Change Your Life: What is Positive Attitude in Hindi

 

“दुनिया की कोई भी चीज, सही मानसिक द्रष्टिकोण रखने वाले व्यक्ति को, उसका लक्ष्य हासिल करने से नहीं रोक सकती और धरती पर कोई भी उस आदमी की मदद नहीं कर सकता, जिसका मानसिक द्रष्टिकोण गलत है।”
– थॉमस जेफ़र्सन

 

What is Positive Attitude in Hindi
आपका नजरिया ही आपकी कामयाबी की राह तैयार करेगा

Attitude यानी द्रष्टिकोण या नजरिया यूँ तो एक छोटा सा शब्द भर है, लेकिन जीवन में इसकी क्या अहमियत है, इस सन्दर्भ में यदि इसका गहराई से विश्लेषण किया जाय, तो शायद कई किताबें इसकी महत्ता का वर्णन करने में कम पड जाएँ। जिन्दगी मे कामयाबी हासिल करने के लिए वैसे तो कई चीज़ों की जरुरत पड़ती है, पर उनमे से शायद ही कोई इतनी जरूरी हो, जितना कि हमारा Positive Attitude अर्थात सकारात्मक द्रष्टिकोण।

हर महान व्यक्ति, जिसका जीवन एक प्रेरणा के रूप में इतिहास के पन्नों में सुरक्षित है, जिन्हें संसार उनकी उस उपलब्धि के लिये, उस त्याग और समर्पण के लिये, उस आदर्शनिष्ठा के लिये आज भी याद करता है जिसे वक्त भी धुंधला नहीं कर पाया है, तो वह बस इस छोटे से शब्द को अपने जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में उतार लेने की वजह से ही है।

जानिये क्या हैं Key Skills और कैसे यह पूरी जिंदगी आपको आगे बढ़ने में मदद करती हैं – Key Skills Meaning in Hindi

Positive Attitude Changes Your World सकारात्मक नजरिया आपकी दुनिया बदलता है

परिश्रम करने वाले तो संसार में न जाने कितने हुए हैं; धनी और मानी भी न जाने कितने ही हुए हैं। लेकिन ऐसे लोग जिन्होंने सारी जिंदगी मुश्किलों से आँख-मिचौली खेलते बितायी हो और अपने सकारात्मक नजरिये के बल पर उन्हें पराभूत करके एक सच्ची कामयाबी हासिल की हो, कम ही हुए हैं।

जब कड़ी मेहनत करने पर भी असफलता पर असफलता मिलती जाती हो; जब दूसरों की निंदा और असहयोग, सहनशीलता की निरंतर परीक्षा लेते हों, तो बड़े-बड़े धैर्यवानों का संबल टूटने लगता है। इस स्थिति में जो सद्गुण व्यक्ति को शाश्वत निराशा की गोद में जाने से बचाता है, वह है – Attitude (द्रष्टिकोण)। दूसरे शब्दों में कहा जाय तो महानता, सफलता, सुख और संतोष सभी Positive Attitude के ही इर्द-गिर्ध घूमते हैं।

कितने ही लेखकों और विद्वानों ने इस दिव्य गुण की महत्ता पर ग्रंथ पर ग्रंथ लिख डाले है, पर शायद फिर भी इसकी महिमा के विषय में सब कुछ कह पाना संभव नहीं हो पाया है। कई Research में यह बात सामने आई है कि बड़ी कामयाबी हासिल करने के लिए या Top Level तक पहुँचने के लिए किसी भी आदमी की स्कूली शिक्षा या उसके क्षेत्र की जानकारी का योगदान महज 25 प्रतिशत तक ही होता है।

कामयाबी का 75 प्रतिशत भाग व्यक्ति के चरित्र और स्वभाव के गुण विशेषों पर निर्भर करता है और इन सभी Qualities में सबसे ज्यादा अहम है – Attitude अर्थात नजरिया। आइये अब जानते हैं आखिर क्या है नजरिया?

जानिये कैसे आपके बोलने की शैली आपकी दुनिया बदल सकती है – Communication Skills in Hindi: कम्युनिकेशन स्किल

 

What is Attitude in Hindi नजरिया क्या है

Attitude का हिंदी में अर्थ है – “द्रष्टिकोण जो इन दो शब्दों से मिलकर बना है – द्रष्टि+कोण, अर्थात “द्रष्टि का एक विशेष ढंग, ‘Vision with an Angle, Vision with a Different Perspective.’ इस प्रकार “चीज़ों को सामान्य द्रष्टि से हटकर एक अलग द्रष्टि से देखने की कला का नाम ही द्रष्टिकोण है। थोडा और गहराई में जाकर कहें, तो जब व्यक्ति की द्रष्टि का संयोग उसके विवेक से होता है, तब जन्म लेता है द्रष्टिकोण।”

“द्रष्टिकोण या नजरिया एक जैसी प्रतीत होने वाली परिस्थितियों और घटनाओं के बीच के सूक्ष्म अंतर को स्पष्ट करने वाली ऐसी अनोखी मानवीय क्षमता है जिसमे एक विशेष प्रकार की मानसिक विचारधारा प्रदर्शित होती है और जो एक प्रबुद्ध व्यक्ति को किसी सामान्य व्यक्ति से अलग करती है।”

हालाँकि Attitude स्वयं कई चीज़ों से प्रभावित होता है, लेकिन यह ध्यान रखने योग्य बात है कि सफलता को सबसे ज्यादा प्रभावित करने वाली चीज भी Attitude ही है।

जानिये क्या हैं Time Management Skills और कैसे Manage करें अपने समय को – Time Management Skills in Hindi

Power of Positive Attitude in Hindi सकारात्मक नजरिये की ताकत

Positive Attitude Quotes in Hindi में दी गयी इस चीनी कहावत में क्या खूब कहा गया है – “अगर आपमें कोई शाखा या पत्तियाँ नहीं हैं तो इसका दोष खुद को दीजिये; सूरज पर पक्षपात करने का दोष मत लगाइये।” यह पंक्ति बताने के लिये काफी है कि जीवन में Positive Attitude की क्या महत्ता है। वास्तव में इस जीवन में हमें जो कुछ भी सुख या दुःख हासिल हुआ है उसके लिये सिर्फ हम ही जिम्मेदार हैं, दूसरा कोई नहीं।

उदाहरण के लिये – दो व्यक्ति, जिनका जीवन कडा परिश्रम करने और मुसीबतें उठाने में बीत रहा है, अपनी दुखमय स्थिति से बाहर आने के लिए बेचैन हैं। उनमे से एक व्यक्ति मुसीबतों से घबराकर अपना कार्य छोड़कर या दुनिया छोड़कर चला जाता है; वहीँ दूसरा व्यक्ति, मुश्किलों को अपनी प्रतिभा उभारने वाला मित्र समझता है।

वह उस कठिन समय को धैर्य से सहता हुआ अपनी योग्यता बढाता है और अवसरों का लाभ उठाते हुए उन्नति की सीढियाँ चढ़ता चला जाता है। दोनों ही का जीवन मुसीबतों से घिरा हुआ था, पर एक ने अपना नजरिया नकारात्मक रखा और दूसरे ने सकारात्मक। खैर, मंजिल तो दोनों को मिली, पर एक को कामयाबी की और दूसरे को नाकामयाबी की।

इसीलिये Famous Motivator ब्रायन ट्रेसी भी कहते हैं – “एक कृतज्ञतापूर्ण द्रष्टिकोण विकसित कीजिये, और हर उस चीज़ को धन्यवाद दीजिये जो आपके साथ घटी है; यह जानकार कि हर अगला कदम कुछ बड़ा हासिल करने की ओर बढ़ा कदम है और आपकी वर्तमान स्थिति से बढ़कर है।”

क्या जानते हैं आप Teamwork और Team Management Skills जैसी Soft Skills के बारे में – Team Work Meaning in Hindi

 

Attitude Factors in Hindi नजरिया किस पर निर्भर है

वैसे तो हमारे Attitude (नजरिये) को प्रभावित करने में अनेकों कारण शामिल हैं, पर जैसे कि शिव खेडा कहते हैं – हमारे नजरिये को प्रभावित करने वाले सभी कारणों में तीन कारण मुख्य हैं – वातावरण, शिक्षा और अनुभव। हम भी अभी इनकी ही चर्चा करेंगे –

1. Environment Affects Attitude वातावरण का नजरिये पर प्रभाव

माहौल में कई चीज़ें शामिल हैं। इनमे अपने स्वभाव के अलावा वे सभी क्षेत्र भी शामिल हैं, जिनसे हम जुड़े हुए हैं जैसे – घर, स्कूल ऑफिस और सामाजिक क्षेत्र। इसके अलावा मीडिया के अनेकों रूप जैसे – T.V., Cinema, Newspaper, Books, Magazine और दूसरी कई चीजों का अच्छा और बुरा प्रभाव भी हमारे Attitude पर पड़ता है। हमारी धार्मिक मान्यताएँ, परम्पराएँ और रीति-रिवाज़ भी हमारे नजरिये पर बड़ा प्रभाव डालती हैं।

और अगर हम सचेत न हों, तो फिर यह वैसा ही रूप लेने लगता है, जैसा प्रभाव इस पर पड रहा है। उदाहरण के लिये – एक बच्चा जिसकी परवरिश अच्छे परिवार में सभ्य और सुसंस्कृत माहौल में हुई है, बड़ा होने पर सकारात्मक द्रष्टिकोण वाला युवक बनेगा, तो वहीँ एक बच्चा जो असभ्य और कुसंस्कारी माहौल में पला-बढ़ा है, बड़ा होने पर नकारात्मक नजरिया (Negative Attitude) रखने वाला होगा।

2. Education Changes Attitude शिक्षा का नजरिये पर प्रभाव

शिक्षा भी व्यक्ति के Attitude को बदलने में बेहद असरकारक होती है। शिक्षा अनगढ़ मन को सही सांचे में ढालने का एक प्रभावशाली माध्यम है, लेकिन दुःख की बात यह है कि स्कूल-कालेजों में दी जाने वाली शिक्षा महज रोटी कमाने का जरिया भर बन कर रह गयी है। व्यक्तित्व का निर्माण करने वाली और जीवन उद्देश्य को पाने के लिए आवश्यक समझ विकसित करने वाली शिक्षा का बिलकुल अभाव हो चला है।

अगर किसी व्यक्ति को शुरुआत से ही बेहतर शिक्षा मिल सके, तो उससे उसे Attitude को हमेशा Positive रखने में बेहद मदद मिलेगी, जो उसके लिए आगे चलकर एक अमूल्य सम्पदा सिद्ध होगी।

3. Experience Develops Attitude अनुभव का नजरिये पर प्रभाव

जीवन को अगर अनुभवों की एक सतत श्रंखला कहें तो कुछ गलत नहीं होगा। अनुभव स्वयं में सही और गलत कामों से पैदा हुई समझ का परिणाम है। जिंदगी में समय-समय पर होने वाले अच्छे और बुरे अनुभव हमारे जीवन के प्रति द्रष्टिकोण को निर्धारित करते हैं।

अच्छा अनुभव होने पर हमारा नजरिया भी सकारात्मक होता जाता है और अनुभव बुरा होने पर नजरिया नकारात्मक होने लगता है। देखा जाय, तो अनुभव के नतीजे, भविष्य को भी प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं। इस संसार में ऐसे न जाने कितने लोग हुए हैं जिनके सिर्फ कुछ पल के अनुभव ने उनकी पूरी जिंदगी को बदलकर रख दिया था।

जानिये क्यों Soft Skills की Demand दिन-प्रतिदिन Corporate World में बढती जा रही है – Soft Skills in Hindi क्या है सॉफ्ट स्किल्स

 

How to Change Attitude in Hindi नजरिया कैसें बदलें

एक Positive Attitude विकसित करने के लिए आपको अपने विचारों और क्रियाओं पर लगातार नज़र रखनी पड़ेगी और वह भी एक लम्बे समय तक। आप आज ही इस बात का संकल्प कर लीजिये कि आप हमेशा अच्छा ही सोचेंगे और बुरे विचारों को खुद से दूर रखेंगे। हो सकता है कि आरम्भ में आपके सामने कई मुश्किलें पेश आयें और आप उनसे विचलित हो जाँय, लेकिन हतोत्साहित न होकर आगे ही बढ़ते रहिये।

क्योंकि सुख और दुःख मन की अवस्था के ही नाम हैं। आज जो चीज़ें आपको परेशान कर रही हैं, कल वही आपके आत्मबल के सामने हार मानकर एक नये व सुखद स्वरुप में प्रकट होंगी और तब आप जो कामयाबी हासिल करेंगे, वह आपको एक असीम संतोष प्रदान करेंगी। याद रखिये एक बेहतर नजरिया विकसित किये बिना, जिंदगी में कोई भी अच्छी चीज हासिल कर पाना असंभव है।

चाहे हमारे पास सुख-सुविधा के कितने ही साधन क्यों न हों, लेकिन अगर हमारा Attitude गलत है, तो जिंदगी एक नखलिस्तान जैसी हो जाती हैं, जहाँ सुख और सफलता सिर्फ दिवा-स्वप्न हैं। नीचे दी जा रही कुछ बातें निश्चित ही हमारे नजरिये को सकारात्मक बनाने में सहायक होंगी।

जानिये क्या है Innovation और क्यों यह दुनिया के सबसे कामयाब लोगों की सफलता का राज बना – Innovation Meaning in Hindi

10 Rules for A Positive Attitude सकारात्मक नजरिये हेतु 10 नियम

1. हमेशा सही बातों को सोचने पर ध्यान दीजिये।

2. नकारात्मक लोगों या शिकायती लोगों से बचकर रहिये।

3. जीवन में समत्व लाने का अभ्यास कीजिये। दूसरों की निंदा-प्रशंसा का प्रभाव खुद पर न पड़ने दें।

4. अच्छी पुस्तकें पढ़िए, घटिया बातों को देखने-सुनने से परहेज़ रखिये।

5. आशावादी बनिये और कृतज्ञता की भावना उपजाइये।

6 . प्रकृति के अधिक से अधिक समीप रहने का प्रयास कीजिये।

7. भविष्य की चिंताओं से अपनी कमर मत तोडिये; वर्तमान में जीयें।

8. एक आध्यात्मिक जीवनशैली को अपने जीवन में उतारिये।

9. ज्ञान प्राप्ति के लिए निरंतर प्रयास कीजिये; सीखने की प्रक्रिया को मंद मत पड़ने दीजिये।

10. अपने अहं को विस्तार दीजिये। अपनी योग्यता का लाभ दूसरों को भी लेने दीजिये।

Positive Attitude वास्तव में एक अमूल्य सद्गुण है जिसके महत्व को रेखांकित करते हुए जॉन सी. मैक्सवेल ने कहा है – “आपकी और मेरी जिंदगी में सबसे महान दिन तब होगा जब हम अपने नजरियों की पूरी जिम्मेदारी स्वीकार करेंगे। यह वह दिन है जब हम वास्तव में बड़े हो जायेंगे।” यही कारण है कि Positive Attitude वाले लोग, जहाँ कहीं भी जाते हैं, वहीँ हमेशा एक खुशनुमा माहौल तैयार कर देते हैं।

लोग उनकी संगति पसंद करते हैं। वे न केवल खुद विनम्र, धैर्यवान और आत्म-विश्वासी होते हैं, बल्कि दूसरों को भी वैसा बनने को प्रेरित करते रहते हैं। हम चाहे किसी भी Field में काम करते हों; चाहे जीवन की कोई भी अवस्था हो, याद रखिये, सुख, संतोष और कामयाबी की बुनियाद सिर्फ आपका सकारात्मक द्रष्टिकोण ही है।

इस प्रेरक कहानी में पढिये कैसे Positive Attitude ने एक अमीर इंसान की जिंदगी बदलकर रख दी – Positive Attitude Story in Hindi

“आपका जीवन उन बातों से, जिन्हें जिंदगी आपके सामने लाकर रख देती है, उतना ज्यादा निर्धारित नहीं होता, जितना कि उस द्रष्टिकोण से, जो आपका जीवन के प्रति है। आपका जीवन इस बात पर कि आपके साथ क्या होता है, इतना अधिक निर्भर नहीं करता, जितनी यह बात कि आपका मन उन घटनाओं को किस तरह से देखता है, जो आपके साथ घटित हो रही है!”
– खलील जिब्रान

 

Comments: आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि जीवनसूत्र को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। एक उज्जवल भविष्य और सुखमय जीवन की शुभकामनाओं के साथ!

Spread Your Love