Innovation Meaning in Hindi for Innovative People

 

“न्यूटन के संकेत समझने से पहले भी सेब अनेकों के सिर पर गिरा था। फ्रेंकलिन के संकेत समझने से पहले भी बिजली अनेकों बार चमकी थी। कुदरत हमें बार-बार इशारा करती रहती है। यह हमें बार-बार इशारा करती है और एकाएक हम उसका इशारा समझ जाते हैं।”
– रॉबर्ट फ्रॉस्ट

 

Innovation Meaning in Hindi for Innovative People
Successful बनना चाहते हैं तो Innovative बनें

Meaning of Innovation in Hindi इनोवेशन का अर्थ

Innovation के हिंदी में कई Meaning (अर्थ) हैं, जिनमे से प्रमुख और सबसे अधिक प्रसिद्ध अर्थ हैं – नवाचार, नवोन्मेष और नवप्रवर्तन। इनके अतिरिक्त कुछ अन्य प्रचलित शब्द जैसे नवरचना, नवीन मार्ग, नवीन प्रक्रिया, नयी पद्धति भी Innovation के हिंदी Meaning के रूप में इस्तेमाल किये जाते हैं। उत्तर भारत के गाँव-देहातों में बहुत अधिक बोला जाने वाला शब्द जुगाड़ भी इसी Innovation शब्द का ही मंतव्य प्रकट करता है।

इन सभी शब्दों का तात्पर्य किसी Product (उत्पाद), Process (प्रक्रिया) या Service (सेवा) में ऐसा परिवर्तन लाने से है जो एक क्रांतिकारी बदलाव होने के साथ-साथ नया और उपयोगी भी हो। भले ही यह परिवर्तन थोडा या बहुत बडा क्यों न हो। नवाचार किसी भी रूप में सामने आ सकता है – जैसे कोई नया उत्पाद, नयी तकनीक, नयी कार्य-पद्धति, नयी सेवा या फिर नयी विधि।

वास्तव में Innovation (नवाचार) का सम्बन्ध बदलाव यानि परिवर्तन से है। यह किसी चीज़ को उससे अलग करना है जैसा आपने पहले किया था। यह किसी चीज के लिये उस प्रयत्न को करने जैसा है जिसे आपने पहले नहीं किया है, और जिसे करने पर आपको अपने अस्तित्व के प्रति असुरक्षा की भावना महसूस होने लगे।

Definition of Innovation in Hindi नवाचार की परिभाषा

Merriam-Webster Dictionary में Innovation की परिभाषा कुछ इस प्रकार से दी गयी है –

Innovation can be simply defined as a “new idea, creative thoughts, new imaginations in form of device or method”.

“नवाचार को सरल शब्दों में उपकरण या पद्धति के रूप में एक उपाय, रचनात्मक विचारों और नयी कल्पनाओं के रूप में परिभाषित किया जा सकता है।”

Innovation का तात्पर्य एक ऐसी नयी चीज या पद्धति से है जो मौलिक और अधिक प्रभावशाली होने के साथ-साथ समाज और बाजार में भी सराही जाय, एक क्रांति लाये। Innovation पर 50 से भी अधिक परिभाषाएँ दी गयी हैं, लेकिन उनमे से Crossan (क्रोसन) और Apaydin (अपयडिन) के द्वारा दी गयी परिभाषा सबसे सारगर्भित और पूर्ण है –

“Innovation is production or adoption, assimilation, and exploitation of a value-added novelty in economic and social spheres; renewal and enlargement of products, services, and markets; development of new methods of production; and the establishment of new management systems. It is both a process and an outcome.”

“नवाचार आर्थिक और सामाजिक क्षेत्र में एक मूल्य जोड़ने वाली नवीनता का उत्पादन या स्वीकृति, परिपाक और दोहन है; उत्पादों, सेवाओं, और बाजारों का नवीनीकरण और विस्तार है; उत्पादन की नयी पद्धतियों का विकास है; और नये प्रबंध तंत्रों का स्थापन है। यह एक प्रक्रिया भी है और परिणाम भी।”

 

Examples of Innovation in Hindi नवोन्मेष के उदाहरण

उदाहरण के लिये – 3G तकनीक Communication और Internet के क्षेत्र में एक Innovation है और अब विकसित की जा रही 4G और 5G तकनीकें भी भविष्य में एक Technological Innovation मानी जायेंगी। Mobile World में Apple का पहला Smartphone एक Innovative Product (नव उत्पाद) था जिसे दुनियाभर में हाथो-हाथ लिया गया।

Medical World में ईजाद हुई X-ray, MRI और Dialysis Machines तथा Angeoplasty और Organ Transplantation जैसी नयी विधियाँ भी Innovation का ही उत्पाद थीं। खेती में काम आने वाले औजार जैसे ट्रेक्टर, हार्वेस्टर, ड्रिप इरीगेशन आदि सब Innovation की ही उपज हैं।

इनके अतिरिक्त, कंप्यूटर, सॉफ्टवेर, चिकित्सा समेत दूसरे उद्योग धंधों में समय-समय पर विकसित होने वाले ऐसे उत्पाद जो न केवल अनूठे और उपयोगी हों, बल्कि जिनसे लोगों के जीवन पर एक व्यापक प्रभाव पड़े, भी नवाचार का ही हिस्सा हैं। हमें आशा है अब आप Innovation का Meaning भली-भांति समझ गये होंगे।

Types & Measurement of Innovation in Hindi नवोन्मेष के प्रकार व मापन

आजकल अनेकों प्रकार के Innovations (नवाचारों) की बात की जाती है। उनमें से कुछ इस प्रकार हैं – Technologial Innovation (तकनीकी नवाचार), Service Innovation (सेवा नवाचार), Business Model Innovation (व्यापार मॉडल में नवाचार), Design Innovation (अभिकल्प/डिजाइन नवाचार) और Social Innovation (सामाजिक नवाचार)।

Innovation को मापने के लिये कई Indices (सूचकांक) उपलब्ध है और वे Bloomberg Innovation Index, Global Innovation Index, Innovation 360 और Oslo Manual जैसे दूसरे कई Scales के आधार पर इसकी Ranking करते हैं। कई शोध अध्ययन Innovation के स्तर के आधार पर देशों का वर्गीकरण करते हैं।

जिनमे उनका मुख्य ध्यान तकनीकी कंपनियों (High-tech Companies), विनिर्माण (Manufacturing), पेटेंट्स (Patents), उच्चतर माध्यमिक शिक्षा (Post Secondary Education), शोध और विकास (Research and Development) और शोध में सलंग्न व्यक्तियों (Research Personnel) पर होता है। हालाँकि इन अध्ययनों के नतीजे कई बार बहुत अलग होते हैं।

जैसे Bloomberg Innovation Index के अनुसार दक्षिण कोरिया संसार का सबसे Innovative Country है, जबकि Global Innovation Index के अनुसार स्विट्ज़रलैंड संसार का सबसे Innovative Country है। नीचे दी जा रही Table में आप दुनिया के दस सबसे Innovative Country की Ranking सरलता से देख सकते हैं जिसे Bloomberg और Global Innovation Index के आधार पर तैयार किया गया है।

इस सूची से आप यह आसानी से समझ सकते हैं कि भारत आज भी Innovation के क्षेत्र में संसार के दूसरे देशों से कितना पीछे है –

 

Power of Innovation in Hindi नवाचार की ताकत

पिछले पाँच वर्षों में भारत में Start-up की संख्या तेजी से बढ़ी है और प्रत्येक वर्ष 100,000 से भी ज्यादा नये स्टार्ट अप संगठन खड़े हो रहे हैं। हालाँकि यदि Start-up की Growth Rate को देखा जाय तो हम USA, UK, Japan और दूसरे कई यूरोपीय देशों से अब भी बहुत पीछे हैं। उदाहरण के लिये संयुक्त राज्य अमेरिका में स्टार्ट-अप की संख्या करोड़ों में है। United States Census Bureau के आँकड़ों के अनुसार बिना पारिश्रमिक के काम करने वाले व्यवसायों की संख्या सन 2014 में लगातार पाँचवें वर्ष 22 मिलियन से भी उपर रही।

इस तरह के Businesses में Sole Proprietorships, Corporations और Partnerships तीनों तरह के व्यवसाय शामिल हैं। विलियम बोस्टिक जूनियर (William Bostic Jr.) जो Census Bureau के Economic Programs के Associate Director हैं के अनुसार – “Nonemployer Businesses (बिना किसी नियोक्ता का व्यवसाय) Entrepreneurship (उद्यमिता) का सबसे परिशुद्ध रूप है जिसमे घर से ही परिचालित होने वाले व्यवसाय भी शामिल हैं।”

21वीं शताब्दी (21st Century) की एक बड़ी उपलब्धि यह भी है कि इसने Creativity और Innovation जैसे शब्दों को वास्तविक जीवन में न सिर्फ चरित्रार्थ होते हुए देखा बल्कि इन्होने सारे संसार का स्वरुप ही बदलकर रख दिया। सोचिये आज से 200-300 साल पहले तक कौन मान सकता था कि सिर्फ बर्गर और पिज्जा जैसे खाने के उत्पादों के जरिये भी अरबों-खरबों रूपये का व्यवसायिक साम्राज्य खड़ा किया जा सकता है?

लेकिन यह सब संभव हुआ उस रचनात्मकता और नवप्रवर्तन (Innovation) के कारण जिसने Modern Business का स्वरुप और उसे चलाने के तरीकों दोनों को बदलकर रख दिया। निश्चित रूप से Innovative होने से आपके Business को एक Competitive Edge मिलती है, लेकिन एक Innovative Mindset विकसित करना आसान काम नहीं है और यह हमेशा Naturally Possible भी नहीं होता है। वास्तव में Innovation में सबसे मुश्किल चीज जो है वह यह है –

“Innovation is considered difficult for most individuals and organizations because of their fear to lose what they have.”

“नवप्रवर्तन या नवाचार ज्यादातर लोगों और संगठनों के लिये इसलिये मुश्किल समझा जाता है क्योंकि उन्हें उसे खोने का डर रहता है जो उनके पास होता है।”

जानिये क्या हैं शानदार सफलता पाने के अचूक सिद्धांत – Ultimate Success Tips in Hindi

Importance of Innovation in Hindi नवोन्मेष का महत्व

Innovation Business, Technology और Economy के क्षेत्र में प्रयुक्त किया जाने वाला बेहद महत्वपूर्ण शब्द है। आज लगभग प्रत्येक उद्योग अपने Competitors को पीछे छोड़ने के लिये Innovation की राह पर चल रहा है। जो संगठन (Organisation) Innovation में पिछड जाते हैं उनका देर-सवेर नाश होना तय है, क्योंकि उनका स्थान नवाचार में सफल हुई संस्थायें ले लेतीं हैं।

पर ऐसा नहीं है कि Innovation की आवश्यकता सिर्फ Business और Technology के Field तक ही सीमित है। यह सामाजिक संस्थाओं पर भी उतना ही लागू होता है जितना कि Industrial World पर। स्कूल-कॉलेज, अस्पताल, विश्वविद्यालय, ग्राम-पंचायतें, NGOs, आदि सभी Innovation के वाहक बन सकते हैं।

Innovation यानि नव प्रवर्तन या नवाचार का Creativity से बड़ा सम्बन्ध है, क्योंकि Creative लोगों में ही Innovation लाने की क्षमता होती है। Creativity मानवीय व्यक्तित्व का एक विशिष्ट गुण है, जो सभी मनुष्यों में देखने को नहीं मिलता है। इसका तात्पर्य यह नहीं है कि उनमे Innovation लाने की क्षमता का पूर्णतया अभाव होता है, बल्कि यह उनमे सिर्फ एक बीज के रूप में अवस्थित होती है।

जबकि Creative लोगों में यह विकसित होकर उनके कार्यों से मुखर होकर झलकती है। अंतर सिर्फ इतना है कि उन्होंने कुछ पाने के लिये, अपने इस विशिष्ट गुण को लम्बे समय तक विकसित किया, उसे अपने जीवन में उतारा। प्रत्येक व्यक्ति Innovation को अपने व्यक्तित्व का एक घटक बनाकर इससे इच्छित लाभ उठा सकता है।

आज संसार की सभी बड़ी कम्पनियाँ Innovation पर अपना बहुत सारा श्रम, समय और पैसा खर्च कर रही हैं। Innovation के कारण ही आज Innovative लोगों की Demand इतनी बढ़ी हुई है कि प्रत्येक संगठन उन्हें अपने साथ लाने के लिये तैयार है।

जानिये कैसे हासिल करें Interview में सुनिश्चित कामयाबी अपनी Dream Job पाने के लिये – Best Interview Tips in Hindi

 

How to Be Innovative in Hindi नव प्रवर्तक कैसे बनें

Innovation के कारण ही पिछले दस वर्षों में दुनिया भर में करोड़ों स्टार्ट-अप उठ पाये हैं, इसीलिये Innovation की जीवन में क्या महत्ता है इसे बताने की जरुरत नहीं। अब असली समस्या है कि हम खुद को कैसे Innovative बनायें? वैसे तो Innovation पर कई लेख व पुस्तकें उपलब्ध होंगी, पर हमें आशा है कि नीचे दिये जा रहे कुछ तथ्य, जो संसार के सफल लोगों के जीवन के अनुभव से प्राप्त हैं, Innovation को विकसित करने की दिशा में विशेष सहायक होंगे –

1. Get Curious जीवन व संसार के प्रति जिज्ञासु बनिये

जिज्ञासा प्रकृति द्वारा मनुष्य को उपहारस्वरूप प्रदान किया गया जन्मजात सद्गुण है, जो हर बच्चे में नैसर्गिक रूप से उपस्थित होता है। इसी के आधार पर वह संसार की हर छोटी-बड़ी चीज़ को अपने-अपने तरीके से समझते हुए बड़े होते हैं, लेकिन एक समय के बाद उनकी यह प्रवृत्ति धीरे-धीरे दम तोड़ने लगती है। महान वैज्ञानिक आइंस्टीन के शब्दों में कहें, तो हमारी यह गलत और निष्प्रयोज्य शिक्षा प्रणाली ही इसे नष्ट करने के लिये उत्तरदायी है।

जो व्यक्ति को एक ही क्षेत्र तक सीमित कर देती है और असीम संभावनाओं के कितने ही क्षितिज अनछुए ही रह जाते हैं। Innovation का यह अनोखा गुण सच्ची जिज्ञासा का उत्पाद है। अपने बुद्धि-विवेक को विस्तार दीजिये और इस दुनिया को इसके यथार्थ स्वरुप में देखिये। आप चाहे सांसारिक क्षेत्र में हों या आध्यात्मिक क्षेत्र में, यदि आप रचनात्मक रूप से कोई विशिष्ट कार्य करना चाहते हैं, तो अपने जीवन और अपने आस-पास की दुनिया पर एक गहन दृष्टि रखिये।

उस विचार को जो मौलिक और उर्वर है, जो आपकी कल्पना की, आपके मस्तिष्क की उपज है, उसे उसके क्षेत्र की अंतिम सीमा तक ले जाइये, उसमे डूब जाइये। आपकी चिंतनशक्ति उससे सम्बंधित समस्त रहस्यों को धीरे-धीरे एक-एक करके उजागर कर देगी और जब यह स्पष्ट और दृढ हो जाय, तो फिर इसे यथार्थ रूप देने में जुट जाइये, क्योंकि आपके Innovation की अभिव्यक्ति का स्थान यह संसार और यह जीवन ही है।

अपनी रूचि के क्षेत्र से संबंधित विषय में जानकारी आप कई स्रोतों से हासिल कर सकते हैं। जैसे – MIT और Harvard University जैसे विश्व विख्यात संस्थान कई प्रकार के Free Online Course संचालित करते हैं। इसके अतिरिक्त Coursera पर भी कई Free Online Course उपलब्ध हैं जो न केवल आपकी जिज्ञासा को तृप्त करेंगे, बल्कि आपको कई नये Ideas भी देंगे।

मानना असंभव है पर सच है कि आपके बोलने की शैली आपकी दुनिया बदल सकती है, जानें कैसे – Top Communication Skills Tips in Hindi

2. Enhance Sensibility अपनी संवेदनशीलता का क्षेत्र विस्तृत कीजिये

संवेदनशीलता (Sensibility) मनुष्य के चरित्र का एक अनोखा गुण है। यदि सीमा में रहे, तो मनुष्य की छिपी हुई प्रतिभा और सद्गुणों को उजागर करने में समर्थ है और यदि सीमा से बाहर चला जाय, तो समस्याएँ पैदा होते देर नहीं लगती। संवेदनशीलता भी व्यक्ति के अंदर के Innovation को Develop करने में सक्षम है, पर तब जब यह आपमें कर्तव्य के प्रति बोध की भावना को जाग्रत कर सके।

जैसे कुछ वर्ष पहले गुजरात के एक किसान ने किसानों की हल से खेत जोतने में आने वाली समस्याओं को देखकर बहुत ही कम कीमत में एक उपयोगी मशीन बनाकर तैयार कर दी, जो ट्रेक्टर का अच्छा विकल्प थी। ऐसे ही एक अन्य व्यक्ति ने मिटटी का प्रशीतक बनाकर सस्ते रेफ्रीजरेटर का विकल्प तैयार कर दिया था।

महात्मा गाँधी को अन्याय का प्रतिरोध करने का एक सशक्त मार्ग अहिंसा के रचनात्मक विचार के रूप में मिला, सर्वस्व त्याग की प्रेरणा अपने चम्पारण प्रवास के दौरान मिली। जब उन्होंने वहाँ की स्त्रियों को अपना जीवन सिर्फ एक साडी में व्यतीत करते देखा। रेडक्रॉस के संस्थापक जीन हेनरी डूनांट को इसकी स्थापना की प्रेरणा तब मिली, जब उन्होंने सोल्फेरिनो के भीषण युद्ध में मरने वाले और घायल हुए हजारों लोगों को देखा।

और ऐसे पीड़ितों की सेवा-सुश्रुषा के लिये एक विशेष संगठन की स्थापना करने के एक Innovative Idea (नवीन प्रवर्तनयुक्त विचार) ने उनके संपूर्ण जीवन की दिशा परिवर्तित कर दी। न जाने कितने संगठनों की स्थापना इस संवेदनशीलता के कारण संभव हुई, जिसने उनके संस्थापकों की रचनात्मकता को विकसित करने में, उसे व्यक्त करने में अहम् भूमिका निभाई।

संवेदनशीलता कोरी भावुकता का नाम नहीं है, बल्कि इसमें उत्तरदायित्व का एक भाव समाया है। इसे अपने और अपने प्रियजनों तक ही सीमित मत रखिये, बल्कि दूसरों के जीवन तक विस्तार दीजिये। विन्सेंट वों गौघ की यह उक्ति क्या इसी ओर सन्देश देती प्रतीत नहीं होती –

“हमें नहीं भूलना चाहिये कि छोटे-छोटे भाव ही हमारे जीवन के महान नायक हैं और हम इसे बिना जाने ही उनका पालन करते हैं।”

क्यों Career में आगे बढ़ने के लिये बेहद जरुरी है Teamwork और Team Management Skills – Team Work Meaning in Hindi

3. Take Risks खतरा उठाने की क्षमता पैदा कीजिये

Innovative लोगों की एक खास खूबी यह होती है कि वे खतरा उठाने से कभी नहीं डरते। आप भी अपने भीतर इस क्षमता को पैदा कीजिये। परिणाम की कोई चिंता किये बिना, दूसरों की राय की परवाह किये बिना आपको अपने विचार को क्रियान्वित करने में पूर्ण मनोयोग से जुट पड़ना है। आप स्वयं को किसी समय सीमा में नहीं बाँध सकते हैं। नाकामयाबी के डर से आपको निश्चित ही पार पाना होगा।

यदि परिणाम की चिंता रही, तो असफलता का भय आपको कभी भी आपकी इच्छित वस्तु हासिल नहीं होने देगा। प्रत्येक स्थिति में आपको अपनी ज्ञात सामर्थ्य की सीमा के क्षेत्र से बाहर निकलना ही होगा। यह सच है कि कोई भी इन्सान नाकामयाब नहीं होना चाहता है क्योंकि इससे निर्णय और आलोचना के द्वार खुल जाते हैं।

लेकिन याद रखिये प्रयोग करना और असफल हो जाना सीखने की प्रक्रिया का ही हिस्सा है, इससे बचकर आप Innovation की राह पर नहीं चल सकते हैं। विद्युत् बल्ब का आविष्कार करते समय, एडिसन करीब 10000 Experiments में Fail हो गये थे और इस काम में उन्हें सफल होने में लगभग दस साल लग गये थे।

रात-दिन का अथक परिश्रम और उनका कितना ही पैसा इस प्रयोग में खर्च हो गया था। कोई सामान्य जीवट वाला और तत्काल परिणाम चाहने वाला कोई व्यक्ति होता, तो कब का इसे बोझ समझकर छोड़ चुका होता। पर यह एडिसन थे, जिन्हें चुनौतीपूर्ण कार्यों को ही करने में आनंद आता था, जिनमे जोखिम लेने की प्रवृत्ति स्वाभाविक रूप से थी।

अपने बचपन में ही उन्होंने रेल के डिब्बे में प्रयोग करने का खतरा उठाया और जब उसमे आग लगने के कारण उनका रेल में प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया गया, तो उन्होंने घर को ही अपनी प्रयोगशाला बना डाला था। लेकिन किसी भी दशा में कार्य रोकना स्वीकार नहीं किया।

उनकी यही विशेषता उनकी रचनात्मक क्षमता को निरंतर विस्तार देती चली गयी और फिर उनके लिये प्रकृति के वह ज्ञात-अज्ञात क्षेत्र खुल गये, जहाँ वह अपनी रचनात्मकता का सार्थक उपयोग कर सकते थे। लियो बुस्काग्लिया की यह प्रसिद्ध उक्ति शायद Innovative लोगों के इस गुण पर बिल्कुल सही बैठती है।

“खतरा अवश्य उठाया जाना चाहिये। क्योंकि जीवन में सबसे बड़ा खतरा कोई खतरा न उठाने में है। खतरे में हम अपनी सीमाओं से बहुत आगे बढ़ जाते हैं।”

जानिये क्या है Creativity और क्यों यह Innovation के लिये सबसे जरुरी चीज मानी जाती है – Creative Meaning in Hindi

4. Have Firm Enthusiasm अपने विचारों को मूर्त रूप देने के लिये प्रचंड उत्साह रखिये

Innovation विकसित करने के लिये सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक है – जीवट, अप्रतिम उत्साह। परिणाम की कोई चिंता किये बिना, अपने सार्थक विचार को संभव करने में जुट जाना। परन्तु वह विचार कोई कल्पनामात्र नहीं होता, वह आपके अनुभव और ज्ञान का सार होता है, जिसे केवल आपने ही अनुभव किया होता है। महान वैज्ञानिक और आविष्कारक थॉमस एल्वा एडिसन को इस शताब्दी के सबसे बड़े Innovative लोगों में से एक माना जा सकता है।

क्योंकि उन्होंने अपने जिस विचार को फलोत्पादक समझा, उसे क्रियान्वित करने में पूरी सामर्थ्य लगा दी, किसी भी परिणाम की चिंता किये बिना। फिर चाहे वह बाद में कितना ही गलत क्यों न सिद्ध हुआ हो, उसे पूरा करने में कितना ही परिश्रम, धन और समय क्यों न व्यर्थ हुआ हो और यह उसी उत्साह के कारण है कि किसी एक व्यक्ति द्वारा हासिल किये गये सर्वाधिक पेटेंट इन्ही के नाम दर्ज हैं।

अकेले संयुक्त राज्य अमेरिका में ही इनके नाम पर लगभग 1093 पेटेंट दर्ज हैं, इसके अतिरिक्त अनेकों यूरोपीय देशों में भी एडिसन के नाम पर कई पेटेंट हैं। आज जहाँ किसी वैज्ञानिक की पूरी जिंदगी केवल एक अदद Patent हासिल करने में गुजर जाती है, और न जाने कितनों को असफल ही रह जाना पड़ता है, वहाँ उनकी यह उपलब्धि असाधारण है। हेनरी मटीस्से ने रचनात्मक प्रतिभा को कुछ इन शब्दों में बयाँ किया है –

“Creative people are curious, flexible, persistent, and independent with a tremendous spirit of adventure and a love of play.”

“रचनात्मक लोग जोखिम लेने की अदभुत जीवट और खेलने के शौक़ीन होने के साथ-साथ, जिज्ञासु, नम्र, डटे रहने वाले और भी आत्मनिर्भर होते हैं।”

यदि इस कथन को गहराई से समझा जाय, तो कहा जा सकता है, विचारों की नवीनता और उत्साह ही Innovative लोगों का प्राण है। Innovation में ज्ञान इतना महत्वपूर्ण नहीं है जितना कि आपकी अलग ढंग से सोचने की काबिलियत, आपकी जीवट व जिज्ञासा।

इसीलिये यदि आप Innovative होना चाहते हैं, तो आपमें अपनी जिज्ञासा को संतुष्ट करने लायक भरपूर उत्साह होना चाहिये। लम्बे समय तक कड़ी मेहनत करने लायक धीरज रखिये, संवेदनशील बनिये और जोखिम उठाइये, तभी Innovation आपके लिये कोई असाधारण परिणाम प्रस्तुत कर सकेगा।

“रचनात्मकता का एक अनिवार्य पहलू असफल होने से नहीं डरना है।”
– एडविन एच. लैंड

 

Comments: आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि जीवनसूत्र को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। एक उज्जवल भविष्य और सुखमय जीवन की शुभकामनाओं के साथ!

Spread Your Love
  • 1
    Share