे का चूर्ण डालकर पी जायें। यह एक पौष्टिक, स्वास्थयवर्धक और डिटॉक्सिफायर ड्रिंक है जो आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों बाहर निकाल देगी।

21. भ्रूण के विकास में अहम् योगदान देता है पालक

Spinach is Crucial in Fetus Development in Hindi: पालक गर्भवती स्त्रियों के लिये भी बहुत फायदेमंद है, क्योंकि यह उनके गर्भ में पल रहे बच्चे को स्वस्थ रहने में मदद करता है। पालक में पाया जाने वाला विटामिन A बच्चे के फेफड़ों के विकास के लिये आवश्यक होता है, इसीलिये डॉक्टर गर्भावस्था के दौरान इसे उच्च मात्रा में लेने की सलाह देते हैं। चूँकि इसे स्तनपान के दौरान भी स्थानांतरित किया जा सकता है, अतः माँ को बच्चे के जन्म के बाद भी पालक खाना जारी रखना चाहिये।

पालक में पाया जाने वाला फोलेट, गर्भ में बढ़ते भ्रूण के लिये आवश्यक होता है, क्योंकि इसे अपने नये तंत्रिका तंत्र के सही विकास के लिये इसकी जरुरत होती है। फोलेट की कमी के कारण, बच्चे को गर्भ में ही तालू की दरार या स्पाइना बिफिडा (Cleft Palate or Spina Bifida) जैसे गंभीर न्यूरोलोजिकल डिसऑर्डर का सामना करना पड़ सकता हैं।

22. बालों की मजबूती के लिये भी जरुरी है पालक

Spinach Makes Your Hair Strong in Hindi: आपको अपने बालों को स्वस्थ रखने के लिये हजारों रूपये खर्च करने की कोई जरुरत नहीं है, क्योंकि पालक में उपस्थित विटामिन A और C नेचुरल ब्यूटी प्रोडक्ट के रूप में काम करते हैं। पालक में विटामिन A की प्रचुर मात्रा पायी जाती है जो बालों को नमीयुक्त बनाये रखने के लिये जरुरी सेबम के उत्पादन के लिये अनिवार्य है। विटामिन A त्वचा और बालों सहित, शरीर के सभी उतकों की वृद्धि के लिये भी बहुत जरुरी है।

पालक और दूसरी पत्तेदार हरी सब्जियाँ जिनमे विटामिन C काफी मात्रा में होता है, कोलाजेन के निर्माण और मरम्मत के लिये जरुरी हैं। क्योंकि कोलाजेन ही त्वचा और बालों को संरचना प्रदान करता है। शरीर में लौह तत्व की कमी (Iron Deficiency), बालों के गिरने की आम वजह है, जिसे पालक जैसे आयरन-रिच फूड की पर्याप्त मात्रा लेने से रोका जा सकता है।

जीवनसूत्र को अपना प्यार बाँटें
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •